साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

हाइकु

हाइकू

डॉ सुलक्षणा अहलावत
एक प्रयास हाइकू का 1. दिल की बात कह ना सके हम मिला ना [...]

“माँ “

सन्दीप कुमार 'भारतीय'
माँ की ममता, ईश्वर उपहार, है अनमोल। माँ का आँचल, टाल दे हर [...]

चाँद (हाइकू )

डॉ मधु त्रिवेदी
1 चाँद पर मैं बना के एक बस्ती संग रहूँगी 2 कर सिंगार [...]

हाइकू

Mahatam Mishra
हाइकू” शिक्षा शिक्षा बेहतर है शिक्षा ले लो शिक्षा॥-1 [...]

विद्रू्पताएँँ

Dr. Gopal Krishna Bhatt 'Aakul'
1 संस्‍कार होंगे राम राज्‍य के स्‍वप्‍न साकार होंगे 2 बेच [...]

इतराती सी

डॉ मधु त्रिवेदी
इतराती सी पनघट को जाती बलखाती सी गागर धरे मटकाय कमर पनघट [...]

कलम की उड़ान

कृष्ण मलिक अम्बाला
कलम की उड़ान , कर रही आह्वान आवाज को जन जन तक पहुंचाना है [...]

उम्र

Rajiv Goel
वक़्त दीमक चाटे दिन ब दिन शाख उम्र की खर्च हो रहे ज़िंदगी [...]

हाइकु

निर्मला कपिला
हाईकु साथ जो छूटा आसमान से जैसे तारा हो टूटा खून [...]

किताब / पुस्तक

डॉ. अनिता जैन
वर्ण पिरामिड शीर्षक - किताब / पुस्तक ----------------- ये ज्ञान सागर [...]

हाइकू (वर्षा सुन्दरी )

डॉ मधु त्रिवेदी
झनन -झन झनकाती घुघरूँ पहन के वो पाजेब भारी ठुमकती आ रही [...]

गुजर (हाइकू)

डॉ मधु त्रिवेदी
गुजर होती न हो पाये बसर पेट भरता बूझे न भूख महँगाई इतनी कि [...]

हाइकू

Ram Niwas Banyala
1 घास रोदन अंकुरण दुबारा है जिजीविषा । 2 ताकते मोर आच्छादित [...]

हाइकु :– ज़मीर बेचा !!

Anuj Tiwari
हाइकु :-- ज़मीर बेचा !! ज़मीर बेचा , था दौलत का अंधा ! मरा या [...]

छाया अंबा की// हाइकु//

दुष्यंत कुमार पटेल
[1] छाया अंबा की मेरे सुखी जीवन हूँ गुलजार !! [२] अम्बर [...]

तुम बसंत //हाइकु

दुष्यंत कुमार पटेल
सपने मेरी [1] सपने मेरी ज़िन्दगी फुलवारी तुम बसंत !! [2] पिया न [...]

आज भी यहाँ //हाइकु

दुष्यंत कुमार पटेल
ये हिन्दुस्तान सोने की चिडियाँ हैं आज भी यहाँ !! 1 मेहनत [...]

सुंदर बेला //हाइकु

दुष्यंत कुमार पटेल
सुंदर बेला बसंत उत्सव में कोयल कूकी !! [2] नदी किनारे एक छोटा [...]

हाइकु :– हुस्न बिखेरा !!

Anuj Tiwari
हाइकु :-- हुस्न बिखेरा !! ऐसा गुरूर ! मद मस्त नशे मे छाया सुरूर [...]

हाइकु :– पेट की आग !!

Anuj Tiwari
!! पेट की आग !! हाइकु पेट की आग ! ठण्डा ना कर सका , ये ठण्डा माघ [...]