साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

वो बेबाक कवि है

Maneelal Patel मनीभाई कभी कल्पना की पर लगाये। कभी भटके को डगर दिखाये। कभी करें हंसी ठिठोली , कभी करें क्रांति की बोली। वह कोई नहीं समाज का उगता रवि है । हां ! वो [...]

Read more

आस्तिक कौन ?लोगों पर एक नज़र,

Mahender Singh
हररोज रोज की तरह रोज़ लेकर पहुँचा मंदिर में लोगों ने आस्तिक कहा [...]

ये पल-पल बरसते बादल

seervi prakash panwar
ये पल-पल बरसते बादल, मै कैसे नहाऊं आज! ये हर पल रूठते अपने, [...]

जाने जाँ

Maneelal Patel मनीभाई
दुख की घड़ियां है ,दो पल की। फिर क्यों तेरी ,आंखें छलकी ।। याद ना कर [...]

करवा चौथ

Maneelal Patel मनीभाई
करवा चौथ व्रत विशेष...... एक चांद, मेरे चांद से , आज क्यों नाराज है [...]

षड ऋतु

Maneelal Patel मनीभाई
षड ऋतु (हाइकु) 1/ बसंत ऋतु कोयल की पुकार उमड़े प्यार। 2/ ग्रीष्म की [...]

जलाकर दिये चाँद को भी रिझाओ

Dr Archana Gupta
जलाकर दिये चाँद को भी रिझाओ अमावस को पूनम के जैसा बनाओ मिटाना [...]

दीप

Neelam Sharma
आलोक के अर्थात् का,दीप के दिव्यार्थ का। तम से नव प्रकाश का, वैभव के [...]

**** दीपोत्सव ****

Raju Gajbhiye
**** दीपोत्सव **** दीपोत्सव के जगमग रोशनी में , सुख - समृद्धि का उजास रहे [...]

दिपावली ## खुशियों की क्यारी

N M
दीपों का जगमग त्योहार दीपज्योत्स्ना करें प्रकाश मावस के तम को हर [...]

बेमेल दोस्त

Soban Singh Rawat
वर्षो का याराना,साथ उठना, बैठना,खाना ,आना -जाना फिर भी बिना बात के [...]

मुक्तक

MITHILESH RAI
मैं जिन्दगी में मंजिले-मुकाम तक न पहुँचा! मैं जिन्दगी में प्यार के [...]

समता बिन मानवता

Maneelal Patel मनीभाई
समता बिन मानवता •••••••••••••••••••••• यह सोच हैरान हूं कि [...]

महंगाई के मार

पं.संजीव शुक्ल
महंगाई के मार.......... (भोजपुरी कविता)......... ऐह दीवाली सगरे हमें अंहार [...]

हँसी, मजाक और व्यंग्य मौसेरे भाई

Mahender Singh
***कुछ लोग भावनाओं से, .....रहते है भरे हुए, . एक दिन कुछ लोग जा रहे [...]

दिवाली शुभ होवे

Vindhya Prakash Mishra
घर मे हो लक्ष्मी का वास खुशियां हो सबके पास अंधेरे का हो जाए [...]

दीवाली

इंदिरा गुप्ता
दीप अवलि किजगमग ज्योति धरा पर जब मुस्कायेगी अमावस्या की [...]

आओ… !दिवाली मनाएँ..

ishwar jain
आओ ! हम दिवाली मनाएँ चेहरे पे निर्मल हँसी सजाएँ संतोष धन बरसे हम [...]

तुलसी मेरी

शिवम राव मणि
एक खंडहर में मेरा ख्याल बसा है उजड़ी हुई आत्मा मे वह सच्चा-सा, भ्रम [...]

भावनाएं नाजुक होती हैं,

Mahender Singh
मुझे वो रोकती रही, और मैं आगे बढ़ गया, वो मेरा जुनून था, उसको तन्हाई [...]

धनतेरस पर दोहे

Dr.rajni Agrawal
धनतेरस पर दोहे ************ धनतेरस का पर्व ये, लक्ष्मी का त्योहार। घर -घर [...]

गीत

rajesh Purohit
ज्योतिपर्व मनाओ ज्योति पर्व मनाओ। दीन दुखी हर मानव को गले [...]

तन्हा सफर ज़िन्दगी

संजय गुप्ता
रचनाकार, कवि संजय गुप्ता। मैं चला था अकेला सफर में, पहुँच गया एक [...]

ग़ज़ल

Sachin Nema
जरा चाँद पर से ये बादल हटाओ सुनो जान अपना ये घूँघट [...]

किसे कोसूँ

Bikash Baruah
एक तरफ रोकता है यह हाथ जुर्म करने को, वही दूसरा हाथ दागदार है पेट [...]

मैं हाथ मिलाने का दस्तूर न हो जाऊं

Anish Shah
इतनी नवाजिसों से मगरूर-न हो जाऊं। रब तेरे करम से मैं कहीं दूर न हो [...]

तुम्हारी प्रतीक्षा

अशोक सोनी
मैंने अपनी पूरी उम्र कैद कर ली है इन आंखों में दिनों की [...]

वो रात सुहानी आती है ! ***************

Anurag Dixit
वो रात सुहानी आती है ! *********************** एक प्रसूता माँ पीड़ा से, विह्वल हो [...]

हाइकु

Arun Pradeep
धनतेरस नहीं रस धन में कहा [...]

एक एकता

Vindhya Prakash Mishra
आइये एक होकर चले राह पर नफरतो को दिलो से मिटा दीजिए हम हिन्दू नही [...]

***यह कैसी शिक्षा***

N M
विषय - नई शिक्षा नीति नीति चाहे नई हो या पुरानी उसका उद्देश्य केवल [...]