साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

कुण्डलिया

पिता आपकी याद में…

सतीश तिवारी 'सरस'
पिता पर केन्द्रित तीन कुण्डलिया छंद (1) पिता आपकी याद [...]

नहीं जगाना चाह….

सतीश तिवारी 'सरस'
अन्तर्राष्ट्रीय नशा निरोधक दिवस (26 जून) प्रसंग पर (तीन [...]

एक कुण्डलिया छंद

सतीश तिवारी 'सरस'
वाह-वाह की भूख भी,होती बड़ी विचित्र। मगर कभी कहते नहीं,जाने [...]

बना कुंच से कोंच,रेल-पथ विश्रामालय||

बृजेश कुमार नायक
विश्रामालय रेल का कुंच पड़ गया नाम| गोरों-शासन बाद तक ऋषि को [...]

तम्बाकू दुश्मन है

Hema Tiwari Bhatt
कुण्डलिया छन्द (विश्व तम्बाकू निषेध दिवस पर) तम्बाकू मुँह [...]

श्रीराम…..

तेजवीर सिंह
🙏 श्रीराम गुणगान 🙏 राम नाम सुंदर सरस,मेटत है जग [...]

🌴🌳 जल संरक्षण 🌳🌴

तेजवीर सिंह
🌴🌳 जल संरक्षण 🌳🌴 जल-संकट है धरा पर,लो इसको पहचान। जल का [...]

कुण्डलिया छन्द

ATUL PUNDHIR
कोई तो कानून हो, है भारी अपराध मच्छर आदम खूँ पियें, ले ले कर के [...]

“छात्र”

Prashant Sharma
छात्र देश की शान है,माने सकल जहान अवसर गर उसको मिले,बढ़े सभी [...]

😁 हास्य जीजा-साली 😁

तेजवीर सिंह
जीजा-साली कुण्डलिया 🌹🌻🌺🌻🌺🌻🌺🌻🌺 जीजा-साली सों कहे,सुन ले [...]

“गरमी की दुपहरी”

Prashant Sharma
गरमी की ये दुपहरी,बनी आग का ताज़। किरणों से तपती धरा,कैसे [...]

“माता”

Prashant Sharma
*मातृदिवस पर माता के चरणों में समर्पित कुंडलिया* * [...]

मूर्खता

Pritam Rathaur
----***---- मानव की यह मूर्खता, समझे तनिको नाहि। ईश्वर घट में रम [...]

ज्ञान तू है प्राण तू है

Pritam Rathaur
ज्ञान तू है प्राण तू है तू बिशुद्ध है आत्मा है दिया ये ज्ञान [...]

“बादल”

Prashant Sharma
बादल काले छाँय जब,अंबर में घनघोर। चातक गाते गीत नव,मोर मचाये [...]

“पर्यावरण”

Prashant Sharma
रक्षित हो पर्यावरण,करना बस इक काम। वृक्ष लगायें हर तरफ, ले के [...]

रमेशराज के कुण्डलिया छंद

कवि रमेशराज
कुंडलिया छंद ------------------------------------------- जनता युग-युग से रही भारत माँ [...]

भऊजी का मयका पाकिस्तान 😃

सदानन्द कुमार
पहली बार भईया,, ससूराली टूर हो आए किस्सा खोल हम को बतलाए सून [...]

पहले प्‍यार की खातिर

bharat gehlot
पहले प्‍यार की खातिर हॅसी उल्‍लास की खातिर , में तुझको देखता [...]

जन्मोत्सव

बृजेश कुमार नायक
सत् अभिनंदन प्रेम का , निर्मल बनो सुजान| जन्मोत्सव पर मिले [...]

तस्वीरी ख्याल

सगीता शर्मा
तस्वीरी खयाल 💐🙏🏼💐🙏🏼💐🙏🏼💐🙏🏼💐 नही आये न आयेंगे कभी वापस [...]

सोशल मीडिया 3

Kaushlendra Singh Lodhi
इंटरनेट ईश्वर नहीं, जिओ न जीवन जान। मोबाइल मत मोह रख, [...]

पकड़ो आत्म-सुबोध,दिव्य गुरु का साया तुम

बृजेश कुमार नायक
तुम ,नव संवत पर बनो, मानवता-महबूब| ग्रहण करो सद्ज्ञान तब, [...]

बन जाओ कोयल

बृजेश कुमार नायक
कोयल मीठा बोल कर,प्राप्त करे सम्मान| हर्षित कर जन-हृदय को, बन [...]

सोशल मीडिया हास्य व्यंग्य 2

Kaushlendra Singh Lodhi
1. काका लगे हैं फेसबुक, काकी विडिओ काल। दादा TG में बिजी, जिओ ने [...]

समय-सुगति पहचान , यही है संसारी सच

बृजेश कुमार नायक
सच बसंत ऋतु आ गई,कोंपल बनी प्रधान| प्रिया होंठ मुस्कुराहट, [...]

दरवाजे पर आ गया, लेकर वो बारात!

RAMESH SHARMA
मैने हँसकर एक दिन,उनसे करली बात! दरवाजे पर आ गया, लेकर वो [...]

गीत ग़ज़ल कुछ भी नहीं

AWADHESH NEMA
गीत ग़ज़ल कुछ भी नहीं, नहि मुक्तक नहीं छंद । यूँ ही घुमा फिराय [...]

और दिव्य सद्ज्ञान,प्राप्तिहित गुरु-गुण गह जन

बृजेश कुमार नायक
जन गह कर ज्ञ-उच्चता, बने नेह-सद्हर्ष | देव-तुल्य सम्मान का, छू [...]

प्रेम बनो,तब राष्ट्र, हर्षमय सद् फुलवारी||

बृजेश कुमार नायक
फुलवारी में फूलते, बहु रंगों के फूल| पवन चली,चुंबन सहित,बने [...]