साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

तेवरी

जनक छंद में तेवरी

DrRaghunath Mishr
छंद विधान: मापनी: हर प्रथम पंक्ति में मात्राएँ 22 22 212 =13 हर [...]

तेवरी

DrRaghunath Mishr
मौजूदा दशा आज का राजनेता 12 अमीरों को ही सदा देता 16 गरीबों से [...]

डॉ.रघुनाथ मिश्र ‘सहज’ की तेवरी

DrRaghunath Mishr
तेवरी काव्य डॉ.रघुनाथ मिश्र ‘सहज’ की तेवरी : 000 हमने सब [...]

जनक छंद में तेवरी

DrMishr Sahaj
तेवरी काव्य जनक छंद में तेवरी –एक कोशिश [...]

तेवरी। नोट के बदलते तेवर।

राम केश मिश्र
तेवरी ।नोट के बदले तेवर ।। राजनीति है झूठ की । आँधी आयी लूट [...]

संघर्ष एक इतिहास

MridulC Srivastava
जुल्म_ए_खाकी या जुल्म_ए_खादी अधिकार के संघर्ष का तो इतिहास [...]

रमेशराज की जनकछन्द में तेवरियाँ

कवि रमेशराज
|| जनकछन्द में तेवरी || ---1. ……………………………………………………… हर अनीति से [...]

‘ सर्पकुण्डली राज छंद ‘ में 14 तेवरियाँ +रमेशराज

कवि रमेशराज
‘ सर्पकुण्डली राज छंद ‘ में तेवरी....1. ------------------------------------------ हर पल [...]

देश प्रेम

MridulC Srivastava
करने दो हुंकार अब,बस मातृभूमि का सत्कार अब बजने दो मृदंग,कर [...]

गयी ब्याज में गाय || लम्बी तेवरी-तेवर पच्चीसी || -रमेशराज

कवि रमेशराज
चीनी है पैंतीस तौ दो सौ तक है दाल अब है महँगाई कौ दौर, करैगौ [...]

“तभी बिखेरे बाती नूर” {लम्बी तेवरी-तेवर पच्चीसी } +रमेशराज

कवि रमेशराज
छुपे नहीं तेरी पहचान, इतना मान चाहे रूप बदल प्यारे । 1 तुझमें [...]

और भरो हुंकार [ लम्बी तेवरी-तेवर चालीसा ] +रमेशराज

कवि रमेशराज
जनता लायी है अंगार आज यही चर्चा है प्यारे अधराधर। 1 मिलकर [...]

रावणों के राज में [ वर्णिक छंद में लम्बी तेवरी/तेवर चालीसा ] +रमेशराज

कवि रमेशराज
पागलों के साथ है मानो आज राजनीति दानवों के साथ है। 1 आज मत [...]

मन ईलू-ईलू बोले [ लम्बी तेवरी-तेवर चालीसा ] +रमेशराज

कवि रमेशराज
घोटाले मंत्री को प्यारे, लिपट पेड़ से बेल निहाल छिनरे सुन्दर [...]

कायर मरते पीठ दिखाकर [ लम्बी तेवरी-तेवर चालीसा ] -रमेशराज

कवि रमेशराज
‘मीरा’ जैसा धर्म निभाकर तीखे विष का प्याला पाकर, मरा न कोई, [...]

‘ रावण-कुल के लोग ‘ (लम्बी तेवरी-तेवर-शतक) +रमेशराज

कवि रमेशराज
बिना पूँछ बिन सींग के पशु का अब सम्मान मंच-मंच पर [...]

‘पूछ न कबिरा जग का हाल’ [ लम्बी तेवरी , तेवर-शतक ] +रमेशराज

कवि रमेशराज
खुशी न लेती आज उछाल इस जीवन से अच्छी मौत भइया रे। 1 पूछ न [...]

‘ मेरा हाल सोडियम-सा ’ [ लम्बी तेवरी, तेवर-शतक ] +रमेशराज

कवि रमेशराज
......................................................... इस निजाम ने जन कूटा हर मन दुःख से भरा [...]

“जै कन्हैयालाल की! [ लम्बी तेवरी तेवर-शतक ] +रमेशराज

कवि रमेशराज
कृष्ण-रूप में कंस जैसे हर शासक के प्रति- “जै कन्हैयालाल की! [ [...]

घड़ा पाप का भर रहा [लम्बी तेवरी, तेवर-शतक ] +रमेशराज

कवि रमेशराज
मन की खुशियाँ जागकर मीड़ रही हैं आँख चीर रही जो अंधकार को उसी [...]

‘धन का मद गदगद करे’ [लम्बी तेवरी -तेवर-शतक] +रमेशराज

कवि रमेशराज
कितने विश्वामित्र, माया के आगे टिकें इत्र सरीखा दे महक धन [...]

अन्तर आह अनंत अति [ लम्बी तेवरी – तेवर शतक ] +रमेशराज

कवि रमेशराज
बोलें-‘वंदे मातरम्’ तस्कर, चोर, डकैत छद्मवेश को धारे प्यारे [...]

‘दे लंका में आग’ [ लम्बी तेवरी–तेवर-शतक ] +रमेशराज

कवि रमेशराज
सिस्टम आदमखोर, जि़न्दगी दूभर है, कविता को हथियार बना तू [...]

लोक-शैली ‘रसिया’ पर आधारित रमेशराज की तेवरी

कवि रमेशराज
लोक-शैली ‘रसिया’ पर आधारित रमेशराज की तेवरी [...]

लगता है अपनों ने फंदा पिरोया होगा

Ashish Tiwari
मरने से पहले वो कितना रोया होगा ! पाकर सबकुछ फिर उसने खोया [...]

आओ बैठो तुम्हे सुनाये एक कहानी बाबू जी !

Ashish Tiwari
आओ बैठो तुम्हे सुनाये एक कहानी बाबू जी ! झरता है तो झर जाने दो [...]

नेता जी

Ashish Tiwari
भोली भाली जनता को ना मूर्ख बनाओ नेता जी ! जीत गए अब पाँच साल [...]

तेवरी :– क्या रख्खा शृंगार में !!

Anuj Tiwari
तेवरी :-- क्या रख्खा श्रृंगार मे !! अनुज तिवारी “इन्दवार” जलन [...]

तेवरी :– जीना सीखो रौब से !!

Anuj Tiwari
तेवरी :-- जीना सीखो रौब से !! — अनुज तिवारी “इन्दवार” जीना सीखो [...]