साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

कविता

वक़्त अभी बाकी है

Dr Archana Gupta
पल के साथ चलते हैं , पल गुजरते जाते हैं , खुद को पाने की बस [...]

!!नेता!!

Durgesh Verma
*********************** ~~~~~!!नेता!!~~~~~ *********************** "मौसमी बारिश में, शब्दों के [...]

कविता :– सब तेरा जयगान करेंगे !!

Anuj Tiwari
सब तेरा जयगान करेंगे !! एक बात जुबानी कहता [...]

{निश्छल प्रकृति व छली मानव}

Durgesh Verma
{निश्छल प्रकृति व छली मानव} ======================== "मै करती मौन व्रत, तू [...]

तुम्हारे खत……. कविता कमंडल काव्य संग्रह से मेरी दूसरी रचना

Shikha Shyam Rana
एक दिन तुम्हारे लिखे वो सारे खत सार्वजनिक कर लाऊंगी [...]

कविता।तुमको इक दिन आना है ।

राम केश मिश्र
गीत।तुमको इक दिन आना है ।। विश्वासों की पृष्टिभूमि पर [...]

व्यवहार……….

डी. के. निवातिया
व्यवहार………. निरन्तर गति को लय दे चल रे प्राणी बिन लय के शशक [...]

आँखे

Shikha Shyam Rana
आँखों का पथराना देखा है या देखी है आँखों की चंचलता सूनापन [...]

फ़र्ज़ अदायगी

डी. के. निवातिया
वो कल भी ड्योढ़ी पर इंतज़ार करती थी ! आज भी आस लगाए इंतज़ार करती [...]

दोहे

Deepshika Sagar
सागर प्यासा ही रहा, पी पी सरिता नीर, कैसी अनबुझ है तृषा, कैसी [...]

मुक्तक

Deepshika Sagar
निशाने पर सदा बिजली के रहता आशियाना है, ख़ुशी की ख़ुदकुशी का भी [...]

मुक्तक

Deepshika Sagar
-चार मिसरे- डूबता है दिल सफीना, दर्द की बरसात में, खून ही टपका [...]

अन्य

Deepshika Sagar
कलाधर छंद-लय -मनहरण घनाक्षरी नैन में लिए उजास, मन्द मन्द है [...]

चाह

Santosh Khanna
वंदना कविता बन अम्बर-सी फैल जाऊं शून्य सभी स्वयं में [...]

नया वर्ष

Dr. Chitra Gupta
धा धा तिं तिं ता ता धिं धिं करता अाया नया वर्ष नए वर्ष के नए [...]

होली

Dr. Chitra Gupta
रंग-बिरंगी होली अायी खुशियों की सौगात लायी सब मिल-जुलकर [...]

नए वर्ष की नई उमंग

Dr. Chitra Gupta
2015 के नव वर्ष की शुभ बेला पर लिखी एक कविता नए वर्ष की नई उमंग [...]

विद्या

Dr. Chitra Gupta
विद्या है एक उज्जवल तारा, विद्या है सबका सहारा, विद्या से जन [...]

कुछ मुक्तक

Jay prakash Jalaj
औक़ात में ज़्यादा,मगर क़ीमत में जो सस्ता होगा दिल में जाने का [...]

प्रश्नोत्तरी

Rajeev 'Prakhar'
झूठ बोल सकते हो ? नहीं साहब l चोरों लुटेरों की मदद कर सकते हो [...]

मोहब्बत के गवाह

Pushpendra Rathore
वो नदिया, वो दरिया, वो फूलों की बगिया, वो सरसों के खेत, और उनकी [...]

दोहे

Deepshika Sagar
चैन अमन के फूल अब, चमन करें गुलजार, मिलकर हम सब ही करें, हिंसा [...]

सरल हूं सरल लिखता हूँ

Dr ShivAditya Sharma
सरल हूं सरल दिखता हूं सरल हूं सरल लिखता हूं रोज देखता हूं [...]

चिड़िया रानी ………..

डी. के. निवातिया
चिड़िया रानी ……….. सुबह सवेरे वो आती है मुझको रोज जगाती [...]

मोक्ष भी

Ashutosh Vajpeyee
काव्य साधना न व्यर्थ है कभी सदैव जान ये मनुष्य को सदा [...]

पुनीत लिखूं

Ashutosh Vajpeyee
वर दो जगदम्ब कि लेखन में भर शक्ति व सत्य सुगीत लिखूं मन [...]

पिपासा

Ashutosh Vajpeyee
न तृष्णा रही शेष ही आज कोई न है ब्रह्म को जानने की पिपासा [...]

तेज

Ashutosh Vajpeyee
शास्त्र कहे रवि ने निज तेज उठाकर पावक में जब डाला। दीपक लौ [...]

महेश भी

Ashutosh Vajpeyee
देखते ही देखते ये जीवन बदल गया, और बदला है मम राष्ट्र परिवेश [...]

आ गये

Ashutosh Vajpeyee
नारिकेल और मृदु नीम के सहस्त्रों वृक्ष देखे तो ये दृश्य [...]