Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Mar 2023 · 1 min read

अंतर्राष्ट्रीय जल दिवस

कुएँ – वापी – बाबड़ियाँ, नौले – मँगरे – ताल।
अक्षय जल के स्रोत ये, रक्खो इन्हें सँभाल।।

जल संस्कृति को जान नर,जल है देव समान।
मिट न जाए परंपरा, कर इसका सम्मान।।

लुप्तप्राय जलस्रोत सब, देख रहे हम मूक।
गहराता संकट विकट, उठती मन में हूक।।

वर्षा जल की खान हैं, जल जीवन-आधार।
सूख न पाएँ स्रोत ये, भरें रहें भंडार।।

पानी बिन जीवन नहीं, वर्षा जल की खान।
बूँद-बूँद संग्रह करो, इसका अमृत जान।।

© सीमा अग्रवाल
मुरादाबाद

Language: Hindi
1 Like · 73 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.

Books from डॉ.सीमा अग्रवाल

You may also like:
Sometimes words are not as desperate as feelings.
Sometimes words are not as desperate as feelings.
Sakshi Tripathi
मैं कवि हूं
मैं कवि हूं
Shyam Sundar Subramanian
जाति जनगणना
जाति जनगणना
मनोज कर्ण
एक अबोध बालक
एक अबोध बालक
DR ARUN KUMAR SHASTRI
■ तेवरी ? #ग़ज़ल
■ तेवरी ? #ग़ज़ल
*Author प्रणय प्रभात*
कोमल चितवन
कोमल चितवन
Vishnu Prasad 'panchotiya'
हम उलझते रहे हिंदू , मुस्लिम की पहचान में
हम उलझते रहे हिंदू , मुस्लिम की पहचान में
श्याम सिंह बिष्ट
एक नारी की पीड़ा
एक नारी की पीड़ा
Ram Krishan Rastogi
चिराग़ ए अलादीन
चिराग़ ए अलादीन
Sandeep Pande
मम्मी की डांट फटकार
मम्मी की डांट फटकार
Ms.Ankit Halke jha
सरेआम जब कभी मसअलों की बात आई
सरेआम जब कभी मसअलों की बात आई
Maroof aalam
मां की शरण
मां की शरण
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
और प्रतीक्षा सही न जाये
और प्रतीक्षा सही न जाये
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
जुबां पर मत अंगार रख बरसाने के लिए
जुबां पर मत अंगार रख बरसाने के लिए
Anil Mishra Prahari
भूले बिसरे दिन
भूले बिसरे दिन
Pratibha Kumari
फितरत
फितरत
umesh mehra
नैतिकता ज़रूरत है वक़्त की
नैतिकता ज़रूरत है वक़्त की
Dr fauzia Naseem shad
हर कोई जिन्दगी में अब्बल होने की होड़ में भाग रहा है
हर कोई जिन्दगी में अब्बल होने की होड़ में भाग रहा है
कवि दीपक बवेजा
लहज़ा गुलाब सा है, बातें क़माल हैं
लहज़ा गुलाब सा है, बातें क़माल हैं
Dr. Rashmi Jha
वो खूबसूरत है
वो खूबसूरत है
रोहताश वर्मा मुसाफिर
बगिया
बगिया
Vijay kannauje
सफलता और सुख  का मापदण्ड स्वयं निर्धारित करनांआवश्यक है वरना
सफलता और सुख का मापदण्ड स्वयं निर्धारित करनांआवश्यक है वरना
Leena Anand
बसंत ऋतु
बसंत ऋतु
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
दर्द का दरिया
दर्द का दरिया
Bodhisatva kastooriya
दोहा -स्वागत
दोहा -स्वागत
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
शब्द उनके बहुत नुकीले हैं
शब्द उनके बहुत नुकीले हैं
Dr Archana Gupta
जुगनू
जुगनू
Gurdeep Saggu
कविता
कविता
Rambali Mishra
आओ प्रिय बैठो पास...
आओ प्रिय बैठो पास...
डॉ.सीमा अग्रवाल
*लोन सब बट्टे खाते (कुंडलिया)*
*लोन सब बट्टे खाते (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
Loading...