साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

शेर

पिता

Suman Kumar Ahuja
Father Day को समर्पित ना मुझे तंग करते है, ना मुझसे तकरार करते है [...]

आसमां शरारत पे उतरा , जमीं को गिला कर दिया

Yashvardhan Goel
आषाढ़ की धूप को ढककर बादल ने नशीला कर दिया आसमां शरारत पे उतरा [...]

चंद शेर आपके लिए

मदन मोहन सक्सेना
चंद शेर आपके लिए एक। दर्द मुझसे मिलकर अब मुस्कराता है जब [...]

वक्त बक्त की बात (मेरे नौ शेर )

मदन मोहन सक्सेना
(एक ) अपने थे , वक़्त भी था , वक़्त वह और था यारों वक़्त पर भी नहीं [...]

यूँ ही कभी कभी

सन्दीप कुमार 'भारतीय'
१. दिले-ऐ-नादान को सुकून की तलाश है जो बंद है तेरे चन्द [...]

नजरें करती हैं साज़िश सताने की मुझको,

Yashvardhan Goel
नजरें करती हैं साज़िश सताने की मुझको, ये ना जानें मेरा हाल [...]

ख़्याल होता नही ख़्याल का, कौन सा लिखना है!

Yashvardhan Goel
ख़्याल होता नही ख़्याल का, कौन सा लिखना है! हाल होता नही हाल का, [...]

कीमत-ऐ-इंतज़ार

डी. के. निवातिया
कीमत-ऐ-इंतज़ार उन महबूब से पूछो कीमत ऐ इंतज़ार जो साल भर सब्र [...]

ईद का चाँद …….

डी. के. निवातिया
ईद का चाँद ……. चाँद दिखे न दिखे इस बार तुम जरूर आ जाना, क्योकि [...]

हुनर

डी. के. निवातिया
हुनर गूंथे जाते है माला में पुष्प वही हर मौसम में खिलने का [...]

शेर

Dr ShivAditya Sharma
।।फर्जी दुनिया।। बनते हैं शहंशाह, कहते हैं हम किसी से कम [...]

क्यों अधूरी ये कहानी रह गई।

शुभम् वैष्णव
क्यों अधूरी ये कहानी रह गई। क्यों अधूरी जिंदगानी रह [...]

मिला है दर्द जो तेरे निगाहों का असर है ये।

शुभम् वैष्णव
मिला है दर्द जो तेरे निगाहों का असर है वो। पता मुझको नहीं था [...]

जीने की वजह…………..

डी. के. निवातिया
तुम्हारी नजरो में जो तस्वीर उभर कर आती है उस तस्वीर में मुझे [...]

” काबिल “

Brijpal Singh
फज़ूल में बखान न करना अपनी काबलियत का दोस्तो, जिस दिन तुलना [...]

मगर

Brijpal Singh
लाख कोशिशे भी चाहे कर लो समझने और समझाने की ))))) मगर((((( कुछ [...]

फासले

विनोद भारती व्यग्र
उनसे नहीं थीं दूरियां मुझको गंवारा कभी, आए नहीं वो.. अर' यहां [...]

वतन

विनोद भारती व्यग्र
गि़ला ये नहीं है कि वो अर्ज़मंद हो गये, हमें तो गिला ये कि वो [...]

तन्हाई

Dr ShivAditya Sharma
मेले लगे लग के चले गए लोग खेले खेल के चले गए वहीं रहे तो बस हम [...]

” सच ”

Brijpal Singh
न रहा स्वावलम्बी कोई ये भी रीत बरकरार है , मौत ही एक सच है [...]