Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Oct 1, 2017 · 1 min read

?किरणें लाई हैं संदेशा ?

प्रथम रश्मि आ गई रवि की’हमको यह समझाने।
भूल पुराना सोच नया तू, मैं आई नव मार्ग दिखाने।
दुखड़ा छोड़ दे बीते कल का सोच नया कुछ अगले पल का।
जग भी उसका साथ न देता जो ले बैठा राग पुराने।

——–रंजना माथुर दिनांक 03/07/2017
मेरी स्व रचित व मौलिक रचना
©

162 Views
You may also like:
पिता
Deepali Kalra
ठोकरों ने गिराया ऐसा, कि चलना सीखा दिया।
Manisha Manjari
चुनिंदा अशआर
Dr fauzia Naseem shad
एसजेवीएन - बढ़ते कदम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मां की ममता
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
गुरुजी!
Vishnu Prasad 'panchotiya'
ग़ज़ल / (हिन्दी)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
धरती की अंगड़ाई
श्री रमण 'श्रीपद्'
हम भटकते है उन रास्तों पर जिनकी मंज़िल हमारी नही,
Vaishnavi Gupta
उसे देख खिल जातीं कलियांँ
श्री रमण 'श्रीपद्'
पिता की याद
Meenakshi Nagar
जय जय भारत देश महान......
Buddha Prakash
टूट कर की पढ़ाई...
आकाश महेशपुरी
यादें
kausikigupta315
"अष्टांग योग"
पंकज कुमार कर्ण
उलझनें_जिन्दगी की
मनोज कर्ण
पिता
Meenakshi Nagar
नदी सा प्यार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बोझ
आकांक्षा राय
मैं तो सड़क हूँ,...
मनोज कर्ण
जब भी तन्हाईयों में
Dr fauzia Naseem shad
दो पल मोहब्बत
श्री रमण 'श्रीपद्'
पिता
Saraswati Bajpai
#पूज्य पिता जी
आर.एस. 'प्रीतम'
ज़िंदगी से सवाल
Dr fauzia Naseem shad
याद पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
इस दर्द को यदि भूला दिया, तो शब्द कहाँ से...
Manisha Manjari
पिता का दर्द
Nitu Sah
चलो एक पत्थर हम भी उछालें..!
मनोज कर्ण
गुमनाम मुहब्बत का आशिक
श्री रमण 'श्रीपद्'
Loading...