II एक चितवन से…..II

संजय सिंह

रचनाकार- संजय सिंह "सलिल"

विधा- गीत

एक चितवन से ए मन चपल हो गया l
बात कुछ तो रही जो विकल हो गया l
जाने क्या कह गई अधखुली सी पलक l
मैं लूटा और जहां मेरा सकल हो गया ll

एक चितवन……

मैं तो सागर सा था सब समेटे हुए l
कितने तूफान तन से लपेटे हुए l
एक तुम जो मिले मन ए अंबर हुआ l
मन की गांठें खुली मैं सफल हो गया lI

एक चितवन………

कैसा रिश्ता बना एक मुलाकात में l
बात क्या क्या हुई अनकही बात में l
दर्द जीवन क लेकर भि चलना पड़ा l
भूल जाना भि कौशल विफल हो गया ll

एक चितवन…….

जो भी अपना रहा वो पराया हुआ l
ना बचा यहां कुछ छुपाया हुआ l
अब तो सांसे भि तेरे इशारों पे हैं l
सारा जीवन हि जैसे नकल हो गया lI

एक चितवन……..

मन छूलूं हुनर मुझको मालूम नहीं l
सही क्या गलत मुझको मालूम नहीं l
मन की मर्जी थी जैसी मैं करता गया l
समझ अमृत चखा पर गरल हो गया lI

एक चितवन …..

संजय सिंह 'सलिल'
प्रतापगढ़, उत्तर प्रदेश l

बेहतरीन साहित्यिक पुस्तकें सिर्फ आपके लिए- यहाँ क्लिक करें

Views 27
इस पेज का लिंक-
Sponsored
Recommended
Author
संजय सिंह
Posts 112
Total Views 3.7k
मैं ,स्थान प्रतापगढ़ उत्तर प्रदेश मे, सिविल इंजीनियर हूं, लिखना मेरा शौक है l गजल,दोहा,सोरठा, कुंडलिया, कविता, मुक्तक इत्यादि विधा मे रचनाएं लिख रहा हूं l सितंबर 2016 से सोशल मीडिया पर हूं I मंच पर काव्य पाठ तथा मंच संचालन का शौक है l email-- sanjay6966@gmail.com, whatsapp +917800366532

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia