साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

लघु कथा

जनता जागरूक नहीं है

Dr. Gopal Krishna Bhatt 'Aakul'
विक्रमादित्य ने वेताल को पेड़ से उतार कर कंधे पर लादा और चल [...]

कोई अन्‍याय नहीं किया (प्रेरक प्रसंग)

Dr. Gopal Krishna Bhatt 'Aakul'
भिक्षा ले कर लौटते हुए एक शिक्षार्थी ने मार्ग में मुर्गे और [...]

अभी धैर्य समाप्‍त नहीं हुआ है

Dr. Gopal Krishna Bhatt 'Aakul'
'नारायण------नारायण ।' ब्रह्मलोक में नारदमुनि के स्वर को सुन कर [...]

खजाना

Chandresh Kumar Chhatlani ( चंद्रेश कुमार छतलानी )
पिता के अंतिम संस्कार के बाद शाम को दोनों बेटे घर के बाहर [...]

धाँगा (लघुकथा)

डॉ मधु त्रिवेदी
​ राखी का पर्व आते ही कनिका में अजीब सी ललक एवं कौतूहल फैल [...]

“आखिर क्यों “

सन्दीप कुमार 'भारतीय'
“आखिर क्यों ?” राम अपनी प्रजा का हाल लेने के लिए भेष बदलकर घूम [...]

संकल्प

Neha Agarwal Neh
बहुमजिंला इमारत की मुडेंर पर खडी थी वो, अपने दोनों हाथों को [...]

मेरी जेब में….. (लघु कथा)

हरीश लोहुमी
मेरी जेब में..... ********************************************* बचपन में शम्भू चाचा का बेटा [...]

“रिंगटोन” (दिलों की)

Ankita Kulshreshtha
रिंगटोन ****** "क्या सोच रही है सोना ?" कॉलेज के गार्डन में किताब [...]

लघुकथा : ” वो बच्ची और चूङियां “

Ankita Kulshreshtha
"मम्मी मुझे चूङियां नहीं अच्छी लगती ऐसी ,आप वापस कर दो" रुचिका [...]

दूध के दाँत

हरीश लोहुमी
दूध के दाँत ************* -डाक्टर साहब ! मुझे ये वाला दाँत निकलवाना है [...]

“भण्डारा”

हरीश लोहुमी
भण्डारा (लघु कथा) ***************************************************************************** सामने वाले [...]

भूख —- लघु कथा

निर्मला कपिला
भूख लघु कथा मनूर जैसा काला, तमतमाया चेहरा,धूँयाँ सी मटमैली [...]

चाह : शहीद कहलाने की

Shankki Sharma
कल भगत सिंह की जीवनी पढ़ रहा था तो दिमाग में आया की आखिर कैसे [...]

फोक्ट का तमाशा

Dr.Priya Sufi
यह रविवार था। वीणा के लिए सुखद सुहानी भोर का आनन्द लेने का [...]

पिता

Ram Niwas Banyala
पिता अंजू मेडम की अश्रुधारा गोदी में बैठे तीसरी कक्षा के [...]

जवाब आ गया माँ !

हरीश लोहुमी
जवाब आ गया माँ ! **************************************************************************** क्यों कोई जवाब [...]

अॉड – ईवन 2

Ankita Kulshreshtha
"कौन आ गया सुबह सुबह" द्वारकानाथ जी लाठी टेकते हुए दरवाजा [...]

पुलिस आ रही है

Satish Mapatpuri
यूं तो छमिया रोज़ ही हाट से सब्जी बेचकर दिन ढले ही घर आती थी, [...]

नदी के दो किनारे (लघु कथा)

डॉ मधु त्रिवेदी
जीवन संध्या में दोनों एक दूसरे के लिए नदी की धारा थे। जब एक [...]

अफवाह

सन्दीप कुमार 'भारतीय'
हर तरफ सन्नाटा व्याप्त था | शहर के दीवारों और सड़कों पर लगे खून [...]

साईकिल

सन्दीप कुमार 'भारतीय'
आज रामू की बिटिया का जन्मदिन था और फटेहाल रामू एक नयी चमचमाती [...]

पीपल का पत्ता

Durgesh Verma
!!!!~~~~~~~~~~ पीपल का पत्ता ~~~~~~~~~~!!!! ****************************************** पीपल का पत्ता, जब [...]

लैपटॉप

Abha Saxena
लघु कथा लैप टाॅप सोने की बहुत कोशिश कर रही थी पर नींद आ ही [...]

रिक्ति (लघुकथा

Brijpal Singh
घड़ियाली आंसू बहाना अब बंद करो, शोक सभा समाप्त हो गई है, अब [...]

गुम्मा है साहब !

हरीश लोहुमी
"गुम्मा है साहब ! " ***************************************************************************** - इन्हें [...]

मोबाइल बुरा नहीं होता

Laljee Thakur
लघु कथा                   "मोबाईल बुरा नहीं होता" मैं अपने [...]

अॉड ईवन

Ankita Kulshreshtha
अॉड और ईवन" १ ~~~~~~~~~~~ निशा के घर उसकी बचपन की सहेली मोनाली आई थी। [...]