Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Nov 2022 · 1 min read

अंतर्राष्ट्रीय पुरुष दिवस

पुरुष रोता नहीं सिसकियां लेता है क्योंकि
रोते हुए पुरुष कमजोर समझे जाते है
अपनी सिसकियां छुपाते हुए कहते है कि
मर्द को दर्द नहीं होता !
#internationalmensday

Language: Hindi
2 Likes · 40 Views
You may also like:
यह धरती भी तो
यह धरती भी तो
gurudeenverma198
तुम महकोगे सदा मेरी रूह के साथ,
तुम महकोगे सदा मेरी रूह के साथ,
Shyam Pandey
प्रवाह में रहो
प्रवाह में रहो
Rashmi Sanjay
तुम्हें जब भी मुझे देना हो अपना प्रेम
तुम्हें जब भी मुझे देना हो अपना प्रेम
श्याम सिंह बिष्ट
प्रेत बाधा एव वास्तु -ज्योतिषीय शोध लेख
प्रेत बाधा एव वास्तु -ज्योतिषीय शोध लेख
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
वजूद पे उठते सवालों का जवाब ढूंढती हूँ,
वजूद पे उठते सवालों का जवाब ढूंढती हूँ,
Manisha Manjari
सच सच बोलो
सच सच बोलो
सूर्यकांत द्विवेदी
सबके अपने अपने मोहन
सबके अपने अपने मोहन
Shivkumar Bilagrami
फूल तो सारे जहां को अच्छा लगा
फूल तो सारे जहां को अच्छा लगा
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
यही बताती है रामायण
यही बताती है रामायण
*Author प्रणय प्रभात*
ये जरूरी नहीं।
ये जरूरी नहीं।
Taj Mohammad
"सन्तुलन"
Dr. Kishan tandon kranti
Jis waqt dono waqt mile
Jis waqt dono waqt mile
shabina. Naaz
इक दिन चंदा मामा बोले ,मेरी प्यारी प्यारी नानी
इक दिन चंदा मामा बोले ,मेरी प्यारी प्यारी नानी
Dr Archana Gupta
देकर हुनर कलम का,
देकर हुनर कलम का,
Satish Srijan
सरल मिज़ाज से किसी से मिलो तो चढ़ जाने पर होते हैं अमादा....
सरल मिज़ाज से किसी से मिलो तो चढ़ जाने पर...
कवि दीपक बवेजा
असफल कवि
असफल कवि
Shekhar Chandra Mitra
“LOVELY FRIEND”
“LOVELY FRIEND”
DrLakshman Jha Parimal
✳️🌀मेरा इश्क़ ग़मगीन नहीं है🌀✳️
✳️🌀मेरा इश्क़ ग़मगीन नहीं है🌀✳️
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हम बच्चों की आई होली
हम बच्चों की आई होली
लक्ष्मी सिंह
आसाध्य वीना का सार
आसाध्य वीना का सार
Utkarsh Dubey “Kokil”
Advice
Advice
Shyam Sundar Subramanian
सोचो यदि रंगों में ऐसी रंगत नहीं होती
सोचो यदि रंगों में ऐसी रंगत नहीं होती
Khem Kiran Saini
ਰੁੱਤ ਵਸਲ ਮੈਂ ਵੇਖੀ ਨਾ
ਰੁੱਤ ਵਸਲ ਮੈਂ ਵੇਖੀ ਨਾ
Surinder blackpen
डूब जाऊंगा मस्ती में, जरा सी शाम होने दो। मैं खुद ही टूट जाऊंगा मुझे नाकाम होने दो।
डूब जाऊंगा मस्ती में, जरा सी शाम होने दो। मैं...
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
बगिया
बगिया
Vijay kannauje
कद्रदान
कद्रदान
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
श्रृंगारपरक दोहे
श्रृंगारपरक दोहे
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
दुनियां की लिहाज़ में हर सपना टूट के बिखर जाता है
दुनियां की लिहाज़ में हर सपना टूट के बिखर जाता...
'अशांत' शेखर
*महक बनकर वो जीवन में, गुलाबों की तरह आए (मुक्तक)*
*महक बनकर वो जीवन में, गुलाबों की तरह आए (मुक्तक)*
Ravi Prakash
Loading...