साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

Sahitya

मेरे साथ चलता नही

शिवदत्त श्रोत्रिय
मंज़िल पर मिलने वाले बहुत है यहाँ क्यो कोई रास्तो पर नही [...]

घड़ा पाप का भर रहा [लम्बी तेवरी, तेवर-शतक ] +रमेशराज

कवि रमेशराज
मन की खुशियाँ जागकर मीड़ रही हैं आँख चीर रही जो अंधकार को उसी [...]

कर दी मैली…..

Dinesh Sharma
बदल गये गंगा तट वासी पर न बदली गंगा माँ सच में माँ तो माँ ही [...]

इश्क़ होता तो रुकता

Yashvardhan Goel
हर बार वही झुकता सही था गलत बता के निकल लिया इश्क़ होता तो [...]

गणेशाष्‍टक

Dr. Gopal Krishna Bhatt 'Aakul'
जय गणेश, जय गणेश, गणपति, जय गणेश।। (1) धरा सदृश माता है, माँ की [...]

कविता :– काम करने चला बचपन !!

Anuj Tiwari
कविता :-- काम करने चला बचपन !! खानें की चाह पे खोया बचपन रातों [...]

मेरा भारत महान् (देशगान)

Dr. Gopal Krishna Bhatt 'Aakul'
('पन्‍द्रह अगस्‍त छियानवे' के लिए 1996 में रचित यह रचना चरण के [...]

क्षुद्रिकाएँँ

Dr. Gopal Krishna Bhatt 'Aakul'
दुश्‍मनी ***** दु:स्‍वप्‍न सा भर के गरल आकंंठ दोनों आखों में [...]

विद्रू्पताएँँ

Dr. Gopal Krishna Bhatt 'Aakul'
1 संस्‍कार होंगे राम राज्‍य के स्‍वप्‍न साकार होंगे 2 बेच [...]

भारत मेरा महान्

Dr. Gopal Krishna Bhatt 'Aakul'
उन्‍नत भाल हिमालय सुरसरि, गंगा जिसकी आन । उन्‍मुक्‍त तिरंगा [...]

सरल दोहे

शैलेंद्र सरल
सुप्रभात मित्रों - (8/9/16) शायरों के नाम एक सरल [...]

गुण त्रय

avadhoot rathore
हैं रंगत जग जीव सब, सत रज तम गुण [...]

ओ मंजिल के मुसाफिर

कृष्ण मलिक अम्बाला
एक मित्र को जन्म दिन पर प्रोत्साहित करती एक रचना । आप भी अपने [...]

जिन्दगी के संग सेल्फी

सन्दीप कुमार 'भारतीय'
जिन्दगीके संग सेल्फी ********* थोडा सा मुस्कुरा ज़िन्दगी तेरे [...]

3. पुकार

Versha Varshney
सुनो क्यूँ करते हो तुम ऐसा जब भी कुछ कहना चाहती हूँ दिल से [...]

ग़मों की दुनिया तलाश लोगे बुरा करोगेे

Salib Chandiyanvi
ग़मों की दुनिया तलाश लोगो बुरा करोगे अलेहदा सबसे रहा.. करोगे [...]

उस बेवफ़ा की तरह

विनोद कुमार दवे
ये वक़्त भी गुजर गया बातोँ बातोँ मेँ,,,,,,,,, दुरियाँ बदल न सकी [...]

वो दिन लड़कपन के

दुष्यंत कुमार पटेल
प्रतिबिम्ब सा मन पटल में वो दिन लड़कपन के रमणीय है स्वर्निम [...]

कोई अन्‍याय नहीं किया (प्रेरक प्रसंग)

Dr. Gopal Krishna Bhatt 'Aakul'
भिक्षा ले कर लौटते हुए एक शिक्षार्थी ने मार्ग में मुर्गे और [...]

ग़मो ख़ुशी

avadhoot rathore
रहती नहीं मिठास,ज़ुबाँ पर देर तक, रहती मुई खटास,ज़ुबाँ पर देर [...]

चुपके-चुपके मेरे शहर से

Dr. Gopal Krishna Bhatt 'Aakul'
दीवाने की मीठी यादें लाती है दिन-रात हवा। चुपके-चुपके मेरे [...]

कुछ न कुछ बदला जाए

Dr. Gopal Krishna Bhatt 'Aakul'
चलो आज से कुछ ना कुछ बदला जाए। माँ हर दम कुछ ना कुछ है करती [...]

विश्वास की गली में ये ज़िन्दगी पली है

Dr Archana Gupta
विश्वास की गली में ये ज़िन्दगी पली है देती है दर्द [...]

बरसे बरसे बरखा बरसे

MANINDER singh
बरसे बरसे बरखा बरसे, पिया मिलन को जिया तरसे, घनघोर बदरिया [...]

मेहनत ही भाग्य विधाता है / कविता

दुष्यंत कुमार पटेल
कुछ कर दिखाने को ठानो तो सही, यहाँ मेहनत ही भाग्य विधाता है [...]

मन

Shubha Mehta
उड़ चल रे मन कर ले अपने सपनों को पूरा देखे थे जो तूने कभी मत [...]

शिक्षा

डॉ सुलक्षणा अहलावत
चैन से कैसे सोऊँ मैं, मुझे शिक्षा की अलख जगानी है, मेरे देश [...]

“साँझ”

Dr.Nidhi Srivastava
सुरमई सांझ, सुवासित सुमन, सुमधुर गीत, भ्रमरों का [...]

शिक्षक

Dr. Gopal Krishna Bhatt 'Aakul'
जो शिक्षित करता हम उसको, शिक्षक कह सकते हैं। जो दीक्षित करता [...]

कुंडलिया

Mahatam Mishra
“कुण्डलिया छंद” गुरुवर साधें साधना, शिष्य सृजन रखवार बिना [...]