Gajal

M Furqan Ahmad

रचनाकार- M Furqan Ahmad

विधा- गज़ल/गीतिका

मोहब्बत की है हर एक गम सहना है
अपनी रूदाद किसी से भी न कहना है
“““““““““““““““““““““
बस एक ही खुवाहिश है मेरी ऐ बेगम
मुझे तेरी ही आगोस में जीना मरना है
“““““““““““““““““““““
नन्ही बच्ची ने देखा है जब से चिड़या
जिद किये बैठी है पापा मुझे उड़ना है
“““““““““““““““““““““
मत खीच इस दलालो की सियासत में
हमे तो उमर भर पाक साफ रहना है
“““““““““““““““““““““`
हमेशा तुम भी रहा करो खुश मिजाज
इंशा हो कोई सब्जी नही जिसे सड़ना है
““““““““““““““““““““““
जान कुर्बान हो मुल्क की सरपरस्ती में
इस्लाम कह रहा है हमे भी मर मिटना है
““““““““““““““““““““““`
शब ओ रोज़ ओ माह ओ साल 'अहमद'
बुढ़ापे में माँ की दिदो की रौशनी बनना है

(#फुरकान_अहमद)

Views 1
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
M Furqan Ahmad
Posts 3
Total Views 10
मोहम्मद फुरकान अहमद सिद्दीक़ी लखनऊ शहर से जिन्हें लिखने का शौख है ..? देश के जिम्मेदार नागरिक

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia