साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

सिलसिला

Madhumita Bhattacharjee Nayyar ख़ामोश है, बेचैन है, हैरान और परेशां भी है, ना किसी से कोई रिश्ता ना वाबस्ता है, सब मानो अनजान से , बेनाम सब चेहरे, कभी कोई पहचान कौंध सी [...]

Read more

“प्रकृति बचाओ”

Dr.rajni Agrawal
रक्त अश्रु बहा प्रकृति करे ये रुदन नहीं ध्वस्त करो मेरा कोमल बदन [...]

प्यार भरी शायरी

लक्ष्मी सिंह
💓💓💓💓 जिन्दगी में प्यार का होना जरूरी है, बिना प्यार के जिन्दगी [...]

गजल : ओ बहना मेरी…….👌👌👌

Radhey shyam Pritam
ओ बहना खुश रहना मिले न गम। छू ले ऊँचाई न रहे किसी से कम।। जीवन की हर [...]

कलम लिख दे, गीत गाए भारती |

Brijesh Nayak
कलम लिख दे,गीत गाए भारती| आम-जन दौड़े-उतारे आरती| दिव्यता देती, मनुज [...]

!! दुखद हो रहा है सब कुछ !!

अजीत कुमार तलवार
लानत है ऐसे लोगो पर, जिनको आज भी राष्ट्रगान गाना नहीं आता और फक्र [...]

!! दुश्मन फायदा उठाएगा !!

अजीत कुमार तलवार
देश के भीतर जब झगडे होंगे पडोसी देश फायदा उठाएगा किस को यह पता था [...]

“कुदरत का उपहार”

RAMESH SHARMA
बेटी है अनमोल धन,..कुदरत का उपहार ! जिसको मिलना चाहिए, जीने का अधिकार [...]

सूख गये उद्यान

RAMESH SHARMA
दूषित है जलवायु अब,...सूखे कई प्रदेश ! चलो लगायें बाग हम,मिलकर सभी [...]

वहशी नक्सलवाद

RAMESH SHARMA
झपटें सारे नक्सली, जैसे गीदड़ बाज ! हमने सत्तर साल में, ढूंढा नहीं [...]

टूट कर शाख से गिरा कैसे

ashok ashq
बात दिल की न कर हज़ारों से ये जहाँ है भरी दिले बीमारों से चाह गुल की [...]

मुक्तक

Govind Kurmi
🥀🥀🥀🥀🥀🥀🥀🥀🥀 तड़प ऐ इश्क की दिल से कही नहीं जाती चंद कदमों की [...]

तुम हो

Hardeep Bhardwaj
क़ज़ा भी तुम हो हयात भी तुम हो डायरी के पन्नों पर उतरे लफ्ज़ भी तुम | [...]

कुछ शब्द~७

कमलेश यादव
(१) मरकज़-ए-दिल में हुँ, मुझे बाहर ना कर तलाश। साथ तब भी हुँ जब कोई [...]

गंगा महिमा

लक्ष्मी सिंह
(1)🌼गंगा महिमा भारत की गरिमा जाने दुनिया 🌼 (2)🌼स्वर्ग की नदी धरा [...]

सचिन चालीसा…(पियुष राज)

पियुष राज
आज 24 अप्रैल सचिन तेंदुलकर के जन्मदिन पर विशेष "सचिन चालीसा" जय-जय [...]

खुशी पल भर नही देखे

ashok ashq
जिगर पर चोट खा कर भी तेरे कूचे में आए है दवा दे या ज़हर दे दे तेरे [...]

धूप छाँव (डाॅ. विवेक कुमार)

Dr. Vivek Kumar
है आज मुझमें सामर्थ्य खड़ा हूँ पैरों पर अपने इसलिए तुम रोज ही आते [...]

!! तेरी याद !!

अजीत कुमार तलवार
आज तेरी याद आ गयी पास मेरे हम उस को सीने से लगा कर बहुत रोये जब वो [...]

गजल : जिन्दगी…………👌👌👌

Radhey shyam Pritam
कभी खुशनुमा कभी उदास लगती है जिन्दगी। हरपल एक नया इतिहास लगती है [...]

!! तुझे पाने की चाहत में !!

अजीत कुमार तलवार
तुझ को पाने की चाहत में छोड़ आया सब कुछ अपना जिस को मैं कहता था [...]

सहज बने गह ज्ञान,वही तो सच्चा हीरा है |

Brijesh Nayak
जोब विष को पीना जाने, वह ही तो मीरा है| मूरख के आगे, अक्ली की बोली [...]

रात पे नज़र है

Yash Tanha Shayar Hu
कुछ की तो रात पे नज़र है, कुछ शहर की आवाम से बेख़बर है, कुछ नज़र मिलाते [...]

!! शिकायत, आप आये क्यूं नहीं ? !!

अजीत कुमार तलवार
मैने हवन पर बुलाया था, आप आये नहीं मैने कथा रखी थी, आप आये ही [...]

!! फिर फर्क क्यूं है ?!!

अजीत कुमार तलवार
ईश्वर ने बनाये सब एक से फिर दिलों में फर्क क्यूं है तेरे जैसा मॉस [...]

धार्मिक सहिष्णुता बनाम राष्ट्रीय एकता

डॉ०प्रदीप कुमार
" धार्मिक सहिष्णुता बनाम राष्ट्रीय एकता " ============================ धार्मिक [...]

गुहार

शिवम राव मणि
एक छोटा सा अर्भक हूँ मै मुझे अपने हाथो से उठा दो अपने प्यार की छाँव [...]

एक बस तुम ही

Naval Pal Parbhakar
एक बस तुम ही मेरी बैषाखियां बन कर मुझे सहारा देने वाली मेरे [...]

🙏🙏 गौ वंदन 🙏🙏

Tejvir Singh
वन्दे गौ मातरम्!!! 🐄🐄🐄🐄🐄🐄🐄🐄 "शंकर और विष्णु बसत जाके सींगन [...]

उत्कोच कवच

Punam Sinha
हामिद साहब की पोस्टिंग करीमगंज थाना में थानाध्यक्ष के रुप में [...]

मैं पत्थर हूँ

लक्ष्मी सिंह
🌹🌹🌹🌹 मैं पत्थर हूँ, चुपचाप खड़ी रहती हूँ, ना चीखती हूँ, ना [...]