Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Apr 25, 2022 · 2 min read

*अंतिम प्रणाम ..अलविदा #डॉ_अशोक_कुमार_गुप्ता* (संस्मरण)

*अंतिम प्रणाम ..अलविदा #डॉ_अशोक_कुमार_गुप्ता*
■■■■■■■■■■■■■■■■■■■
महामारी का सर्वाधिक मार्मिक और कठोरता भरा प्रहार ..हृदय छलनी हो गया यह समाचार सुनकर कि डॉक्टर अशोक कुमार गुप्ता हमारे बीच नहीं रहे । विधाता कितना निर्मम हो सकता है ! उनका हंसता, मुस्कुराता हुआ चेहरा क्या कभी भुलाया जा सकता है ! सद्व्यवहार से भरा हुआ व्यक्तित्व ! सदा रामपुर की जनता के बीच हर समय सेवा को आतुर ! किसी की अस्वस्थता का समाचार सुनते ही दौड़ पड़ने वाले ! विपत्ति में पड़े हुए व्यक्तियों की परेशानियों को हल करने वाले ! जिनके एक नुस्खे से न जाने कितनों ने स्वास्थ्य की संजीवनी प्राप्त की ,क्या इस क्रूर यम को उनकी ही बलि लेनी रह गई थी !
अनेक दशकों तक जब भी उन्हें देखा, निकट संपर्क में आए ,कभी भी उन्हें क्रोध करते हुए नहीं पाया । मानो अपने जीवन में उन्होंने किसी पर कुपित होना सीखा ही न हो । सदैव चेहरे पर मुस्कान विराजती रही। जहाँ गए ,खुशियाँ बिखेरकर आए ।
अब रामपुर को ऐसा सर्वप्रिय चिकित्सक ,सद्भावना से भरा हुआ व्यक्ति, आत्मीयता के बोध से संपूर्ण सृष्टि को अपनी बाहों में भर लेने वाला वह महान – आत्मा कहाँ मिलेगा ! त्रासदी देखिए ,पीपल टोला जाकर अंतिम दर्शन करने तक के लिए निष्ठुर प्रकृति मनाही कर रही है। शोकाकुल हृदय दूर घर बैठकर प्रणाम करने के लिए विवश है । डॉ अशोक गुप्ता ! आपको श्रद्धा- पूर्वक नमन ! ! !
आप के सुपुत्र डॉक्टर अर्पित गुप्ता नगर के प्रतिष्ठित चिकित्सक हैं। आपकी सुपुत्री श्रीमती नूपुर गुप्ता उच्च शिक्षा प्राप्त चिकित्सक हैं । एक घटना याद आ रही है। जब नूपुर गुप्ता खुर्शीद गर्ल्स इंटर कॉलेज में पढ़ती थीं। हमने 28 जनवरी 2007 को सुंदर लाल इंटर कॉलेज में जाति मुक्ति रचना प्रतियोगिता का आयोजन किया था । उसमें आपकी सुपुत्री ने तत्काल कविता – लेखन में उच्च स्थान प्राप्त किया था।
दिनांक : 25 अप्रैल 2021
■■■■■■■■■■■■■■■■■
*रवि प्रकाश ,बाजार सर्राफा ,*
*रामपुर (उत्तर प्रदेश)*
*मोबाइल 99976 15451*

59 Views
You may also like:
तुझसे रूठ कर
Sadanand Kumar
धुआं उठा है कही,लगी है आग तो कही
Ram Krishan Rastogi
"मेरी कहानी"
Lohit Tamta
ईद मनाते हैं।
Taj Mohammad
“ मिलिटरी ट्रैनिंग सभक लेल “
DrLakshman Jha Parimal
अमावस के जैसा अंधेरा है इस दिल में,
Vaishnavi Gupta
हम है गरीब घर के बेटे
Swami Ganganiya
Little baby !
Buddha Prakash
✍️मेरी कलम...✍️
'अशांत' शेखर
✍️सलीक़ा✍️
'अशांत' शेखर
बस एक ही भूख
DESH RAJ
ज़िंदगी तेरे मिज़ाज के
Dr fauzia Naseem shad
✍️जिंदगी का बोझ✍️
'अशांत' शेखर
आज फिर मैं
gurudeenverma198
बूंद बूंद में जीवन है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
गिरवी वर्तमान
Saraswati Bajpai
*राखी (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
कुछ चेहरे खुशियों में भी नम होते हैं।
Taj Mohammad
✍️दिल शायर होता है...✍️
'अशांत' शेखर
" समुद्री बादल "
Dr Meenu Poonia
वो काली रात...!
मनोज कर्ण
जीत-हार में भेद ना,
Pt. Brajesh Kumar Nayak
यह दिल
Anamika Singh
बदल रहा है देश मेरा
Anamika Singh
पिता
Neha Sharma
✍️मेरा जिक्र हुवा✍️
'अशांत' शेखर
✍️घर में सोने को जगह नहीं है..?✍️
'अशांत' शेखर
उम्मीद का दामन।
Taj Mohammad
ज़रा सामने बैठो।
Taj Mohammad
*अध्यात्म ज्योति :* अंक 1 ,वर्ष 55, प्रयागराज जनवरी -...
Ravi Prakash
Loading...