II क्या करूं II

संजय सिंह

रचनाकार- संजय सिंह "सलिल"

विधा- गज़ल/गीतिका

मैं रहा सुर ताल में ,थी भीड़ ज्यादा क्या करूं l
बे सुरों से सुर मिलाना, ही न आया क्या करूं ll

आ गया था मैं भी तेरे, दर पे मजमा देख कर l
सिर झुकाना ही न आया, पढ़ के कलमा क्या करूं ll

हो सके तो माफ कर दे, जिंदगी मेरी मुझे l
मैं निकल मजबूरियों से, चल न पाया क्या करूं ll

गैर से शिकवा न कोई, मेरे अपने भी कभी l
राह मेरी चल न पाए, आज दुनिया क्या करूं ll

दौलतों की थी कमी, जो गर्दिशों का साथ था l
प्यार से की परवरिश, जीवन लुटाया क्या करूं ll

अब "सलिल" मुमकिन नहीं, यह सफर आगे बढ़े l
भोर की पहली किरण, सपना बिखरता क्या करूं ll

संजय सिंह "सलिल"
प्रतापगढ़, उत्तर प्रदेश l

Views 37
Sponsored
Author
संजय सिंह
Posts 112
Total Views 3.6k
मैं ,स्थान प्रतापगढ़ उत्तर प्रदेश मे, सिविल इंजीनियर हूं, लिखना मेरा शौक है l गजल,दोहा,सोरठा, कुंडलिया, कविता, मुक्तक इत्यादि विधा मे रचनाएं लिख रहा हूं l सितंबर 2016 से सोशल मीडिया पर हूं I मंच पर काव्य पाठ तथा मंच संचालन का शौक है l email-- sanjay6966@gmail.com, whatsapp +917800366532
इस पेज का लिंक-

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
Related Posts
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia