साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

गीत

” ताज़पोशी है , गुलाबों की “

Bhagwati prasad Vyas
खुशनुमा पल , खुश है मौसम ! झूमती हैं बहारें , तरबतर हर क्षण [...]

” होठों पर पलने लगे हैं , मीठे मीठे छंद ” !!

Bhagwati prasad Vyas
अनुभूति छुअन की , दर्द मीठा सा जगाये ! झोंका नम हवा का , आँखों [...]

” तुमने फिर , डाला है डेरा ” !

Bhagwati prasad Vyas
बढ़ता हुआ कारवां , थम सा गया है ! रेत के टीलों से बाहर , मन यहाँ [...]

चली जा रही है, कली जा रही है

विनोद कुमार दवे
जाने ये हालात हमें कहाँ ले चले, दो पल पास बैठो, ये दिल कुछ कहना [...]

*सावन के महीने में*

भूरचन्द जयपाल
*********👍 🎂👌*********** सावन के महीने मेँ रिमझिम ये बरसे बरखा का [...]

सनम तुम आ जाओ…………….|गीत| “मनोज कुमार”

मनोज कुमार
सनम तुम आ जाओ सजन तुम आ जाओ...........२ अभी तुम तोड़ के बंदिश, सभी तुम [...]

सूर्य उगाएँ

अरविन्द अवस्थी
आओ मिलकर नए साल का सूर्य उगाएँ दुश्चक्रों में फँसी रोशनी [...]

गीत :तुम से बिछुड के दिल

Radhey shyam Pritam
तुम से बिछुड के दिल पागल दीवाना हो गया। तेरे प्यार में [...]

🎂कजरारे नैनोवाली🎂

भूरचन्द जयपाल
🎂कजरारे नैनोंवाली🎂 💐💐💐💐💐💐💐💐 कजरारे नैनों वाली बता दे [...]

बन कर राम दिखादो तुम

Manju Vashisth
आन किये थे धरती पर जो, कर वो काम दिखादो तुम। सीता मैं भी बन [...]

नवबर्ष गीत

विवेक आस्तिक
गीत - - - - - - - - ---'''-------- नवबर्ष का इस तरह आधार हो । प्यार ही बस प्यार [...]

ख़्वाब

भूरचन्द जयपाल
मैंने देखा था इक ख़्वाब मगर आँख लगने लगी उसमें मेरी हर हक़ीक़त [...]

गीत :अ दोस्त मेरे….दूर क्यों बैठा है तू

Radhey shyam Pritam
अ दोस्त मेरे, दूर क्यों बैठा है तू पास आ, कोई बात तो कर ले। ये [...]

वादा

surekha kadian
किसी मोड़ पर ना तुमसे मिलूंगी, चलो ये भी वादा किया आज [...]

हो नए साल में हाल नया

बसंत कुमार शर्मा
हो नए साल में हाल नया लाये खुशियाँ ये साल नया महलों में जब [...]

नवगीत।मानव आदमखोर हो गया।

राम केश मिश्र
नवगीत। मानव आदमखोर हो गया ।। झूठा लम्पट बन रहा, लूटे देश [...]

ग़ुजरा साल पुराना

ईश्वर दयाल गोस्वामी
नई-नई सौगातें देकर, ग़ुजरा साल पुराना । नोटों को भी बंद करा [...]

नए साल पर हों तमन्नाएं पूरी,

प्रदीप तिवारी 'धवल'
नए साल पर हों तमन्नाएं पूरी सिमट जाये बढ़ते हुए दिल की दूरी [...]

आदमी (नवगीत)

ईश्वर दयाल गोस्वामी
नवगीत श्याम-पट पर अक्षरों-सा नहीं चमकता आदमी । अक्षरों [...]

साकार हो स्वप्न अच्छे दिन के नए साल में

आनंद बिहारी
मन मस्त हो, तन स्वस्थ हो, बुद्धि सकुशल नए साल में आएं ना किसी [...]

बीत गया है पूरा साल

Mudassir Bhat
कब तक करे अब हम मलाल बीत गया है पूरा साल, फिर शहर में न हो बवाल [...]

==* अब पीना जरुरी है *==

SHASHIKANT SHANDILE
मुझे मैख़ाना दिखा दो की अब पीना जरुरी है हुये हासिल ग़मो को अब [...]

दिया मौन का सखी जलाओगी कब तक

Dr Archana Gupta
अपने दिल के घाव छिपाओगी कब तक दिया मौन का सखी जलाओगी कब तक [...]

बेला

बसंत कुमार शर्मा
सुंदर कोमल स्वेत धवल सा, फूल रहा बगिया में बेला लू के गरम [...]

भ्रष्ट कहौ जौ उनका तौ बौराय जात हैं.

प्रदीप तिवारी 'धवल'
भ्रष्ट कहौ जौ उनका तौ बौराय जात हैं. थरिया कै अस जूँठन वै [...]

हिंदी तो है शान हमारी

Dinesh Kushbhuvanpuri
विश्व के सभी हिंदी भाषियों को समर्पित- गीत - हिंदी तो है शान [...]

गीत

DrRaghunath Mishr
कब तक गम बर्दास्त करोगे. 000 - डा०रघुनाथ मिश्र 'सहज', [...]

नवगीत

ईश्वर दयाल गोस्वामी
शिशिर अब, रोमांस नहीं , गुनगुनाती धूप में । आँख की गहराई में [...]

जग गया भारत : जितेंद्रकमल आनंद ( पोस्ट १६२)

Jitendra Anand
जग गयी भारत हमारा देश भावन। छँट गये बादल तमिस्रा के घनेरे [...]

ज़िंदग़ी सिगरेट का धुआँ (नवगीत)

ईश्वर दयाल गोस्वामी
ज़िंदग़ी सिगरेट का धुआँ । कहीं खाई, कहीं कुआँ । ज़रदे जैसी [...]