साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

अन्य

**प्रतिभा पलायन** क्यों ? ज़रा सोचिए !

Neeru Mohan
*देश के हित को सोच कर ही हम सब को आगे बढ़ना है| प्रतिभा पलायन [...]

किसान (रागनी)

सतीश चोपड़ा
क्यूकर मनाऊँ तीज पींग फांसी का फंदा दिखै सै दब्या कर्ज तळै [...]

चल-चले मिले कहीं

Author Rishi(ऋषि के.सी.) K.C.
चल-चले मिले कहीं न तेरा आश्रय न मेरा, प्रीति-गीत गाए कहीं [...]

*** साथ हमारे ईश्वर है ***

भूरचन्द जयपाल
ये जीवन भँवर है आशा और निराशा इन दोनों के बीच का भ्रमण पथ [...]

🍁🍁🍀🍀गुल ए गुलज़ार कर🍁🍁🍀🍀

Abhishek Parashar
आती रहे तेरी याद कुछ ऐसे क़रार कर, करता हूँ इन्तजार अब न बेक़रार [...]

राजनीती और विज्ञान

Ashutosh Jadaun
राजनीतिक गतिकी का नियम :- राजनेता ना निर्मित होते है , ना ही [...]

जरा बतिया ले

guru saxena
सवैया छंद आदमी कि नहिं गैस मिटे चहे बीस प्रकार की औषधि खा ले [...]

हिमालय

guru saxena
कुंदलता सवैया ( 8 सगण 2 लघु) चलते नित हैं सत् के पथ में, फिर हो [...]

भोला भंडारी

लक्ष्मी सिंह
🌹🌹🌹🌹 वो भोला पी हाला मतवाला डमरू वाला हृदय विशाला जग का [...]

बात बाकी थी

Hardeep Bhardwaj
कहां चले गए थे तुम। मुझे अकेला छोड़ के।। अभी मेरी बात बाकी थी [...]

बंद तालों में

लक्ष्मी सिंह
🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹 है लगा तालों में जंग [...]

समय मिला तो गरीबो को मिटाने का साहस करूँगा

पारसमणि अग्रवाल
एक दिन मै सफर पर जा रहा था। एक भिखारी भीख माँग रहा था। मैने [...]

✍✍इस तरह आपसे मेरी मुलाकात हो✍✍

Abhishek Parashar
इस तरह आपसे मेरी मुलाकात हो, खाँमोशियाँ हों ख़तम, दिल में [...]

*** हम मौन रहे तो ***

भूरचन्द जयपाल
हम मौन रहे तो ऐसे कई डांगाबास घटित होंगे क्यों भीतर ही [...]

🔥🌞🌞सूर्य अधार सब सृष्टि दिखे 🌞🌞🔥

Abhishek Parashar
तप अधार जग सृष्टि सजे,जिव्हा के अधार निकसति है वानी। भोजन [...]

*** वो मुझे अपनाकर भी ***

भूरचन्द जयपाल
मै जिसे प्यार करता रहा मासूम समझ कर वो ही मुझे जख़्म पे [...]

*** मेरी तन्हाइयों में ना आया करें ***

भूरचन्द जयपाल
मैंने रात के अँधेरे से कह दिया है मेरी तन्हाइयों में ना [...]

वर्तमान हालात पर नवयुवकों के नाम खुला खत्

Shalini Tiwari
विषय : बिगड़ते वर्तमान हालात नवयुवकों एवं राष्ट्र के भविष्य [...]

भूले माँ का प्यार

राजकिशोर मिश्र 'राज' प्रतापगढ़ी
परदेशी सुत हो गये , भूले माँ का प्यार । हाथ जोड़ विनती करे , [...]

प्यार पैसों से नहीं, नसीब से मिलता (अर्पिता की कलम से)

arpita patel
दोस्तों हर साल दीवाली आती है, होली आती है, रक्षाबंधन आता है [...]

मेरे गुरु

arpita patel
मेरे गुरु भले ही दुनिया को स्वार्थ की बेहरम जंजीरों ने क्यूँ [...]

मेरी दोस्त और मेरी दोस्ती

arpita patel
........... मेरी दोस्त और मेरी दोस्ती........ दोस्तों जब मेरे पास कोई [...]

मेरी और उसकी मोहब्बत

arpita patel
मेरी और उसकी मोहब्बत ★★मेरी और उसकी मोहब्बत★★ मोहब्बत [...]

ये खुदा तू बस इतना बता

arpita patel
ये खुदा तू बस इतना बता ★★ये खुदा तू बस इतना बता★★ ये खुदा तू [...]

हर मर्द का दर्द

पं.संजीव शुक्ल
हर मर्द का दर्द .................... कान्धे पर झोला लिए निकलने लगे [...]

सवैया छंद

maheshjain jyoti
कभी भी नहीं छोड़ना हाथ माते , करें प्रार्थना मान लीजे हमारी [...]

🌺🌺अवधूत बना बैठा यह मन 🌺🌺

Abhishek Parashar
अवधूत बना बैठा यह मन, करता नहीं चिन्तन विमल -विमल निर्लज्ज [...]

मदकलनी छ्न्द

मधुसूदन गौतम
कलम घिसाई मदकलनी छ्न्द पर 11112 ,11112,11112,11112 *******†********†*********** पिक बयनी, [...]

माना कि आप सूरज हो मगर ढलते हुये

पारसमणि अग्रवाल
अपनों ने हमें जीने का नजरिया सिखा दिया। ठोकरो ने हमें चलना [...]

🙏 गुरु वंदन 🙏

तेजवीर सिंह
🙏 गुरुपर्व की अनंत मङ्गल कामनाएं 🙏 🌺🌻 पवन छंद 🌻🌺 🔧शिल्प~ [...]