साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

कविता

“गुजारिश”

Meena Bhardwaj
गेसुओं में फिरती अंगुलियों की गर्माहट , दबे सुर में लोरी की [...]

एहसास

Sajan Murarka
सर्द हवाओं का यह मंज़र, लहू को जमाता मौसम का असर; नर्म [...]

बेटियां

yogesh dhyani
गहरे दरिया से लेकर वो ऊंचे अम्बर चूम रहीं हो सहरा की गर्म रेत [...]

मिलन के ख्याल

Sajan Murarka
मिलन के ख्याल जब वह शर्मसार होते हैं; तो चहेरे पे गुलाब होते [...]

“विरह”

Sajan Murarka
मेरी कलम लिख रही, "विरह" मधुमास का, मन मुरझाया, खिला फूल जब [...]

“बेटियां”

अभिषेक झा
इस जहां कि हर खुशी की राज होती हैं बेटियां, मां पिता के दुख मे [...]

राजनैतिक फायदे

Sajan Murarka
बेहद मजेदार है मजहबी ज़हर सिर्फ फैलाने पर दिखाता असर [...]

मैं और तुम

Sajan Murarka
मैं और तुम मैं प्यासा सागर तट का मैं दर्पण हूँ तेरी छाया का [...]

जिंदगी तो अब यह ही है

Sajan Murarka
मन ने कर लिया स्वीकार,जिंदगी तो अब यह ही है अब जोशे खून [...]

मौत का दामन थामा

sumit jain
खुशियों के माहौल में जन्मा हर कोई मुझे खिलाया सबकी चाहत बन [...]

बेटियां ( क्यों ओ बाबुल )

मनीषा गुप्ता
बेटियां ( क्यों ओ बाबुल ) क्या खता है ओ बाबुल मेरी जो मुझे कोख [...]

परिवर्तन कब होगा ?

Sajan Murarka
परिवर्तन कब होगा ? गरीबों के दर्द में झूटे हिस्सेदार हैं यह [...]

औरत

Sajan Murarka
औरत खुदा का नक्शा औरत, बेमिसाल,बेहिसाब, [...]

दिल-ए-नादान

Sajan Murarka
ओ मेरे दिल-ए-नादान चाहत है गुलाब की पर काँटों से भरा है दामन [...]

लोभी आकंक्ष्या

Sajan Murarka
लोभी आकंक्ष्या मेरी आकंक्ष्या या लक्ष्य; मेरा चरित्र का [...]

तेरा मेरा साथ

Sajan Murarka
तब तुम्हारे साथ का नशा था अब तुम्हारे दीदार का नशा है तब [...]

बिटिया प्यारी

Vivek Sharma
उजियारा लेकर के आई अँधेरे इस जीवन में, बहुत ख़ुशी थी घर पे [...]

“बेटियाँ पराया धन होती है ||”

Omendra Shukla
“नन्हे-नन्हे क़दमों से घुटनों के बल तेरा चलके आना बैठ गोंद [...]

“बेटियाँ पराया धन होती है ||”

Omendra Shukla
“नन्हे-नन्हे क़दमों से घुटनों के बल तेरा चलके आना बैठ गोंद [...]

हर सफर जिंदगी का

मानक लाल*मनु*
हर सफर जिंदगी का बहुत दुस्वार होता है।। जब दूर कोई ख़ास अपना [...]

किस्सा–चंद्रहास–अनुक्रम-7–दौड

गंधर्व लोक कवि श्री नंदलाल शर्मा
किस्सा--चंद्रहास--अनुक्रम-7--दौड दौड़-- सुणो ऋषि या बात किसी [...]

किस्सा–चंद्रहास अनुक्रम–7

गंधर्व लोक कवि श्री नंदलाल शर्मा
***जय हो श्री कृष्ण भगवान की*** ***जय हो श्री नंदलाल जी [...]

किस्सा–चंद्रहास अनुक्रम–6

गंधर्व लोक कवि श्री नंदलाल शर्मा
***जय हो श्री कृष्ण भगवान की*** ***जय हो श्री नंदलाल जी [...]

किस्सा–चंद्रहास अनुक्रम–5

गंधर्व लोक कवि श्री नंदलाल शर्मा
**नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ** ***जय हो श्री कृष्ण [...]

किस्सा—चंद्रहास अनुक्रम–4

गंधर्व लोक कवि श्री नंदलाल शर्मा
***जय हो श्री कृष्ण भगवान की*** ***जय हो श्री नंदलाल जी [...]

किस्सा–चंद्रहास अनुक्रम–3

गंधर्व लोक कवि श्री नंदलाल शर्मा
***जय हो श्री कृष्ण भगवान की*** ***जय हो श्री नंदलाल जी [...]

वंदना…

गंधर्व लोक कवि श्री नंदलाल शर्मा
पं नंदलाल जी की बेहतरीन रचना..... करुणा कर कृष्ण कृपालु, कृपा [...]