साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

कविता

मेरे साजन तू जल्दी आ

दुष्यंत कुमार पटेल
तू कहाँ है पास आ, उजड़ी दुनिया को मेरे बसा. इस तड़पती हुई [...]

आ वापस इस शहर को

दुष्यंत कुमार पटेल
ढूंढ़ता रहता हूँ तुझे ख्यालो में तेरे इक झलक पाने को यार जाने [...]

ऐसा है आज का भारत

दुष्यंत कुमार पटेल
बाबा ,नेता सब ने यहाँ ज़ुल्म और भ्रष्टाचार करके पा ली है ऊँची [...]

तुम वही हो

सन्दीप कुमार 'भारतीय'
तुम वही हो ना, जो अक्सर आकर मेरे कान में कुछ कहते हो, मेरी [...]

बदल जायेगी तकदीर—– कविता

निर्मला कपिला
बदल जायेगी तकदीर श्रम और आत्म विश्वास हैं ऐसे [...]

तुझे रब मानता हूँ

दुष्यंत कुमार पटेल
तेरे हर असलियत जानता हूँ, फिर भी तुझे रब मानता हूँ. भूल जाता [...]

मर्ज-ए-इशक

Dr ShivAditya Sharma
ना मुझे राम ना मुझे रहीम चाहिए ना नमक फिटकरी या नीम चाहिए [...]

~~ये कैसी रफ़्तार??~~

Durgesh Verma
~~ये कैसी रफ़्तार??~~ ****************** "सफर, संभावनाओं में कटता रहा! [...]

“नाक”

हरीश लोहुमी
**************************** "नाक" **************************** दर्ज़ा होंठों के ऊपर का, अगल-बगल [...]

मेरे होने की वजह

सन्दीप कुमार 'भारतीय'
आज इस राज से पर्दा उठा दे मेरे होने की वजह मुझे बता दे मेरी [...]

वक़्त के साथ चले

दुष्यंत कुमार पटेल
खुला आंसमा में आज़ाद उड़े आओ हम अपना तक़दीर लिखे चले गए बचपन के [...]

एक ऐसा था इंसान

दुष्यंत कुमार पटेल
वो दुनियाँ के गम ले रहा था बाँट रहा था खुशियोँ के पल वो हंस [...]

भगत सिंह का क्षोभ—- सुनो मेरी आत्मा की आवाज

निर्मला कपिला
भगत सिंह का क्षोभ आँखोंसे बहती अश्रुधारा को केसे [...]

!~जिन्दा लाश~!

Durgesh Verma
***************** !~जिन्दा लाश~! ***************** "मरी आदमियत संग - लाशें जिन्दा [...]

***हम तो कबूतर शांति पथ के***

Sureshpal Jasala
***हम तो कबूतर शांति पथ के*** [मुहावरों का [...]

कलम घिसाई 3 आज मै ऊँचे आसन पर

मधुसूदन गौतम
आज मैं ऊँचे आसन पर मसनद के सहारे बैठा हूँ। देख जमीन पर लोगो [...]

ऐसी मेरी एक बहना है

शिवदत्त श्रोत्रिय
ऐसी मेरी एक बहना है नन्ही छोटी सी चुलबुल सी घर आँगन मे वो [...]

**** भीषण गर्मी ****

Sureshpal Jasala
**** भीषण गर्मी **** यूँ गर्मी का रंग चढ़ा ,उल्का सी पड़ी है आँगन में [...]

———मानवता का दीप ——–

Sureshpal Jasala
---------मानवता का दीप -------- उगते सूरज का मैं मन से ,अति अभिनन्दन [...]

*******वीर जवानों की गाथायें *******

Sureshpal Jasala
*******वीर जवानों की गाथायें ******* वीर जवानों की गाथायें,तुमको आज [...]

नारी की फरियाद — कविता

निर्मला कपिला
नारी की फरियाद---- निर्मला कपिला1 मैं पाना चाहती हूँ अपना इक [...]

ऐसी मेरी बहना

दुष्यंत कुमार पटेल
वो सुबह-शाम घर की जलती दीया रौशन कर रहा घर को मेरी [...]

वक़्त आ गया है

दुष्यंत कुमार पटेल
ब्रह्मांड सा विस्तार हो रहा हैं हर दिन इंसान का सोच, मानव का [...]

प्यार का बंधन

मदन मोहन सक्सेना
प्यार का बंधन अर्पण आज तुमको हैं जीवन भर की सब खुशियाँ पल भर [...]

युवा शक्ति तुमपे है आस

दुष्यंत कुमार पटेल
युवा शक्ति तुमपे है आस मन में ला नयी उमंग और अटूट नया [...]

याद है

Dr ShivAditya Sharma
तेरी साँसों का वो शोर याद है बरसा था जो सावन घनघोर याद है [...]

इस दानव को मानव कहलाने दो — कविता

निर्मला कपिला
कविता इस दानव को मानव कहलाने दो मेरी तृ्ष्णाओ,मेरी [...]

कश्मीर हैं हिन्दुस्तान का

दुष्यंत कुमार पटेल
कश्मीर हैं हिन्दुस्तान का हैं प्रतीक आन बान शान का जो देखे [...]

दर्द

डॉ मधु त्रिवेदी
दर्द जो वक्त ने दिया खुश हो कर मैने पी लिया सारा दर्द जो [...]