साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

अन्य

बेटियां

सौम्या मिश्रा अनुश्री
नील छंद विधान ~ भगण×5 + गुरु शील विनीत समाहित सुन्दर सोहक [...]

मत्तग्यन्द सवैया

नवीन श्रोत्रिय
देख गरीब मजाक करो नहि,हाल बनो किस कारण जानो । मानुष  दौलत [...]

कागज कलम कलमकार….

राहुल रायकवार जज़्बाती
कागज कलम कलमकार का केवल एक ही कमाल... कुरूप कोमला कविता कर [...]

ज़िंदगी

Pankaj Trivedi
ज़िंदगी फिल्म की तरह बनती है, सँवरती है, बनतीहै, बिगड़ती है, लोग [...]

…. पद … भगवन ! कैसे दर्शन पाऊँ ?

Dr. umesh chandra srivastava
...... पद .... भगवन ! कैसे दर्शन पाऊँ ? तीरथ चारो धाम गया मैं , सागर [...]

ठन्ड में पेश है चाय:-

Sajan Murarka
ठन्ड में पेश है चाय:- प्यारा बंधन हम दोनों यारों [...]

दिल कि खोली

डी. के. निवातिया
खाली है दिल कि खोली इसको भर दो कुछ दौलत अपनी हमे ईनाम कर [...]

व्यंगयुक्त तुकबंधी

Sajan Murarka
एक पुरानी व्यंगयुक्त तुकबंधी नाम की महिमा भजो प्रभु का [...]

चुटकी

Sajan Murarka
कौतुक चुटकी बरबाद होना है इश्क़ में, कामयाब हो या नाकाम या [...]

आपके शहर से….

Rishab Shukla
न गिला न शिकवा न तिज़ारत आपके शहर से हमे तो बस जरा सी मोहब्बत [...]

सत्य अहिंसा

Shiv sheshdhar Tripathi
कहा सत्य है कहा अहिंसा ये तो बोल पुराना है चाहे जो भी बोल है [...]

मंजिले यू ही नही मिला करती

मानक लाल*मनु*
🎊🎊यू ही नहीं मिला करती👏👏 कश्तियां यू ही पार नहीं लगा करती [...]

बेशरम

विजय कुमार नामदेव
दिल ही है बेशर्म या दिलदार बेशरम। करना नही है प्यार का [...]

छतीसगढ़ी ::प्यास मरत हन ::

sushil yadav
हमू ला कछु निशानी दे दो चुहके बर आमा चानी दे दो # मरत प्यास [...]

छतीसगढ़ी :: असल हमर चिन्हारी नइये ::सुशील यादव

sushil yadav
हमर हाथ म रापा नइये, हमर हाथ कुदारी नइये तोर ठप्पा का [...]

व्यंग :::मन रे तू काहे न धीर धरे

sushil yadav
II मन रे तू काहे न धीर धरे II मेरा मन 8/11 के बाद जोरो से खिन्न हो [...]

व्यंग प्रभु मोरे अवगुण ….

sushil yadav
व्यंग्य प्रभु मेरे अवगुण ..... / सुशील यादव वे प्रभु थे। .....सभी [...]

नोट की महिमा …..

sushil yadav
नोट की महिमा जिन नोटन की बात करत हैं,उसकी महिमा अपरंपार [...]

*** ईद की पूर्व संध्या पर *****

भूरचन्द जयपाल
मैंने ईद की पूर्व सन्ध्या पर चाँद को देखा होले होले मेरे [...]

दिन बदलते……

manan singh
दिन बदलते देर लगती कब बता? भेड़ बनकर घूमता है भेड़िया।1 लूटकर [...]

“क्षणिका”

राजेश
"क्षणिका" ------------------------- हवाओं ने फैलायी, थी तेरी आने की, ख़ुशबु [...]

**नक़ाब**

भूरचन्द जयपाल
खूबसूरत दिल को नकाब की आवश्यकता नहीं नकाब तो झूठे लोग [...]

••कृष्ण लीला••

रागिनी गर्ग
पहली सखी दूसरी सखी से- आज पनघट पे नहीं चलेगी का? दूसरी सखी-न [...]

**** शत्रु के प्रति क्षमा भाव रखे *****

Raju Gajbhiye
**** शत्रु के प्रति क्षमा भाव रखे ***** किसी ने सच ही कहा है की - [...]

*डार्लिंग*

भूरचन्द जयपाल
डार्लिंग इससे तो हम कुंवारे ही अच्छे थे कम से कम तुम्हें [...]

भूल भईय्या भूल मृत्यु डाल पे झूल

Naveen Jain
रमल चार फ़ाइलातुन जिंदगी से सीख मैंने ले रखी है आज [...]

काश…….. !

Rituraj Srivastava
मन का तिमिर दूर हो हृदय में उजियारा रहे । मैं तेरा प्यारा [...]

“क्षणिका”

राजेश
"क्षणिका" ---------------------- अब नहीं , बोलूंगा कभी, सत् । खुल [...]

*भजन*

भूरचन्द जयपाल
*भजन* 🎂*******🎂 पीरां में पीर कहावे रामापीर आन हरो म्हारे [...]

“क्षणिका”

राजेश
"क्षणिका" ------------------------- अब नहीं , बोलूंगा कभी, सत् । खुल [...]