साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

हाइकु

पिता

लक्ष्मी सिंह
🌺पिता ताकत धौंस भरी आहट घर की छत 🌺 🌺पिता सहारा सपनों को [...]

पिता

लक्ष्मी सिंह
🌺पिता का साया वट वृक्ष की छाया सदा शांति सा 🌺 🌺पिता का [...]

हाईकु अष्टक

Rajendra jain
आज के दिन पर देखिए हमारे हाईकु कुछ इस तरह हाईकु-अष्टक [...]

*हाइकु-माला

डॉ. हीरालाल प्रजापति
============ तन से काली ॥ पर हिय से वह - शुभ्र दिवाली ॥ ============ मेरी [...]

हाइकु : जर्जर काया

Anju Gupta
हाइकु जर्जर काया, इच्छाएँ खंडहर, जीने को मरे नम नयन, गालों [...]

हाइकु : जलूं न कैसे

Anju Gupta
आड़ी - तिरछी किस्मत की लकीरें समझूं कैसे !! मुठ्ठी में बन्द [...]

हाइकू : हैरान धरा

Anju Gupta
हैरान धरा, फसलों की जगह, मकान उगा ! सिमटे घन, जब रूठ धरा [...]

जिंदगी

RAJENDRA JOSHI
1. जिंदगी, मुश्किल ही सही पर, मजे़दार बहुत है ! 2. जिंदगी, तुम वो [...]

बोलती आँखें

प्रदीप कुमार दाश
बोलती आँखें 01. आँखों में पानी कह गई कहानी दिल की मानी [...]

नववधु

सोनू हंस
#हाइकु# पल में रोए उजाड़ सी होकर वो [...]

हाईकु

Rajendra jain
आज के हमारे हाईकु देखिए कुछ इस तरह चुंबन प्रेम हाईकु-पंच [...]

पीली सरसों

राम केश मिश्र
पीली सरसों बिहँस उठी पंख पसार कर पीली सरसों इठलातीं है [...]

हाईकु एवं चोपई छंद

Rajendra jain
इस देश का किसान मजदूर कर्ज मे जीता है और कर्ज मे ही मरता है इसी [...]

हाईकु-पंच

Rajendra jain
आज के हमारे हाईकु कुछ इस तरह सादर... हाईकु-पंच १ भ्रम मे [...]

॥ सत्ता के स्वार्थी ॥ हाइकू

Omendra Shukla
पैसठ साल बर्बादी भारत की सुध ना आई , गरीब लोग अर्धनग्न [...]

हाईकु-एकादश

Rajendra jain
आज देखिए हमारे हाईकु कुछ इस तरह हाईकु-एकादश १ पहला [...]

हाईकु-पंच-कवि का मेवा

Rajendra jain
अभी अभी के हाईकु सादर.... हाईकु पंच १ नाम के लिए सीमाएँ तज [...]

हाईकु-छंद

Rajendra jain
१ सच्ची जिंदगी पापाचरण तज अच्छी वंदगी २ व्यसन [...]

हाइकु बसंत

प्रदीप कुमार दाश
प्रदीप कुमार दाश "दीपक" हाइकु : बसंत ---------- 01. बसंत [...]

हाईकु-पंच

Rajendra jain
आज के हमारे हाईकु देखिए कुछ इस तरह.... हाईकु-पंच १ हम जो [...]

सपने अवकाश

लोधी डॉ. आशा 'अदिति'
1 मेघा सन्देश साजन परदेश भाये ना मोहे 2 नदियां नारी बहती [...]

हाइकु

प्रदीप कुमार दाश
हा. गणतंत्र रोता रहा है गण हँसता तंत्र । बने जालिम भाइयों [...]

कुछ हाइकु

अमित मौर्य
हाइकु का छक्का~ 1- कैसी आग है, वन झुलसा दिया, जी ना अघाया [...]

हाइकु : ओस प्रसंग

प्रदीप कुमार दाश
प्रदीप कुमार दाश "दीपक" ~•~•~•~•~•~•~•~•~ हाइकु : ओस प्रसंग 01. भोर [...]

माँ

प्रदीप कुमार दाश
प्रदीप कुमार दाश "दीपक" ------------------ माँ 01. माँ का आँचल छँट जाते [...]

हाइकु

सतीश राठी
महक जाओ खुशबू लो मुझसे कहा फूल ने 🌺सतीश [...]

हाइकु : बेटी

प्रदीप कुमार दाश
प्रदीप कुमार दाश "दीपक" बेटी 01. नन्हीं सी कली फूल बन [...]

वो चेहरा

रजनी मलिक
"शराफत का करामाती ताला है सीरत पर" "अनजान सी नज़रें है [...]

हाइकू

ओमप्रकाश क्षत्रिय
~बचपन~ -------------- उम्र बढी. है लौटा है बचपन बूढा. है तन ॥ ___________ खोई [...]