साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

जीवन का शाश्वत सत्य

रोहित शर्मा जीवन का शाश्वत सत्य भोर की बेला हुई, दिनकर की पलके खुली। इंतज़ार ख़त्म हुआ, सौगात लेकर आई नयी सुबह।। धीरे धीरे आँखे खोल रहा,स्वर्ण किरणे [...]

Read more

कविता

Ashutosh Vajpeyee
शुभ प्रेरक तत्त्व समाहित हों जिसमे कुछ अर्थ महान दिखेI अति सीमित [...]

वो तेरी एक भूल

Dr. pragy Goel
सुबह उगते हुए सूरज से मैंने पूछा यहां जो उग रहा है तू कहीं तो ढल रहा [...]

ख़ुदकुशी करने के मैं रोज बहाने ढूँढने लगा हूँ

Purav Goyal
ख़ुदकुशी करने के मैं रोज बहाने ढूँढने लगा हूँ जी में रड़क रही है [...]

गुरूर

SHISHIR KUMAR
उड़ते हुए परिन्दों के पर नहीं काटा करते जंगल के शेर को लोहे की [...]

मोदी जी

Dr ShivAditya Sharma
देखो कैसे बदल रहा है भारत, लेके अपना कमाल आया है अपनी माँ की सेवा [...]

खार जैसी भी अक्सर चुभी ज़िन्दगी

Dr Archana Gupta
फूल सी ही न हँसती रही ज़िन्दगी खार जैसी भी अक्सर चुभी [...]

गीतिका।सब कुछ तमासा हो गया।

रकमिश सुल्तानपुरी
गीतिका।सब कुछ तमासा हो गया ।। आदमी खुदगर्ज़ प्यासा हो गया । आजकल [...]

ग़ज़ल।मेरी आदत तो नही ।

रकमिश सुल्तानपुरी
ग़ज़ल।मुँह छिपाना मेरी आदत तो नही । बेजुबां बन सर कटाना है शहादत [...]

ग़ज़ल।ये मुहब्बत तो नही।

रकमिश सुल्तानपुरी
ग़ज़ल।ये मुहब्बत तो नही । आपसे बेहतर कोई भी खूबसूरत तो नही । तुम [...]

साकी सुरा पिला दे

Pushpendra Rathore
साकी सुरा पिला दे, सब गम मे'रे मिटा दे, कर इस नशे से' पागल, खुद से [...]

कविता

Brijraj Kishore
                     28 मई, 2016 को नई दिल्ली के नारायण दत्त तिवारी भवन में हुए [...]

ग़ज़ल

Brijraj Kishore
उत्तर प्रदेश के कैराना की हालत को बयान करती एक ग़ज़ल [...]

वृक्ष लगाओगे अगर , होंगे सब खुशहाल

Dr Archana Gupta
रहे तिरंगे से सजा , अपना भारत देश इसके रंगों में छिपे, सुन्दर से [...]

ग़ज़ल।तुम्हारे प्यार की दुनिया दिवानी अब नही होती ।

रकमिश सुल्तानपुरी
ग़ज़ल।तुम्हारे प्यार क़ी दुनिया दिवानी अब नही होती। अधूरे रह गये [...]

तोहफे गम औ ख़ुशी के लिए जा रहे

Dr Archana Gupta
तोहफे गम औ ख़ुशी के लिए जा रहे ज़िन्दगी यूँ बसर बस किये जा रहे ये [...]

ग़ज़ल :– मुहब्बत में कही बातें !!

Anuj Tiwari
ग़ज़ल :-- मुहब्बत में कही बातें !! मुहब्बत में कही बातें सुहानी कब [...]

संतोष है खजाना

Sarvanand Pandey
थोड़ा ही पढ़ो साजन , व्यवहार भी बनाना । छूटे न मैल तो फिर , बेकार है [...]

प्रश्नचिन्ह (?)

Rajeev 'Prakhar'
गरीबी से त्रस्त और बेरोज़गारी से ग्रस्त, एक पढ़े-लिखे का [...]

आँखों में अब आंसू छिपाना कितना मुश्किल है

Purav Goyal
आँखों में अब आंसू छिपाना कितना मुश्किल है जो रडकते है उनको बहाना [...]

आँखों की दीवारों में नमी अब बैठने लगी

Purav Goyal
आँखों की दीवारों में नमी अब बैठने लगी भीतर की सब कच्ची , दीवारे ढहने [...]

आँखों में दर्द की मौजे अब मचलने लगी

Purav Goyal
आँखों में दर्द की मौजे अब मचलने लगी साँसे ही मेरी अब साँसों को [...]

पानी आँखों में ठहरा दिखाई देता है

Purav Goyal
पानी आँखों में ठहरा दिखाई देता है सीने में ज़ख्म गहरा दिखाई देता [...]

खाकी – खद्दर पहने हुये , इंसान बिकने लगे

Purav Goyal
खाकी - खद्दर पहने हुये , इंसान बिकने लगे कोडियों में यहाँ लोगो [...]

चेहरे की उदासी को , धोने नहीं दिया इक ग़ज़ल ने

Purav Goyal
चेहरे की उदासी को , धोने नहीं दिया इक ग़ज़ल ने मुझ को देर रात तक,सोने [...]

सम्भाल के मुझे , किताब में कौन रखेगा

Purav Goyal
सम्भाल के मुझे , किताब में कौन रखेगा छुपा के काँटों को गुलाब में कौन [...]

किस्मत के दोहे

Archana Singh
मेरी किस्मत ले चली,अब जाने किस ओर। प्रभु हाथों में सौप दी,यह जीवन की [...]

कविता

Brijraj Kishore
चाहे पटेल आरक्षण आन्दोलन पर समझ लो, चाहे जाट आरक्षण आन्दोलन पर; भाव [...]

सरस्वती वन्दना

Brijraj Kishore
दे मातु शारदे सबको प्रकाश की किरण, दे मातु शारदे। ख़ुशियों की कोई [...]

कविता

Brijraj Kishore
भारत माता की जय बोलो -------------------- अपने मन की गाँठें खोलो। [...]

चिड़िया रानी

Sharda Madra
गीत चिड़िया रानी एक कहानी कहती थी बच्चों से नानी बच्चों की जब [...]