साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

सावन

पं.संजीव शुक्ल आया सावन बदरा बरसे सजन मिलन को सजनी तरसे, झींगुर मेढक करते सोर हरियाली फैली चहुओर। उमड़- घुमड़ घटायें गर्जे इन्द्रधनुष सतरंगी [...]

Read more

ग़ज़ल।मेरी आदत तो नही ।

राम केश मिश्र
ग़ज़ल।मुँह छिपाना मेरी आदत तो नही । बेजुबां बन सर कटाना है शहादत [...]

ग़ज़ल।ये मुहब्बत तो नही।

राम केश मिश्र
ग़ज़ल।ये मुहब्बत तो नही । आपसे बेहतर कोई भी खूबसूरत तो नही । तुम [...]

साकी सुरा पिला दे

Pushpendra Rathore
साकी सुरा पिला दे, सब गम मे'रे मिटा दे, कर इस नशे से' पागल, खुद से [...]

कविता

Brijraj Kishore
                     28 मई, 2016 को नई दिल्ली के नारायण दत्त तिवारी भवन में हुए [...]

ग़ज़ल

Brijraj Kishore
उत्तर प्रदेश के कैराना की हालत को बयान करती एक ग़ज़ल [...]

वृक्ष लगाओगे अगर , होंगे सब खुशहाल

Dr Archana Gupta
रहे तिरंगे से सजा , अपना भारत देश इसके रंगों में छिपे, सुन्दर से [...]

ग़ज़ल।तुम्हारे प्यार की दुनिया दिवानी अब नही होती ।

राम केश मिश्र
ग़ज़ल।तुम्हारे प्यार क़ी दुनिया दिवानी अब नही होती। अधूरे रह गये [...]

तोहफे गम औ ख़ुशी के लिए जा रहे

Dr Archana Gupta
तोहफे गम औ ख़ुशी के लिए जा रहे ज़िन्दगी यूँ बसर बस किये जा रहे ये [...]

ग़ज़ल :– मुहब्बत में कही बातें !!

Anuj Tiwari
ग़ज़ल :-- मुहब्बत में कही बातें !! मुहब्बत में कही बातें सुहानी कब [...]

संतोष है खजाना

Sarvanand Pandey
थोड़ा ही पढ़ो साजन , व्यवहार भी बनाना । छूटे न मैल तो फिर , बेकार है [...]

प्रश्नचिन्ह (?)

Rajeev 'Prakhar'
गरीबी से त्रस्त और बेरोज़गारी से ग्रस्त, एक पढ़े-लिखे का [...]

आँखों में अब आंसू छिपाना कितना मुश्किल है

Purav Goyal
आँखों में अब आंसू छिपाना कितना मुश्किल है जो रडकते है उनको बहाना [...]

आँखों की दीवारों में नमी अब बैठने लगी

Purav Goyal
आँखों की दीवारों में नमी अब बैठने लगी भीतर की सब कच्ची , दीवारे ढहने [...]

आँखों में दर्द की मौजे अब मचलने लगी

Purav Goyal
आँखों में दर्द की मौजे अब मचलने लगी साँसे ही मेरी अब साँसों को [...]

पानी आँखों में ठहरा दिखाई देता है

Purav Goyal
पानी आँखों में ठहरा दिखाई देता है सीने में ज़ख्म गहरा दिखाई देता [...]

खाकी – खद्दर पहने हुये , इंसान बिकने लगे

Purav Goyal
खाकी - खद्दर पहने हुये , इंसान बिकने लगे कोडियों में यहाँ लोगो [...]

चेहरे की उदासी को , धोने नहीं दिया इक ग़ज़ल ने

Purav Goyal
चेहरे की उदासी को , धोने नहीं दिया इक ग़ज़ल ने मुझ को देर रात तक,सोने [...]

सम्भाल के मुझे , किताब में कौन रखेगा

Purav Goyal
सम्भाल के मुझे , किताब में कौन रखेगा छुपा के काँटों को गुलाब में कौन [...]

किस्मत के दोहे

Archana Singh
मेरी किस्मत ले चली,अब जाने किस ओर। प्रभु हाथों में सौप दी,यह जीवन की [...]

कविता

Brijraj Kishore
चाहे पटेल आरक्षण आन्दोलन पर समझ लो, चाहे जाट आरक्षण आन्दोलन पर; भाव [...]

सरस्वती वन्दना

Brijraj Kishore
दे मातु शारदे सबको प्रकाश की किरण, दे मातु शारदे। ख़ुशियों की कोई [...]

कविता

Brijraj Kishore
भारत माता की जय बोलो -------------------- अपने मन की गाँठें खोलो। [...]

चिड़िया रानी

Sharda Madra
गीत चिड़िया रानी एक कहानी कहती थी बच्चों से नानी बच्चों की जब [...]

प्रेम धार

Sharda Madra
निराशा न घेरे कभी बार-बार दिलासा सभी को सभी को दुलार नमी हो दिलों [...]

ग़ज़ल

Brijraj Kishore
ग़ज़ल बादलों का एक टुकड़ा, गगन में आया तो है। बारिशों की [...]

पिया परदेस

Sharda Madra
कुछ तपन मन में और कुछ बातें अनकही कहूँ किसे पिया परदेस यही सोच [...]

पत्थरों को तोड़ती

Sharda Madra
वह मजदूरन पत्थरों को तोड़ती नज़रें कहीं न मोड़ती लक्ष्य को [...]

उपवन

Sharda Madra
प्रकृति रचित, मानव सिंचित, श्रमिक का श्रमदान अधिक सुहावन, मन [...]

पुष्प

Sharda Madra
रोशन बहार तू, दिलकश श्रृंगार तू मौसम की अदा, भंवरे का प्यार तू चंदन [...]

सुख दुख

Sharda Madra
छोटा दुख पर्वत सा लगता,सुख का कोई नाप नहीं सुख दुख में यदि सम होंगे [...]