साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

Sahitya

भक्ति भाव

dr. pratibha prakash
कुछ भी कर सकते हो तुम सर्वश्रेष्ठ सर्व समर्थ हो तुम शब्दों [...]

पढ़कर कोई कलेक्टर तो बनना नहीं

Harish Bhatt
कम्प्यूटर के दौर में हम जितनी तेजी से आगे बढ़ते जा रहे है, [...]

“कल्पित जीवन “

Dr.Nidhi Srivastava
वह कल्पित जीवन कितना सुंदर , नहीं जहाँ पर तम अन्तर्मन में [...]

“इंतज़ार”

Dr.Nidhi Srivastava
कतरा-कतरा टूट कर गिरा, अब मैं सूनी हो गयी , नि:शब्द -शब्द गूंज [...]

तेरा इंतजार

Dinesh Sharma
जो देखा था तेरे इंतजार में टूटता पत्ता उस पेड़ से जो सुख गया [...]

आभास (वर्ण पिरामिड )

sushil sarna
आभास (वर्ण पिरामिड ) मैं तुम यथार्थ और हम एक विश्वास जीवन [...]

जिसे चाहकर भी भुलाया न गया

kamni Gupta
दिल से जिसे चाहकर भी भुलाया न गया। आँखों में भी उन्हें फिर [...]

लडकियां उदास हो गईं……..

Ramesh chandra Sharma
वहशियों का ग्रास हो गईं ,लडकियां उदास हो गईं, भेडियो की [...]

बेटी ……….

Ramesh chandra Sharma
-: बेटी :- मेरे आंगन में आकर जब भी चिड़िया चहचहाती है, मैं रो [...]

यूं न ठुकरा माँ……….

Ramesh chandra Sharma
गीत यूँ न ठुकरा मुझे, मत तिरस्कार कर, एक मूरत हूँ मैं [...]

मैं सिपाही

kamni Gupta
सरहदों को सुरक्षित रखता रहा! खुद को यूंही समर्पित करता [...]

पतन

dr. pratibha prakash
हमारा आध्यात्म कमजोर हुआ हमारी संस्कृति अपंग होने लगी फिर [...]

*दर्द*

Dharmender Arora Musafir
आधार छंद =आनंदवर्धक मापनी =2122 2122 212 ::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::: दर्द में [...]

वर्ण पिरामिड….

sushil sarna
वर्ण पिरामिड में प्रथम प्रयास : है धूप ही धूप हर ओर हुआ [...]

बच्चा बच्चा सिपाही है भारत माँ का

Dinesh Dave
देश भक्ति पर लिखने का प्रयास .... बच्चा बच्चा सिपाही है भारत [...]

……साहस अभाव…..

Dr Chandra
साहस अभाव में सुजनों के , दुष्टों का साहस पलता है । हों असुर [...]

मकान की यादे

शिवदत्त श्रोत्रिय
मकान का बाहरी कमरा जहाँ दादा जी रहते थे| ना जाने सोते थे कब, बस [...]

*सच की आदत*

Dharmender Arora Musafir
सच की आदत बहुत बुरी है कड़वी ये इक तेज छुरी है कलियुग में [...]

….. .. पद ……

Dr Chandra
भगवन!क्यों नहिं दर्शन पाऊँ । योग मंत्र श्रुति ग्रन्थ न जानू , [...]

गीतिका

राज शर्मा
देखलो सूरज सुबह फिर काम करने आ गया, कर उजाला विश्व में वो नाम [...]

हरियाला सावन

dr. pratibha prakash
हरा भरा हरियाला सावन मन भाये मतवारा साजन प्यासी प्रीत धरा [...]

स्टेशन मास्टर

dr. pratibha prakash
कल एक संस्मरण पड़ रही थी यही फेसबुक पर जो रेलवे से सम्बंधित [...]

गीतिका

राज शर्मा
मुश्किल से ना घवराना तू, हिम्मत से बढ़ते जाना तू, औ,कोई लाख [...]

दोस्ती पर लिखी आन्दित कर देने वाली चंद पंक्तियाँ

कृष्ण मलिक अम्बाला
आज की कविता लीजिये आनन्द एक सन्त ने कहा जब दो आत्माएं एक [...]

“ईद मुबारक देता हूँ “–राष्ट्रीय एकता का एलान

कृष्ण मलिक अम्बाला
ईद के सुअवसर पर कुछ पंक्तियाँ । कवि कह रहा है --- "ईद मुबारक [...]

चेहरे का नहीं करते नाज हम

कृष्ण मलिक अम्बाला
अर्ज किया है चेहरे का नहीं करते नाज हम ये तो खुदा की [...]

🌷”बढ़ते बॉलीवुड के कदम” 🌷

कृष्ण मलिक अम्बाला
मेरा पहला लेख आंतरिक प्रेरणा ने लेख को मजबूर किया । जैसा कि [...]

सोचता हूँ

kamni Gupta
कभी कभी सोचता हूँ कुछ शब्दों से परे! हो कोई ऐसा भी जो बस [...]

गज़ल

Dr.Priya Sufi
मेरे रहबर, मेरे मेहरम, सनम मुझ पर अहसान करो, मैं तूफानों का [...]

सागर उदास है

Dr.Priya Sufi
उस सागर की क्या बात सुनाऊँ वो आजकल उदास रहता है। किनारों [...]