साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

मेरी प्यारी बहना

आशीष राय शीफ के मोती गले की माला सी है,मेरी प्यारी बहना। पापा की परी माँ का गहना है,मेरी प्यारी बहना। घर का हर कोना खुशबू से महकती है,मेरी प्यारी [...]

Read more

* आजाओ कन्हैया *

Narendra Kumar
* आजाओ कन्हैया * आजाओ कन्हैया हमरी नगरियाँ में पाप बढ़ी है [...]

हिन्दी जन की बोली है (गीत)

suresh chand
हिन्दी जन की बोली है हम सब की हमजोली है खेत और खलिहान की बातें [...]

ओ काली घटा (गीत)

suresh chand
ओ काली घटा मेरे आँगन आ तू मेरी सहेली बन जा रे ! है सूखी धरती, प्यासी [...]

एक गीत लाया हूँ मैं अपने गाँव से (गीत )

suresh chand
एक गीत लाया हूँ मैं अपने गाँव से। धूल भरी पगडण्डी पीपल की छाँव [...]

एक ख्वाहिश है बस | अभिषेक कुमार अम्बर

Abhishek Kumar Amber
एक ख्वाहिश है बस दीवाने की, तेरी आँखों में डूब जाने की। साथ जब तुम [...]

ख्वाब आँखों में |अभिषेक कुमार अम्बर

Abhishek Kumar Amber
ख्वाब आँखों में जितने पाले थे, टूट कर के बिखर ने वाले थे। जिनको [...]

होली छंद | अभिषेक कुमार अम्बर

Abhishek Kumar Amber
हाय रे ! ये माह फ़ाग दिल में लगाये आग, गोरियों को देख प्रेम उमड़े है मन [...]

पहन के कोट पेंट(छंद) | अभिषेक कुमार अम्बर

Abhishek Kumar Amber
पहन के कोट पेंट तन पे लगा के सेंट, बनकर बाबू सा में चला ससुराल [...]

बसंत है आया | अभिषेक कुमार अम्बर

Abhishek Kumar Amber
कू-कू करती कोयल कहती सर सर करती पवन है बहती। फूलों पर भँवरें [...]

जब तक मानव नही उठेगा | अभिषेक कुमार अम्बर

Abhishek Kumar Amber
जब तक मानव नहीं उठेगा, अपने हक़ को नहीं लड़ेगा, होगा तब तक उसका [...]

महबूबा | अभिषेक कुमार अम्बर

Abhishek Kumar Amber
सबकी मेहबूबा है वो सबके दिल की रानी है। मेरी गली के लड़कों पे जबसे आई [...]

नजरें

डॉ सुलक्षणा अहलावत
माँ मैं आज के बाद घर से बाहर नहीं जाऊँगी, कारण मत पूछना मुझसे मैं [...]

जीवन है एक डगर सुहानी | अभिषेक कुमार अम्बर

Abhishek Kumar Amber
जीवन है एक डगर सुहानी सुख दुःख इसके साथी हैं, कर संघर्ष हमें जीवन [...]

साथ जबसे तुम्हारा मिला | अभिषेक कुमार अम्बर

Abhishek Kumar Amber
साथ जबसे तुम्हारा मिला सारी दुनिया बदल सीगई। प्रेम का पुष्प जब से [...]

और न कुछ भी चाहूँ | अभिषेक कुमार अम्बर

Abhishek Kumar Amber
और न कुछ भी चाहूँ तुझसे बस इतना ही चाहूँ। अपने हर एक जन्म में सिर्फ [...]

सरस्वती वंदना-२ | अभिषेक कुमार अम्बर

Abhishek Kumar Amber
हे विरणावादिनी मईया मेरी झोली ज्ञान से भर दे। सत्य सदा लिखे कलम [...]

सरस्वती वंदना | अभिषेक कुमार अम्बर

Abhishek Kumar Amber
हे माता मेरी शारदे तू भव से उतार दे। बुद्धि को विस्तार दे ज्ञान का [...]

एग्जाम एंथम | अभिषेक कुमार अम्बर

Abhishek Kumar Amber
हम होंगे सब में पास हम होंगे सबमें पास हम होंगे सब में पास एक [...]

मास्टर श्यामलाल | अभिषेक कुमार अम्बर

Abhishek Kumar Amber
हमारे मास्टर श्यामलाल, करा रहे थे गणित के सवाल। मास्टर जी ने दो [...]

मिसेज डोली | अभिषेक कुमार अम्बर

Abhishek Kumar Amber
एक दिल मिसेज डोली, अपने पति से बोली। अजी! सुनिए आज आप बाजार चले [...]

हम स्वतंत्र भारत के स्वतंत्र नागरिक हैं ।

Dr Archana Gupta
हम स्वतंत्र भारत के स्वतंत्र नागरिक हैं ।हर साल हम स्वाधीनता दिवस [...]

शर्त है

Kapil Kumar
इश्क हो ऐसा की कुछ खास होना चाहिये शर्त है दिल से कुछ एहसास होना [...]

सफर ये जो सुहाना है ।

कृष्ण मलिक अम्बाला
सफ़र ये जो सुहाना है होनी अनहोनी तो एक बहाना है डूबते को तूने बचाना [...]

ऐसा अपना टीचर हो

कृष्ण मलिक अम्बाला
मेरी बाल्यकाल की एक रचना , पुरानी भावनाये ताजा होने पर आपसे सांझा [...]

अभिनन्दन बहु का

Dr Archana Gupta
पल्लवित हो जननी के आँचल में रोंपी गई हो पिया के आँगन में लेकर हज़ार [...]

वाह ! मेरा देश किधर जा रहा है ।

कृष्ण मलिक अम्बाला
वाह ! मेरा देश किधर जा रहा है । आदमी की चादर है आधी , पैर दुगुने पसार [...]

फल तो वो देगा जो सबका मीत है..

Ramesh chandra Sharma
"कर्मण्यवाधिकारस्ते मा फलेषु कदाचन" ......... फल तो वो देगा जो सबका मीत [...]

सजाया ख्वाब काजल सा वो आन्सू बन निकलता है

निर्मला कपिला
सजाया ख्वाब काजल सा वो आन्सू बन निकलता है उजड जाये अगर गुलशन हमेशा [...]

फ़क़्त मेरे घर का पता पूछती है

Salib Chandiyanvi
तू दुनिया की मान्निद बडी मतलबी है शानासा है लेकिन बहुत अजनबी [...]

अब कोई वारदात मुश्किल है

Salib Chandiyanvi
हम बिछायें बिसात मुश्किल है खुद से खुद की ही मात मुश्किल है [...]