साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

कहानी

डिफाल्टर

drpraveen srivastava
कृपया कहानी [...]

१– वो कुत्ता ही था ?

aparna thapliyal
हम लोगों ने बहुत से जानवरों को बहुत करीब से देखा है ,कभी कभी [...]

हे कृष्ण तुम कहां हो

Neelam Sharma
सादर प्रेषित स्वरचित पिताजी अखबार की खबरें पढ़ते हुए [...]

सीमा का संघर्ष पार्ट – 1

Bhupendra Rawat
हर रोज़ की तरह सीमा आज भी अपने घर से स्कूल के लिए निकली | घर से [...]

सीमा का संघर्ष पार्ट 2

Bhupendra Rawat
सीमा ने जैसे ही फांसी का फंदा गले में लगाया था, वैसे ही कमरे के [...]

*एक सैनिक की जुबानी*

अविनाश डेहरिया
.हम दोनों ने 18 की उम्र में घर छोड़ा, तुमने JEE पास की मेने Army के [...]

धर्मसंकट

पं.संजीव शुक्ल
सन्नाटे को चीरती दशरथ की करुण पुकारा हे राम.. हे.राम.... हे राम [...]

हकीकत का आईना

पं.संजीव शुक्ल
))))))=हकीकत का आईना=(((((( ======================== मुख्यमंत्री जी बड़े रौबदार अवाज [...]

हृदयाघात

पं.संजीव शुक्ल
एक किसान प्रतीदिन सुबह घरवालों के जगने से पहले ही अपने खेतों [...]

गज़ल

Neelam Sharma
रदीफ़- हम हैं। इन्द्रधनुषी रंग तुम हो सनम,माना खुशरंगों [...]

….आवारा….

पं.संजीव शुक्ल
आवारा ................. गजब का रोस था वहा की फीजा में, हर शख्स का [...]

परिस्थितियों से समझौता

पं.संजीव शुक्ल
*))))* बिवसता से समझौता*((((* ***************************** कितना बेबस था चेतन ,उसकी [...]

चकाचौंध महानगर की

पं.संजीव शुक्ल
चार दिन हो गये लेकिन उस कमरे का दरवाजा नहीं खुला, ना कोई गया। [...]

वन से आया विद्यार्थी

मुकेश कुमार बड़गैयाँ
कक्षा के आखिरी कोने में सहमा सा ,उपेक्षित ,अकेला किंतु आँखों [...]

“ज़िंदगी” कहानी

Dr.rajni Agrawal
*ज़िंदगी* ******** धूप की तरह खिलखिलाती राहत की ज़िंदगी में इस [...]

हुंकार रैली

पं.संजीव शुक्ल
.............. वीरभद्र आज बहुत खुश है और हो भी क्यों ना आज उसके [...]

न जाने कहा जाना हैं

pratik jangid
ट्रैन का सफर कितना अजीब होता है। ना । सब बेफ्रिक लोग अपबे ही [...]

परवाह

Kamla Sharma
सौम्या गांव में पली बड़ी एक सरल स्वभाव की लड़की थी। उसने गांव [...]

ये कैसी सजा

योगिता
आज की रात भी वैसी ही थी। एक छत के नीचे दो अजनबी अपने अपने [...]

कहानी – मिट्टी के मन

धर्मेन्द्र राजमंगल
बहती नदी को रोकना मुश्किल काम होता है. बहती हवा को रोकना और भी [...]

संस्मरण-“प्यारा डोलू”

पियुष राज
"प्यारा डोलू" जब से मैंने होश संभाला है,तब से मैं अपने घर में [...]

कुछ फैसले दिल के

manisha joban desai
"इतना सुहाना मौसम और ये पहाड़ के बीच घिरा हुआ काटेज काश,तुम [...]

अब क्या कहें?

manisha joban desai
"जितवन .....क्या कर रहे हो बाहर ? देखो ये कोन आया है ?" माँ की आवाज़ [...]

खोये हैं हम

प्रतीक सिंह बापना
कैसी ये बात है कि खोये हैं दोनों ही हम तुम मेरे लफ़्ज़ों में [...]

गुस्सा

Neelam Sharma
क्रोध गुस्सा नाराज़गी नहीं ये है तेरी सज़ा की [...]

मानव और विज्ञान

Neelam Sharma
लघुकथा- मानव और विज्ञान दादा जी बहुत बेसब्री से गर्मी की [...]

सच्चा सुख ।

Neelam Sharma
सच्चा सुख......?? "मालिनी आजकल बहुत परेशान रहती है और उसका [...]

……….भोली की सीख…………

रागिनी गर्ग
.........भोली की सीख....... शुचि ने फ्रिज खोला |फ्रिज में 🍫 चॉकलेट न [...]