Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Aug 21, 2016 · 1 min read

अंतर्मन में जब बलवा हो जाता है

अंतर्मन में जब बलवा हो जाता है
रो लेता हूँ मन हल्का हो जाता है

कैरम की गोटी सा जीवन है मेरा
रानी लेते ही ग़च्चा हो जाता है

रोज़ बचाता हूँ इज्ज़त की चौकी मैं
रोज़ मगर इस पर हमला हो जाता है

कैसे कह दूँ अक्सर अपने हाथों से
करता हूँ ऐसा, वैसा हो जाता है

पीछे कहता रहता है क्या-क्या मुझको
मेरे आगे जो गूंगा हो जाता है

उसकी शख्सियत में मक़नातीस है क्या
जो उससे मिलता उसका हो जाता है

उस दम महँगी पड़ती है तेरी आदत
सारा आलम जब सस्ता हो जाता है

ठीक कहा था इक दिन पीरो-मुर्शिद ने
धीरे-धीरे सब अच्छा हो जाता है
नज़ीर नज़र

170 Views
You may also like:
✍️कोई नहीं ✍️
Vaishnavi Gupta
जीवन में
Dr fauzia Naseem shad
जब भी तन्हाईयों में
Dr fauzia Naseem shad
ज़िंदगी में न ज़िंदगी देखी
Dr fauzia Naseem shad
"भोर"
Ajit Kumar "Karn"
कैसे गाऊँ गीत मैं, खोया मेरा प्यार
Dr Archana Gupta
The Sacrifice of Ravana
Abhineet Mittal
तुम साथ अगर देते नाकाम नहीं होता
Dr Archana Gupta
जय जगजननी ! मातु भवानी(भगवती गीत)
मनोज कर्ण
रावण का प्रश्न
Anamika Singh
रूठ गई हैं बरखा रानी
Dr Archana Gupta
सृजन कर्ता है पिता।
Taj Mohammad
पीला पड़ा लाल तरबूज़ / (गर्मी का गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
✍️पढ़ रही हूं ✍️
Vaishnavi Gupta
सपनों में खोए अपने
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
हमें क़िस्मत ने आज़माया है ।
Dr fauzia Naseem shad
विन मानवीय मूल्यों के जीवन का क्या अर्थ है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पाँव में छाले पड़े हैं....
डॉ.सीमा अग्रवाल
कशमकश
Anamika Singh
बेटी का पत्र माँ के नाम
Anamika Singh
प्रेम का आँगन
मनोज कर्ण
पिता का साया हूँ
N.ksahu0007@writer
“ तेरी लौ ”
DESH RAJ
"मेरे पिता"
vikkychandel90 विक्की चंदेल (साहिब)
मन की पीड़ा
Dr fauzia Naseem shad
कुछ नहीं इंसान को
Dr fauzia Naseem shad
आज नहीं तो कल होगा / (समकालीन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ज़िंदगी को चुना
अंजनीत निज्जर
बेचारी ये जनता
शेख़ जाफ़र खान
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग१]
Anamika Singh
Loading...