साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

कविता

प्यार अभी बाकी है

RASHMI SHUKLA
गर आज भी उनकी बातों में जिक्र हो मेरी फ़िक्र का, तो समझ लेना की [...]

** कैसी ख़ामोशी **

भूरचन्द जयपाल
मैं खामोश हूं, पर जुबां बोलती है जुबां जो कहती है,वह मन की [...]

माँ

अनिल कुमार मिश्र
माँ!तेरा स्नेह मिले प्रतिपल जीवन को आलोकित कर दो मानव सच्चा [...]

** प्रिया **

भूरचन्द जयपाल
प्रिया चली गयी,कहां गई ? क्यों चौंकता है तूं ? हां यहीं है खोल [...]

* यही है क्या तुम्हारा समाज *

भूरचन्द जयपाल
जिसे तुम कहते हो समाज पर वो नहीं है सम आज दीवारें खींच दी है [...]

शुभकामना

डॉ तेज स्वरूप भारद्वाज
नव संबत 2074 एवं नवदुर्गा आगमन पर शुभकामना - [...]

दीवाने दिल की दास्तां

Pramod Raghuwanshi
🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹 🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹 यूं ही ना लगाना दिल कहीं [...]

तट की व्याकुलता

डॉ०प्रदीप कुमार
तट की व्याकुलता -------------- कभी व्यथित देखा है ? नदी के तट को ! हाँ [...]

मंगलकारी नवरात्रि

सुनील पुष्करणा
चैत्र मास की वासन्तिक मंगलकारी नवरात्रि आदिशक्ति माता का [...]

नवगीत

शिवानन्द सिंह 'सहयोगी'
लौट रहा है दिन घर की छत पर लिये चाँदनी उतर रहा है चाँद जाग [...]

!!`~प्रभु तेरी लीला देखी ~!!

अजीत कुमार तलवार
ऊपर वाले मैने कभी तेरी सूरत नहीं देखी न ही वो तेरी सुहानी सी [...]

तुम्हे तुम्हारी मगरूरियत मुबारक …..

Awneesh kumar
तुम्हे तुम्हारी मगरूरियत मुबारक मुझे हमारी इन्सानियत [...]

मेरी नानी माँ

लक्ष्मी सिंह
🌹🌹🌹🌹🌹🌹 माँ तो प्यारी है मुझको पर माँ से प्यारी नानी माँ [...]

नवदुर्गा आगमन पर शुभकामना – सन्देश

डॉ तेज स्वरूप भारद्वाज
मेरे घर आजा मैया अबके नौदुर्गों में , मै पड़ा रहूँ मैया तेरे [...]

!! अनाड़ी लोग-जानते सब हैं !!

अजीत कुमार तलवार
हर कोई जानता है तेरे दर पर जो अर्पित कर रहा हूँ, वो तेरी झोली [...]

!!-जय माता दी-!!

अजीत कुमार तलवार
माता रानी मेरी जग जननी तेरा पार न पाया किसी ने दर दर की ठोकर [...]

** मकां-मकां -मालिक **

भूरचन्द जयपाल
वादों और इरादों में रखा है क्या वादे सदा झूठे वादे निभाता [...]

एक सूनी रात

दिनेश एल०
((( एक सूनी रात ))) एक सूनी रात में बीच सडक पर इस कुंवारे दिल [...]

नवरात्रि के आगमन पर

ISHWAR DAYAL GOSWAMI
आ रही हैं कल से मैया । प्यारी मैया , सबकी मैया । कल से होंगे [...]

==== भेद – भाव ====

दिनेश एल०
कविता -- [[[[भेद-भाव]]]] भेद-भाव की दुर्भावना को ना कभी मन में [...]

**** वसंत ऋतु ****

दिनेश एल०
[[[[ वसंत ]]]] बसंती रीतु में बसंती साड़ी पहन करके, आई बसंती नार [...]

नव संवत्सर

Hema Tiwari Bhatt
🌹नव संवत्सर🌹 श्रृंगार सलोना धरा धरा ने क्या विस्मय [...]

@@@ रंग @@@

दिनेश एल०
[[[[ रंग ]]]] वाह ! रंग भी क्या शब्द है, क्या भाव है, क्या अर्थ है [...]

***** रेगिस्तानी काँरवा *****

दिनेश एल०
(((( रेगिस्तानी काँरवा )))) कितना विषम है मानव-जीवन, है यह जीवन [...]

+++ नारी की गति +++

दिनेश एल०
नारी की गति---- समय की गति को अब जान लीं हैं नारियाँ | स्वीकार [...]

(((( गणतंत्र ))))

दिनेश एल०
[[[ गणतंत्र ]]] डा० भीम राव अाम्बेडकर रचयिता भारती-संविधान के [...]

चूड़ियाँ

सरस्वती कुमारी
हर सुहागन का श्रृंगार है चूड़ियाँ साजन का मनुहार है [...]

पीड़ा

ISHWAR DAYAL GOSWAMI
पीड़ा जब भी आई है , नहीं किसी को भाई है । हर्षित होकर कोई न [...]

हिय से मत दूर मुझे करना

बसंत कुमार शर्मा
आज करूं तुमसे विनती हिय से मत दूर मुझे करना सोंप दिया तन सोंप [...]

सजी धरा है सजा गगन है

Rita Singh
सजी धरा है सजा गगन है सज गया सृष्टि का कण कण है रँग बिरंगे [...]