साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

कविता

पुनीत लिखूं

Ashutosh Vajpeyee
वर दो जगदम्ब कि लेखन में भर शक्ति व सत्य सुगीत लिखूं मन [...]

पिपासा

Ashutosh Vajpeyee
न तृष्णा रही शेष ही आज कोई न है ब्रह्म को जानने की पिपासा [...]

तेज

Ashutosh Vajpeyee
शास्त्र कहे रवि ने निज तेज उठाकर पावक में जब डाला। दीपक लौ [...]

महेश भी

Ashutosh Vajpeyee
देखते ही देखते ये जीवन बदल गया, और बदला है मम राष्ट्र परिवेश [...]

आ गये

Ashutosh Vajpeyee
नारिकेल और मृदु नीम के सहस्त्रों वृक्ष देखे तो ये दृश्य [...]

कला और ज्ञान के

Ashutosh Vajpeyee
पत्रक प्रसन्न ललचायी लेखनी को देख, फैलायी है काया चौकी पर [...]

इन्द्र मेघ भेज दो

Ashutosh Vajpeyee
बड़ा प्रचण्ड ताप अंश में इसे न माप दीन का हुआ विलाप क्योंकि [...]

मान भी मिलने लगा

Ashutosh Vajpeyee
चाटुकारों से विलक्षण ज्ञान भी मिलने लगा वोट के हित [...]

ब्रह्म से बड़ा

Ashutosh Vajpeyee
वेदप्रोक्त काव्य शिल्प साधना सदैव मान शारदा कृपा निमित्त [...]

मनुष्यता नहीँ गयी

Ashutosh Vajpeyee
सूर्य अस्त की दिशा अतीव भा रही परन्तु ध्यान दो विवेक नष्ट, [...]

कविता

Ashutosh Vajpeyee
शुभ प्रेरक तत्त्व समाहित हों जिसमे कुछ अर्थ महान दिखेI अति [...]

गुरूर

SHISHIR KUMAR
उड़ते हुए परिन्दों के पर नहीं काटा करते जंगल के शेर को लोहे की [...]

मोदी जी

Dr ShivAditya Sharma
देखो कैसे बदल रहा है भारत, लेके अपना कमाल आया है अपनी माँ की [...]

कविता

Brijraj Kishore
                     28 मई, 2016 को नई दिल्ली के नारायण दत्त तिवारी भवन में [...]

संतोष है खजाना

Sarvanand Pandey
थोड़ा ही पढ़ो साजन , व्यवहार भी बनाना । छूटे न मैल तो फिर , [...]

प्रश्नचिन्ह (?)

Rajeev 'Prakhar'
गरीबी से त्रस्त और बेरोज़गारी से ग्रस्त, एक पढ़े-लिखे का [...]

कविता

Brijraj Kishore
चाहे पटेल आरक्षण आन्दोलन पर समझ लो, चाहे जाट आरक्षण आन्दोलन [...]

कविता

Brijraj Kishore
भारत माता की जय बोलो -------------------- अपने मन की गाँठें [...]

पत्थरों को तोड़ती

Sharda Madra
वह मजदूरन पत्थरों को तोड़ती नज़रें कहीं न मोड़ती लक्ष्य को [...]

गीत

Suresh Soni
सृष्टि कण कण में बसा है गीत का संसार शब्द की स्वर लहरियों में [...]

मगरमच्छ

Rajeev 'Prakhar'
मोटे-ताजे-रसीले व्यंजनों के शौकीन, एक मगरमच्छ का दिल, एक [...]

आज के ही दिन

Abha Saxena
आज का दिन 16 जून 2013 दो वर्ष पहले आज ही के दिन उस दिन सूरज नही [...]

कैसे सारे जहाँ से अच्छा हिंदुस्तान हमारा है?

Dr. pragy Goel
जिस देश का कानून खड़ा है जैसे हो अंधा और पुलिस थानो में हो [...]

सत्य

Dr. pragy Goel
सत्य की खोज में निकल आया था सागर के पार जाने कितने पथ और मेरे [...]

विकास

Rajeev 'Prakhar'
विकास का प्रतीक इक शहर, गन्दगी में फँसा, रो रहा था l क्योंकि, [...]

जमाना हुआ खुद से मिले

Dr ShivAditya Sharma
वक्त मिले तो बैठूं अपने साथ की जमाना हुआ खुद से मिले। करूँ [...]

कहानी —–कसौटी ज़िन्दगी की

निर्मला कपिला
कसौटी रिश्ते की --कहानी उनकी आँखों से आँसूओं का सैलाब थमने [...]

भावी आथित्य संस्कारो की झलकियां ………………

डी. के. निवातिया
भावी आथित्य संस्कारो की झलकियां ……………… परिवर्तन के इस दौर [...]

बच्चे नहीं जानते अभी

Savita Mishra
बच्चे नहीं जानते अभी कि कैसे फूटती हैं यादें मील के पत्थरों [...]

दोस्ती

Savita Mishra
आओ जिंदगी से दोस्ती कर लें फिर से जी भर कर बतियायें रूठने पर [...]