साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

कविता

शिक्षा

डॉ सुलक्षणा अहलावत
चैन से कैसे सोऊँ मैं, मुझे शिक्षा की अलख जगानी है, मेरे देश [...]

“साँझ”

Dr.Nidhi Srivastava
सुरमई सांझ, सुवासित सुमन, सुमधुर गीत, भ्रमरों का [...]

कुंडलिया

Mahatam Mishra
“कुण्डलिया छंद” गुरुवर साधें साधना, शिष्य सृजन रखवार बिना [...]

लक्ष्‍य का संधान कर

Dr. Gopal Krishna Bhatt 'Aakul'
मान कर, सम्‍मान कर, संकल्‍प ले, अनुमान कर। कर प्रण अटल, दृढ़ [...]

यह जीवन महावटवृक्ष है

Dr. Gopal Krishna Bhatt 'Aakul'
यह जीवन महावटवृक्ष है सोलह शृंगारों से संतृप्‍त सोलह [...]

पंचतत्‍व में

Dr. Gopal Krishna Bhatt 'Aakul'
रे मानव , अब भी सम्‍हल मौत गूँगी सही बहरी सही अंधी सही पर ! [...]

झौंपड़ पट्टी

Dr. Gopal Krishna Bhatt 'Aakul'
महामारी की तरह फैले झोंपडि़यों के मेले हर शहर में [...]

मित्र

Dr. Gopal Krishna Bhatt 'Aakul'
1. मित्र के सोलह शृंगार **************** धीर, क्षमावान्, [...]

मायावी जाल

हिमकर श्याम
हजारों मृगतृष्णा का जाल बिछा है हमारे आसपास न चाहते हुए हम [...]

“स्वप्न”

Dr.Nidhi Srivastava
स्वप्न बेपरवाह होते हैं, अनियमित होते हैं. स्वप्न खंडित [...]

अब तो राशन कार्ड बनाना….

Dinesh Sharma
कैसे है ये जनता के सेवक जो जनता पर राज करते है पहले करते जनता [...]

माँ

Dr. Gopal Krishna Bhatt 'Aakul'
माँँ आँँखों से ओझल होती। आँँखे ढूँढ़ा करती रोती। वो आँँखों [...]

कितने रावण मारे

Dr. Gopal Krishna Bhatt 'Aakul'
कितने रावण मारे अब तक कितने कल संहारे मन के भीतर के रावण को [...]

दस्तक ..वक्त और उम्र की

NIRA Rani
दस्तक ! वक्त और उम्र की .. अचानक वक्त और उम्र की दस्तक से हैरान [...]

मनहर घनाक्षरी छंद

Mahatam Mishra
"मनहर घनाक्षरी" सुबह की लाली लिए, अपनी सवारी लिए, सूरज निकलता [...]

मुक्त काव्य

Mahatam Mishra
एक मुक्त काव्य............ “कर्म ही फल बाग है” भाग्य तो भाग्य [...]

हिन्‍दी सबको प्‍यारी होगी

Dr. Gopal Krishna Bhatt 'Aakul'
हिन्‍दी सबको प्‍यारी होगी। इसकी छवि उजियारी होगी। ना कोई [...]

मन की अभिलाषा

Dr. Gopal Krishna Bhatt 'Aakul'
हिन्‍दी बने विश्‍व की भाषा। स्‍वाभिमान की है परिभाषा। गंगा [...]

“हाँ मैनें देखा है “

Dr.Nidhi Srivastava
सत्य को हारते देखाहै, दर्द को जीतते देखा है, वक्त को बदलते [...]

कविता :– संघर्ष

Anuj Tiwari
कविता :-- संघर्ष !! संघर्ष करो ! संघर्ष करो ! संघर्ष करो ! संघर्ष [...]

गुरु वंदन …..

डी. के. निवातिया
प्रथम चरण वंदन गुरु देव को, राह अस्तित्व की दियो बताये। मुझे [...]

सच में लगा इंसान सा……

Dinesh Sharma
एकांत में चुपचाप सा शांत सा मगन में मगन इंसान सा, तल्लीन [...]

और कितनी निर्भया ?

दुष्यंत कुमार पटेल
निर्भया जिन्दा है भारत की आवाज़ बनके वो चिखती कह रही है [...]

शिक्षक

डॉ सुलक्षणा अहलावत
::::::::::::::::::::::::::::::शिक्षक:::::::::::::::::::::::::::::: वो शिक्षक ही होता है जो हमें [...]

प्यार काफ़ी है

प्रतीक सिंह बापना
मानता हूँ कि इस संसार में कई खामियां हैं पर प्यार काफी है सब [...]

“बीता पल”

Dr.Nidhi Srivastava
वो पल ,जो था कल , कितना प्यारा था, कितना न्यारा था| बीत गया जो [...]

ढूंढ रहा है हर अध्यापक ,अपना वो अस्तित्व आजकल

कृष्ण मलिक अम्बाला
अब कहाँ रह गए गुरु जी वाले किस्से कहाँ रह गयी आदर सम्मान की [...]

गणपति आ गये आशीष देने….

Dinesh Sharma
बर्ष बीत गया गणपति आ गये आशीष देने.... वायदों को याद [...]

खुद्दारी

विनोद कुमार दवे
चुप रहकर भले ही तुमन सत्ता से यारी रखते हो, लेकिन अपने दिल से [...]

हिम्मत जुटा कर दो टूक शब्द लिख रहा हूँ

कृष्ण मलिक अम्बाला
हिम्मत जुटा कर दो टूक शब्द लिख रहा हूँ बेहरूपियों के समाज [...]