साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

लेख

मित्रता

पं.संजीव शुक्ल
मित्र, दोस्त, यार ऐ ऐसे शब्द हैं जिनके श्रवण मात्र से जैसे [...]

निंदा और आज की राजनीति

पं.संजीव शुक्ल
निंदा और निन्दक दोनों ही एक सिक्के के दो पहलू हैं जैसे नदी के [...]

***यह कैसी शिक्षा***

N M
विषय - नई शिक्षा नीति नीति चाहे नई हो या पुरानी उसका [...]

क्यों न दिवाली कुछ ऐसे मनायें

drneelam Mahendra
क्यों न दिवाली कुछ ऐसे मनायें दिवाली यानी रोशनी, मिठाईयाँ, [...]

अहंकार और क्रोध

रागिनी गर्ग
क्रोध के वशीभूत हो जाने पर मनुष्य का खुद पर से नियन्त्रण खत्म [...]

सही समय की पहचान ही बदलाव का नया रास्ता

अमित मिश्र
समय की पहचान आज के युग में बहुत बड़ी आवश्यकता बन गयी है जो समय [...]

“अपनी परंपरा और पीढ़ी को नजरंदाज कर रहे आज के युवा”

अमित मिश्र
आज हम जिस समाज में रहते हैं उसे पढ़े लिखे सभ्य समाज की उपमा दी [...]

जीवन और जीवन-दर्शन

Mahender Singh
सांप तो निकल गया, लाठी भी टूट गई, हाथ कुछ नहीं लगा, वही डर वही [...]

जागृति के साथ उत्सव मनाओ,

Mahender Singh
खुशियाँ मनाओ..उत्सव मनाओ, जीवंत होने का संदेश दो, पर पाखंड को [...]

अस्तित्त्व

कवि कृष्णा बेदर्दी
"समाज का अस्तित्व आपसे और आपका अस्तित्व समाज से हैं " जीवन को [...]

प्रिये!!

कवि कृष्णा बेदर्दी
प्रिये !! निःसंदेह हो चक्षुओं से ओझल, तेरी ही छवि प्रतिपल [...]

🚸कच्ची है माटी जैसी चाहे गढ़िए🚸

Ranjana Mathur
प्रायः यह देखा गया है कि स्वतंत्रता प्राप्ति के बाद से लेकर [...]

बच्चों को समय की ज़रूरत

अमित मिश्र
आज व्यस्ततम जीवन में किसी के पास समय नही है। समय वह चीज बन गया [...]

वृक्ष हमारे जीवन का आधार होते हैं।

अमित मिश्र
"वृक्ष हमारे जीवन का आधार" वृक्ष हमारे जीवन का सबसे बड़ा आधार [...]

पीर पराई जानो रे

drpraveen srivastava
पीर पराई जानो रे ------ रामू की फसल बर्बाद रहो गयी है । राधे कृषक [...]

¡¡ विज्ञान सम्मत भारतीय संस्कृति ¡¡

Ranjana Mathur
हमारे विशाल भारत देश की संस्कृति अत्यन्त [...]

पैसा बहुत कुछ है लेकिन सब कुछ नही

पंकज 'प्रखर'
वर्तमान मनुष्य पैसे के लिए पागल हुआ घूम रहा है| जिसे देखो [...]

तपस्या और प्रेम की साकार प्रतिमा है “नारी”

पंकज 'प्रखर'
नारी तुम केवल श्रद्धा हो, विश्वास रजत नभ पग तल में। पीयूष [...]

नारी एक कल्पवृक्ष

पंकज 'प्रखर'
प्रेम नारी का जीवन है |अपनी इस निधि को वो आदिकाल से पुरुष पर [...]

अविस्मरणीय क्रिकेट की वो रात

drpraveen srivastava
अविस्मरणीय क्रिकेट की वो रातः सांय की हल्की -हल्की माटी की [...]

भारतीय राजनीति के पुरोधा- राष्ट्रपिता महात्मा गांधी

लाल लाल
2 अक्टूबर जन्म दिवस पर विशेष भारतीय राजनीति के पुरोधा- [...]

‘कन्याभ्रूण’ आखिर ये हत्याएँ क्यों?

पंकज 'प्रखर'
पंकज “प्रखर” कोटा राज. बेटा वंश की बेल को आगे बढ़ाएगा,मेरा [...]

संवैधानिक समस्या एवं सामाजिक विषमता का आग्रह

drpraveen srivastava
संवैधानिक दायित्व एवम सामाजिक विषमता का आग्रह अबोध बचपन [...]

हिंदी भाषा: वर्तमान संदर्भ में

Manju Bansal
हमारा देश भारतवर्ष गौरवशाली व संसंस्कृति प्रधान देश रहा है [...]

नवरात्रि पर्व

Manju Bansal
हमारे देश भारतवर्ष में अनेकों त्यौहार समय समय पर रंगीली छटा [...]

आक्रोश

Maneelal Patel मनीभाई
मनी भाई की पहली निबंध [...]

***अनुभव***

N M
* कहते हैं एक चिंगारी या तो आग लगाती है या प्रकाश फैलाती है । [...]

शिक्षक का फर्ज व कर्तव्य

कृष्णकांत गुर्जर
बड़े हर्ष का बिषय है कि आज हमारा देश शिक्षा के क्षेत्र में एक [...]

नारी सृष्टि निर्माता के रूप में

पंकज 'प्रखर'
आज के लेख की शुरुआत दुर्गा सप्तशती के इस श्लोक से करता हूँ [...]

तकनीकी के अग्रदूत राजीव गांधी का शिक्षा के प्रति दृष्टिकोण

पंकज 'प्रखर'
हमारे भूतपूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय श्री राजीव गांधी का [...]