साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

Sahitya

*नारी राष्ट्रशक्ति*

दुष्यंत कुमार पटेल
नारी राष्ट्रशक्ति किरणमयी, गरिमा,संस्कृति,निधि औ' सुचिता [...]

माटी सुत

जगदीश लववंशी
हम बैठे लगाकर उनकी आस, मन में बसा है एक विश्वास, ताक रहे हम [...]

“हमारा प्रेम”

Rita Yadav
हमारा प्रेम एक नहीं प्रेम है लाखों हजार रखते प्रेम को दिल [...]

दुर्गावती की अमर कहानी

Rajesh Kumar Kaurav
गढ़ मंडला राज्य की रानी, नाम दुर्गावती वीर मर्दानी। निर्भीक [...]

** बेटी का दर्द **

Neelam Ji
नई उम्मीदें नए सपने संजोती बेटी । शादी होकर जब ससुराल जाती [...]

💥💥✍✍चल हक़ीकत से रु -ब-रु हो जा✍✍💥💥

Abhishek Parashar
चल हक़ीकत से रू-ब-रु हो जा, अब जल्दी से शुरू हो जा। इतना समय दिया [...]

उड़ो मत हवा में

Rita Yadav
उड़ते हुए कब किसी ने, सारी जिंदगी गुजारी है l उड़ती है पतंग [...]

थका थका दिन

राजेश शर्मा
अकेलेपन से व्यथित मन कोई साथी ढूँढ रहा है।पर जब उसे अपने आप [...]

” —–————————- समय का ईशारा है ” !!

Bhagwati prasad Vyas
ये जो तेरी आंखें हैं , जीने का सहारा हैं ! प्यास है कि घटती नहीं [...]

जय हिंद

Pritam Rathaur
जिगर में आज भी अपने तिरंगा मुस्कुराता है भगत सुखराज वो [...]

ये तो है खंजर मियान थोड़ी है

Pritam Rathaur
कई है मुल्क मगर उनमें शान थोड़ी है कोई भी हिन्द के जैसा महान [...]

मित्र को चेतावनी

Pritam Rathaur
जाते हो तुम जिस तरह जल्दी आना जी। प्यारे बच्चों के लिए कुछ [...]

चाँद सूरज की रौशनी है माँ

Pritam Rathaur
२१२२/१२१२/२२ मेरे आंखों की रौशनी है मां लाख ग़म मे वो इक [...]

शायरों ने कहा शायरी मिल गई

Pritam Rathaur
गीत को अब मेरे मौसिकी मिल गई ग़म में भी अब मुझे हर खुशी मिल [...]

तेरी गोद सा घर नहीं

Pritam Rathaur
मुतफाइलुन मुतफाइलुन 11212 11212 तेरे जैसा कोई बसर नही मां के [...]

कदमों में मां के तले सारी खुदाई देख ली

Pritam Rathaur
प्यार की शम्मा यहां पर जो जलाई देख ली खूब की तुमने हमारी जो [...]

क़तआ

Pritam Rathaur
मिलते हैं जख़्म दिल को मुहब्बत में आजकल होती नही गुजर है [...]

मेरी कश्ती को न किनारा मिला

Pritam Rathaur
मुझे उनके खत का लिफाफा मिला जो देखा वरक सारा सादा मिला [...]

दीप यादों के जलाना छोड़ दे

Pritam Rathaur
जख़्म दिल के तू दिखाना छोड़ दे फिर हंसेंगे सब बताना छोड़ दे [...]

सुर्ख आरिज़ों पे ….

sushil sarna
सुर्ख आरिज़ों पे …. सुर्ख आरिज़ों पे गुलाब रखते हैं ...वो चिलमन [...]

शिक्षा में सुधार हेतु योजनाओं पर नहीं अपितु वास्तविकता पर ध्यान दें

कृष्ण मलिक अम्बाला
आज और पन्द्रह से बीस वर्ष पहले के समय पर ध्यान दें तो शिक्षा [...]

*वक्त बदलेगा हमारा देखना*

Dharmender Arora Musafir
*वक्त बदलेगा हमारा देखना* वक्त बदलेगा हमारा देखना ! शान से [...]

वास्ता टूट गया

Rita Yadav
दीया जलाने लगे आजकल हम आंधी में आग बुझती ही नहीं जो लगी है [...]

आंसू भी जरूरी है

Yogita Tiwari
जगजीत जी की एक बडी प्यारी गजल है मुझको यक़ीं है सच कहती थीं जो [...]

मुझको हरेक खेत ही जलता दिखाई दे- कुछ शेर

लोधी डॉ. आशा 'अदिति'
ऐसी लगी है आग सियासत की आजकल मुझको हरेक खेत ही जलता दिखाई दे [...]

आदमीयत फिर जगा कर देखिए

Pritam Rathaur
जां वतन पर तुम लुटा कर देखिए दर्द गैरों का उठा कर देखिए [...]

जिन्दगी जिसने हमारी ये सँवारी होगी

Pritam Rathaur
उड़ान मेरी मां सारे जमाने से भी प्यारी होगी जिंदगी जिसने [...]

एक मतला दो शेर

Pritam Rathaur
हुआ कैसा मिरे दिल पे निगाहों का असर है जिधर है वो सनम कातिल [...]

“जिन्दगी का मेरे तू ही आधार है”

Pritam Rathaur
212 212 212 212 बात दिल से हमें आज स्वीकार है काव्य परिवार है काव्य [...]

जख़्म सीने में जब उभरते हैं

Pritam Rathaur
राह कांटों की फिर भी चलते हैं जिंदगी के सफर यूं कटते हैं [...]