साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

अन्य

!!बेटा और बेटी – एक समान !!

अजीत कुमार तलवार
बेटा वारस है, तो बेटी पारस है. बेटा वंश है, तो बेटी अंश है. बेटा [...]

जिन्दगी को गुजार दो

लक्ष्मी सिंह
🌹🌹🌹🌹 जिंदगी को गुजार दो खिलखिलाते हँसते हँसते। न जाने [...]

धोखा

Veerendra Krishna
दुनियां में धोख़ा बहुत आम बात है..! यह सभी के जीवन में सामान्य [...]

राधिका प्रेम

सोनू हंस
*विधा*- राधिका छंद (प्रति चरण 22 मात्रा, यति 13, 9) मेरे प्रेम की न [...]

!! कन्या को जन्म लेने से न रोकें !!

अजीत कुमार तलवार
जब भी मैं देखता हूँ, कन्या का पूजन होते हुए सोचता हूँ कि, [...]

सखी

मधुसूदन गौतम
बात हुई तुमसे री सखी। सारी बाते ही तुम्हे लिखी। पर देखो [...]

दो कुण्डलिनी छंद

आकाश महेशपुरी
दो कुण्डलिनी छंद 1- कितनी छोटी हो गयी, है मानव की सोच, आगे बढ़ने [...]

नवदुर्गा के नौ रूप स्तुति

डी. के. निवातिया
नवदुर्गा के नौ रूप स्तुति शैलपुत्री शिखर वासिनी, त्रिशूल [...]

तेरे बगैर

लक्ष्मी सिंह
(1)🌹🌹🌹🌹 एक कमी है मुझ में जो तेरे पास आकर पूरी होती है, तेरे [...]

आदत नहीं

लक्ष्मी सिंह
💓💓💓💓💓 आदत नहीं जीने की तुझ से जुदा होकर.... कभी ना जाना [...]

उलझन

pratik jangid
मेरी बातो को इस कदर ना समझना की मे तुमको उलझा रहा हु । बस इतना [...]

!! खून की प्यासी दुनिया सारी !!

अजीत कुमार तलवार
जिधर देखो इक भयानक खोफ्नाक समय गुजर रहा है किसी को कोई [...]

आरती

dhanraj vishwakarma
आरती आरती अम्बे मैया की अखिल ब्रम्हांड रचैया की ॥ 1 मुकुट [...]

!! साहित्यापीडिया-क्या अंग्रेजी भाषा भी स्वीकार है ? !!

अजीत कुमार तलवार
जो नियम साहित्यापेडिया के बनाए हुए हैं, क्या उनका सही से [...]

!! नशे का कारोबार !!

अजीत कुमार तलवार
कितना भी रोक लो, कितना भी टोक लो चाहे रख लो पहरेदार जिस ने [...]

!! आजमा कर तो देखिये !!

अजीत कुमार तलवार
एक मुस्कुराहट के दे देने से कई काम संवर जायेंगे मुस्कुरा के [...]

!! सोच कर तो देखो !!

अजीत कुमार तलवार
कभी किसी भूखे को देखो तो पता चले भूख क्या होती है कभी किसी [...]

!! !! कुछ तो सही होगा !! !!

अजीत कुमार तलवार
छल की आड़ में मीठा बोलने की कोशिश कभी न करना ऐसा करने वाला [...]

दुर्मिल सवैया :– प्रथम खण्ड ॥॥

Anuj Tiwari
*दुर्मिल सवैया छंद* :-- प्रथम-खण्ड *चित चोर बड़ा बृजभान सखी* ॥ 8 [...]

सच्चाई दिखलाता हूँ

डी. के. निवातिया
नित्य कर्म की तरह सुबह कार्यशाला के लिए प्रस्थान करने से [...]

प्रतिपदा प्रपंच

मधुसूदन गौतम
अकडूमल एवं झगडूमल आज सुबह नाई की दुकान पर मिले। अभिवादन हुआ। [...]

मैं औऱ वो

Rishab Shukla
मै नजरो से नजरे मिलाता रहा वो नजरो से नजरे चुराती रही मै उसे [...]

*बोल सियावर रामचन्द्र की जय*

भूरचन्द जयपाल
हे मारुत नन्दन मारुती सुन क्रंदन सुन क्रंदन दुःख हर भय [...]

पत्नी जब चैतन्य,तभी है मृदुल वसंत||

Brijesh Nayak
( मुक्त छंद) जाया, सो गई रेल में, यात्रा हुई अनाथ | बिन बातों के [...]

पति-पत्नी की नोक-झोक

Kaushlendra Singh Lodhi
*पति-पत्नी की नोक-झोक* एक बार पति व पत्नी में हो गया झगड़ा भारी [...]

मुझे वक्त दे इतना (मुक्तक)

ramprasad lilhare
मुझे वक्त दे इतना यूँ तो जीने की तमन्ना बहुत हैं मेरे दिल [...]

महात्मा सूरदास

सौम्या मिश्रा अनुश्री
हैं ये साहित्य के महाकवि भक्ति काल कृष्ण भक्त [...]

*अफसर की अगाड़ी और घोड़े की पिछाड़ी *

भूरचन्द जयपाल
चर्चा का विषय था अफसर अफसर के पास या अफसर से दूर एक मोहतरमा [...]

नारी अबला

Veerendra Krishna
#नारी_अबला हे..! नारी.. तुम प्रमदा, तुम रूपसी, तुम प्रेयसी, तुम [...]