साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

अन्य

दीपावली की शुभकामनायें

Laxminarayan Gupta
आये लक्ष्मी लाये उजाला पर उपकार कराये । हर बुराई पैसे से आती [...]

‼‼ बजरंगी मेरे मन की पीर हरो ‼‼

Abhishek Parashar
सभी सुहृदों को हनुमत जन्म महोत्सव की अग्रिम शुभ कामना, [...]

बडे राज

Vindhya Prakash Mishra
बडे ही राज रक्खे है दिलों मे दबा करके कभी कह दो बहाने से मौका [...]

🎺🎺बन्शी धुनि कबहुँ परेगी कान🎺🎺

Abhishek Parashar
बन्शी धुनि कबहुँ परेगी कान, भ्रमर गूँज सुनिबे में आवे, ताते [...]

विचलित हूँ

कवि कृष्णा बेदर्दी
तेरे जाने से मैं विचलित हूँ, कैसे? कहूँ तुम आ जावो, जलता हूँ [...]

पुरुष का श्रृंगार प्रकृति ने करके भेजा है,उसे श्रृंगार की आवश्यकता नहीं…

अविनाश डेहरिया
*पुरुष का श्रृंगार तो स्वयं प्रकृति ने किया है..* स्त्रियाँ [...]

हिंदी एंव भोजपुरी के सशक्त हस्ताक्षर- दिल्ली रत्न लाल बिहारी लाल

लाल लाल
हिंदी एंव भोजपुरी के सशक्त हस्ताक्षर- दिल्ली रत्न लाल [...]

कल्पतरु चालीसा

अरविन्द राजपूत
स्वामी विद्यानंद जी, नरहरि केशवानंद। साईंधाम की पुण्यधरा [...]

मेरी लेखनी कुछ तो बोल

Vindhya Prakash Mishra
मेरी लेखनी कभी क़िसी दिन चुपके से सबसे बचकरके मेरे मन की [...]

अपना विचार

पं. विश्वनाथ मिश्र स्नेही जी (वत्स) गणितकवि
जिस तरह सूर्य का तेज सब पर समान आपका आशीष सब पर समान ऋण मुक्त [...]

प्रेम मोल….

CM Sharma
II छंद - उल्लाला II कान्हा नयन बह रहे, सुदामा चरण धुल रहे [...]

सवैया छंद

तेजवीर सिंह
🌹🌻 मत्तगयन्द सवैया 🌻🌹 ✏विधान- ७भ+गु [...]

***हनुमत दूरि करो कठिनाई ***

Abhishek Parashar
हनुमत दूरि करो कठिनाई, निशि दिन ध्यावत टेरि लगावत अश्रु गिरे [...]

पत्नी की भूमिका

Rashmi Porwal
अगर पत्नियां बुरी होती हैतो लोग शादी क्यों करते हैं ?अक्सर [...]

राही

रोहित शर्मा
ए आसमा जरा सोच के बरसना।। बड़ी मुद्दत से मिला है 'राही' बरसो [...]

पत्थर दिल हुआ है कोई…”एस के राठौर”

Suneel Rathore
आज सालों बाद बेसबर हुआ है कोई,, नींदें हमारी चुराकर मुख्तसर [...]

यूँ ही राधा-कृष्ण का नाम नहीं होता, ….”एस के राठौर”

Suneel Rathore
गुलाब मुहब्बत का पैगाम नहीं होता, चाँद चांदनी का प्यार सरे [...]

“सियासत”

ramprasad lilhare
सियासत सियासत का असर देखो खान पान भी बदनाम हो गये सब्जी [...]

तीन छंद

डॉ गोरख प्रसाद मस्ताना
आग इर्ष्या की जलाती उसे जो जलता है जैसे लकडी कोई जलती है राख [...]

राजस्व वर्ष की शुभकामनाएं

Kaushlendra Singh Lodhi
मित्रो आप सबको मुबारक नया राजस्व साल। सुखी रहें समृद्ध रहें [...]

* सकल जगत में रमते दोनों *

भूरचन्द जयपाल
श्याम श्याम रटते रहो दिन हो चाहे रात श्याम श्याम ही को हरते [...]

लफ़्ज़ो में न दफ्नाओ

राजेश
दो क्षणिकायें अलग अलग संदर्भों में प्रस्तुत हैं आशा है पसंद [...]

लफ़्ज़ो में न दफ्नाओ

राजेश
दो क्षणिकायें अलग अलग संदर्भों में प्रस्तुत हैं आशा है पसंद [...]

***हिन्दी भारत की शान है***(कुछ मुक्तक)

Abhishek Parashar
हिन्दी दिवस पर कुछ मुक्तक बने, जो रह गए थे, जो निम्नवत [...]

💝💝छप्पय छंद💝💝

Radhey shyam Pritam
विधा- छप्पय छंद...प्रीतम कृत ************************ होठों पर मुस्कान,दिल [...]

सरल सुगम हिंदी व्याकरण (जानने योग्य बातें – ई और यी, ए और ये ,एँ और यें)

N M
करते है हिंदी लिखने में अकसर ये गलती क्योंकि नहीं है ज्ञान [...]

ख़ुदा भी आसमां से ………..

भूरचन्द जयपाल
किस्मत भी कितनी अजीब है कोई घरवाली पाकर रो रहा है तो कोई [...]

निकलता है

Neelam Sharma
सुन, हृदय हुआ जाता है मृत्यु शैय्या, नित स्वप्न का दम निकलता [...]

कविता

Neelam Sharma
सनम ग़म बहुत हैं दर्द-ए-दिल में रहती है सुनो टीस बहुत, है आह [...]

कह मुकरियां

Sandhya Chaturvedi
विधा-कह मुकरियां "रात भयी आके सताये। भोर भयी वो चला [...]