साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

Sahitya

कोयला होता कभी हीरा नहीं

Dr Archana Gupta
सर घमण्डी का रहे ऊँचा नहीं कोयला होता कभी हीरा नहीं खूब जी [...]

*विरह वेदना*

Dharmender Arora Musafir
नयन मेरे निहारें पथ सुहाने गीत गाओ तुम खिलें फिर फूल गुलशन [...]

खूबसूरत धरा बना देंगे

Dr Archana Gupta
खूबसूरत धरा बना देंगे पेड़ों से हम इसे सजा देंगे प्यार से [...]

*दोस्ती*

Dharmender Arora Musafir
दोस्ती का रिश्ता कभी पुराना नहीँ होता ख़त्म कभी भी ये [...]

*प्रेरक*

Dharmender Arora Musafir
मायूस होके न यूँ साँझ की तरह ढलते रहिये भोर है ज़िंदगी सूरज की [...]

प्यारा वतन

Pushpendra Rathore
हर घङी बस चमन में अमन चाहिए, हंसता मुस्कुराता वतन चाहिए। [...]

अनगिनत चाहत

Dr Archana Gupta
हमारे दिल में रहती हैं , हमेशा अनगिनत चाहत न लेने चैन देती ये [...]

*इरादों में तुम रखना जान*

Dharmender Arora Musafir
इरादों में तुम रखना जान और मुट्ठी में आसमान हर मुश्किल के ही [...]

*मुकद्दर*

Dharmender Arora Musafir
मुकद्दर जहाँ में उसी का हुआ है खुद पे ही जिसने भरोसा किया [...]

मुक्तक

Dharmender Arora Musafir
अम्बर को चूमे है बेटी ग़म में भी झूमे है बेटी घर के सूने से [...]

*नारी का सम्मान*

Dharmender Arora Musafir
नारी का सम्मान करो भूल से न अपमान करो मन से समझो तुम इसको [...]

सोच

Kokila Agarwal
सोचती थी क्या तुम्हारी सुगंध को मेरी खुशबू रास आयेगी क्या [...]

झूठ सच से क्या बोलता रहा

Kokila Agarwal
झूठ सच से क्या बोलता रहा सच सच न रहा झूठ बन गया नफरतों की [...]

न ज़िन्दगी से हम थे हारे

Alok Mittal
मापनी - २२ २२ २२ २२ पदपादाकुलक छंद ~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~ न ज़िन्दगी [...]

जाने कैसे

प्रतीक सिंह बापना
जाने कैसे ये ज़िन्दगी बदल गयी कागज़ की कश्तियों से खेलते [...]

मन निर्विकार

Ankita Kulshreshtha
निर्विकार निराकार एक स्वप्न साकार होता हुआ , तोड़ कर [...]

ये संसार भी बेटियों से चला है

Dr Archana Gupta
ये संसार भी बेटियों से चला है अगर पास बेटी तो ये इक दुआ है [...]

तीज जैसा व्रत कठिन करती रही;

Kavi DrPatel
एक गीतिका देवी स्वरूप पतिव्रत धर्म पालन करनेवाली मातृशक्ति [...]

💐🎂💐 💐🎂💐💝वो बूढ़ा है पर अब लाचार नहीं होगा

Kavi DrPatel
💐🎂💐 💐🎂💐 💝 गजल ⭐ ********* वो बूढ़ा है पर अब [...]

मेरे श्याम

Ankita Kulshreshtha
हाथ माखन होंठ मुरली . . से सजाया आपने .. नंद नंदन श्याम जग को . . है [...]

कविता

Sharda Madra
मैंने कभी अभिनय नहीं किया माँ, बहन, बेटी, दादी होने [...]

लिपियाँ सूखे की

Sharda Madra
ये जल विहीन धरा की लिपियाँ सूखे की निशानी कुंभ सिर, हाथ धर चली [...]

गीतिका

Sharda Madra
कारे-कारे कजरारे बदरा रे नीर बहा रे तड़पे तपती धरती भी माटी [...]

सूर घनाक्षरी

Sharda Madra
पत्थर पहाड़ पत्ते, तपाये तपन तपें, आग आज अजगर, सा मुख [...]

कर्म फल

Sharda Madra
सपने ने मुझसे कहा पाने की सदा तमन्ना रख परिश्रम हर्ष से बोला, [...]

अमलतास

Sharda Madra
हल्दी चढ़ी दुल्हन सरीखी सुशोभित डाल है चंदन सी सुनहरी [...]

विलाप

Kokila Agarwal
विलाप ये कैसा विलाप मद्धम स्वर की चीत्कारें अंतरिक्ष में [...]

सारा ही जग तप रहा

Dr Archana Gupta
सारा ही जग तप रहा , खिली हुई यूँ धूप अमलतास का पर हुआ , सोने [...]

” बोलो मेरे यार बुझे क्यूँ रहते हो “

Kavi DrPatel
🌞 सुप्रभात मित्रों 🌞 🌴🌳🌱🍀🌿🌵🌳🍀🍃🌱🌴 बोलो मेरे यार बुझे [...]

तनहाई

MUKESH PANDEY
क्यूँ समझती है तेरे बिन यहाँ तनहाई नही है। बिस्तर तो है मखमल [...]