साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

लघु कथा

बेमेल दोस्त

Soban Singh Rawat
वर्षो का याराना,साथ उठना, बैठना,खाना ,आना -जाना फिर भी बिना बात [...]

बराबरी

हेमा तिवारी भट्ट
बराबरी "ये कंडक्टर की सीट है बहन जी,यहाँ मत बैठिए।" "अरे भाई [...]

सती उर्मिला की महिमा

कवि कृष्णा बेदर्दी
श्री रामायण को आजतक हमने अपने और इस समाज ने श्री राम की [...]

अजनवी बॉस

Soban Singh Rawat
कुछ दिन पहले की बात है । मेरे एक परिचित मेरे बॉस बनकर आये। [...]

आजकल की बहुएँ

हेमा तिवारी भट्ट
लघुकथा-आजकल की बहुएँ "मम्मी जी,चाय बना दूँ क्या आपके लिए?" [...]

” ब्लू व्हेल “

Raju Gajbhiye
"ब्लू व्हेल " घर में इंटरनेट कनेक्शन, माता- पिता के पास जिओ सीम [...]

” ब्लू व्हेल “

Raju Gajbhiye
"ब्लू व्हेल " घर में इंटरनेट कनेक्शन, माता- पिता के पास जिओ सीम [...]

*** लघुकथा *** ” माहौल देखकर काव्य पाठ करना “

Raju Gajbhiye
*** लघुकथा ***" " माहौल देखकर काव्य पाठ करना " राजू [...]

” भूख और बादाम “

पूनम झा
"अरे मुनिया चल । यहाँ क्यों खड़ी है ?"--झुनकी बोली । मुनिया --"सेठ [...]

धरोहर

aparna thapliyal
रेशम ने बड़ी मेहनत से प्रोजेक्ट तैयार किया,कई दिनो की अथक [...]

उपहार

हेमा तिवारी भट्ट
🎁🎁उपहार🎁🎁 "मेरे ब'र्डे पर मुझे इस बार साइकिल ही गिफ्ट में [...]

“आस का दीपक”

Pritam Rathaur
मेरा प्रथम प्रयास लघुकथा 🌷🌷🌷🌷 समय की चोट खाकर लता बहुत [...]

– – मत समझो इतना कमजोर – –

Ranjana Mathur
शांत स्तब्ध नीरव वातावरण। सांय सांय करता रात का सन्नाटा। [...]

…..दोस्ती …….

रागिनी गर्ग
.............दोस्ती ......... मैं तुम्हे चाहता तो बहुत था मगर तुम प्रेम [...]

*=* एक और गृहस्थी *=*

Ranjana Mathur
"अरी गीता। आज स्टोर की सफाई करनी थी। तू घर की रोटी पानी निबटा [...]

हमें क्या?

पं.संजीव शुक्ल
अलसाई आखों से आसमान को निहारते हुये छत की मुंडेर पर बैठे- [...]

स्त्री/ पुरुष

aparna thapliyal
रोहिणी के आफिस में आज वार्षिक पुरस्कार वितरण समारोह का [...]

सेवा

सन्दीप कुमार 'भारतीय'
लघुकथा - "सेवा" *************** "माँ , जल्दी से पानी ले आओ, और फिर मस्त सी [...]

ये हैं आशिक़ी

Ashutosh Jadaun
एक बार हमारी प्यारी किशोरी राधा रानी से कृष्ण ने पूछा ,कुंज [...]

डॉक्टर में दया नही , पर क्यों ??

Dr Kulbir Jakhar
पूनम हर रोज की तरह आज भी उसी शांति से बैठी थी , चुपचाप अपने [...]

” क्यों”

aparna thapliyal
आज संभाग में कठपुतली चंद जी का वार्षिक दौरा था,उनके पहुँचने [...]

खून

डॉ संगीता गांधी
खून -- ------- रफ़ीक़ का दरिंदों जैसा रूप देख मुराद सहम गया । हलक से [...]

कुल दीपक

aparna thapliyal
निरंजन की पडोस वाली भाभीजी आज जैसे तय करके आईं थी कि उसे समझा [...]

मेरा प्रेम

Chandra Prakash
आज नीतू का जन्म दिन था .. नीतू कौन ? भाई वर्तमान में जो मेरी सखी [...]

कृष्ण ! तुम कहाँ हो ?

दिनेश एल०
लघुकथा: कृष्ण ! तुम कहाँ हो ? ##दिनेश एल० "जैहिंद" सर्व विदित [...]

फर्क

Er Dev Anand
" मम्मी दादी की तबीयत अब कैसी है ? पहले से कुछ सुधार हुआ है या [...]

” रेगिस्तान “

पूनम झा
" सबके गहने और साड़ियाँ फीकी पर जाती है किटी में रोमा के सामने [...]

वह बूढ़ी

Bikash Baruah
मैं बस में बैठा था । अचानक कुछ लोग एक बूढ़ी को पकड़कर बस में [...]

नाम में कुछ है

kalipad prasad
विद्यालय का यह रिवाज़ था कि जो भी कर्मचारी सेवा निवृत होता था, [...]

याद शहर

सन्दीप कुमार 'भारतीय'
' याद शहर ********* एक रोज मै याद शहर में यूँ ही [...]