साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

कुण्डलिया

सोशल मीडिया 3

Kaushlendra Singh Lodhi
इंटरनेट ईश्वर नहीं, जिओ न जीवन जान। मोबाइल मत मोह रख, [...]

पकड़ो आत्म-सुबोध,दिव्य गुरु का साया तुम

बृजेश कुमार नायक
तुम ,नव संवत पर बनो, मानवता-महबूब| ग्रहण करो सद्ज्ञान तब, [...]

बन जाओ कोयल

बृजेश कुमार नायक
कोयल मीठा बोल कर,प्राप्त करे सम्मान| हर्षित कर जन-हृदय को, बन [...]

सोशल मीडिया हास्य व्यंग्य 2

Kaushlendra Singh Lodhi
1. काका लगे हैं फेसबुक, काकी विडिओ काल। दादा TG में बिजी, जिओ ने [...]

समय-सुगति पहचान , यही है संसारी सच

बृजेश कुमार नायक
सच बसंत ऋतु आ गई,कोंपल बनी प्रधान| प्रिया होंठ मुस्कुराहट, [...]

दरवाजे पर आ गया, लेकर वो बारात!

RAMESH SHARMA
मैने हँसकर एक दिन,उनसे करली बात! दरवाजे पर आ गया, लेकर वो [...]

गीत ग़ज़ल कुछ भी नहीं

AWADHESH NEMA
गीत ग़ज़ल कुछ भी नहीं, नहि मुक्तक नहीं छंद । यूँ ही घुमा फिराय [...]

और दिव्य सद्ज्ञान,प्राप्तिहित गुरु-गुण गह जन

बृजेश कुमार नायक
जन गह कर ज्ञ-उच्चता, बने नेह-सद्हर्ष | देव-तुल्य सम्मान का, छू [...]

प्रेम बनो,तब राष्ट्र, हर्षमय सद् फुलवारी||

बृजेश कुमार नायक
फुलवारी में फूलते, बहु रंगों के फूल| पवन चली,चुंबन सहित,बने [...]

मेरी भी चिंता करो, सोच रहे हैं दांत/ बना भ्रांति-लांगूट यही है जगत् की वमन

बृजेश कुमार नायक
बमन कर रहा क्रोध की, उछल -उछल नौ हाथ| मेरी भी चिंता करो, सोच रहे [...]

सुदामा/आत्म ज्ञान के पथिक, प्रेम की वसुंधरा वह

बृजेश कुमार नायक
(1) प्रेमी के हित कृष्ण ने, समता रख मान| राज्यसभा से दौड़ कर, [...]

नवरात्रि के नव कमल

AWADHESH NEMA
नव रात्रि के नव कमल, दें जीवन संदेश । सुख शांति समृद्धि का, [...]

बन विवेक-आनंद,कह रहा संवत्सर नव

बृजेश कुमार नायक
नव संवत्सर पर बनो, आप ज्ञानमय प्राण| तब ही राष्ट्र प्रसन्न [...]

सोशल मीडिया हास्य व्यंग्य

Kaushlendra Singh Lodhi
बना फेसबुक फेकबुक, और व्हॉट्सप गप्प। ट्विटर में टर टर्र [...]

चमन-सदृश गुणबान , प्रीति बन कहते गांधी

बृजेश कुमार नायक
गांधी जी की जयंती, सत्य-अहिंसा-प्रेम| पाठ पढ़ो औ जानकर, धारण [...]

कैसें दिखे स्वराज,हृदय है जब बिन भाव

बृजेश कुमार नायक
भाव बिना गणतंत्र दिन, घटना बना सुजान| गुण गायन कर बीर का, भूले [...]

नहीं भटकिए आप, मिलेंगे यम कुछ आगे

बृजेश कुमार नायक
आगे मंदिर कृष्ण का, पीछे आश्रम-धाक| आँगन में फिर भी चले, [...]

कुंडलिया : शहीदों को सलाम

Radhey shyam Pritam
शहीद दिवस पर करते,शहीदों को सलाम। जिनकी बदोलत है ये,स्वतंत्र [...]

हँसते हँसते जान भी, अपनी की कुर्बान

Dr Archana Gupta
शत शत नमन हँसते हँसते जान भी, अपनी की कुर्बान राजगुरु [...]

अनपढ़ दिखे समाज, बोलिए क्या स्वतंत्र हम

बृजेश कुमार नायक
हम स्वतंत्रता दिवस पर, करते उनको याद| जो शहीद बन आज भी, करें [...]

तीन कुण्डलिया छंद

सतीश तिवारी 'सरस'
(1) सच को मैं जो थामता,उतने हों वो दूर. अहंकार में ख़ुद [...]

योग रूप की धार, न कम करना श्री योगी

बृजेश कुमार नायक
योगी जी की सुबुधि में, सदा ज्ञान की आग| दिखा किंतु दिल में परम, [...]

चेतन बनिए आप, नशा दुख की जड़ काका

बृजेश कुमार नायक
काका पीकर चिलम नित, बने साँस का रोग| समल जगत् का रूप गह , फँसें, [...]

जस भोजन, तस आप, पियो मत धारा गंदी

बृजेश कुमार नायक
गंदी नाली बन गया पी शराब की धार| गिरवी रखा समूल मन, गहकर [...]

उलझे उलझे बाल

RAMESH SHARMA
मैंने अपने हाथ पर,ज्यों ही रखा गुलाल ! याद किसी के आ गये, .गोरे [...]

बने व्याधि के पूत, हाँफते पीकर गाँजा

बृजेश कुमार नायक
गाँजा-चरस-अफीमची,बन सिकुड़ी है खाल| जब-बंधन की खाट पर, ठोक रहे [...]

सदा ज्ञान जल तैर रूप माया का जाया

बृजेश कुमार नायक
जाया करवा-चौथ व्रत, रख देती उपदेश| फिक्र कि अगले जनम में ,पुनि [...]

मारे ऊँची धाँक,कहे मैं पंडित ऊँँचा

बृजेश कुमार नायक
ऊँचा मुँह कर बोलते, गुटखा खा श्रीमान| गाल छिले, फिर भी फँसे, [...]