साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

गीत

कौन मनाएगा दीवाली(गीत)

Dr.rajni Agrawal
"कौन मनाएगा दीवाली?"(गीत) घर -आँगन लक्ष्मी बिन सूना, नहीं तेल, [...]

जाने जाँ

Maneelal Patel मनीभाई
दुख की घड़ियां है ,दो पल की। फिर क्यों तेरी ,आंखें छलकी ।। याद [...]

गीत

rajesh Purohit
ज्योतिपर्व मनाओ ज्योति पर्व मनाओ। दीन दुखी हर मानव को गले [...]

जाने किस दिन हो पायेगा भ्रष्टों का अवसान

आकाश महेशपुरी
जाने किस दिन हो पायेगा भ्रष्टों का अवसान ■■■■■■■■■■■■■ [...]

चंचल मन भी पागल है (गीत)

Dr.rajni Agrawal
"चंचल मन भी पागल है" गीत ******************* सारी रात जगा यादों में, चंचल [...]

कविता… दोस्ती

Radhey shyam Pritam
दोस्त तेरी क़सम है,कृष्ण-सुदामा से न यह कम है। बिन कहे दर्द [...]

मन की कोई थाह नहीं

श्रीकृष्ण शुक्ल
पल में जाता आसमान पे पल में सपनों की उड़ान पे सपनों में ही [...]

बाल कविता

Santosh Khanna
बाल कविता बच्चों को दिवाली उपहार देखो खेले मेरी [...]

अब पुराना हो रहा है यह मकान

Dr. Harimohan Gupt
अब पुराना हो रहा है यह मकान, देखो खिसकने लगीं ईटें [...]

*बात पनघट की*

maheshjain jyoti
ब्रज भाषा में एक रचना ....! (पनघट पर एक नारी अपनी सखी से कह रही है [...]

बात पनघट की

maheshjain jyoti
ब्रज भाषा में एक रचना ....! (पनघट पर एक नारी अपनी सखी से कह रही है [...]

*** दीवाने हो गये हैं हम ****

भूरचन्द जयपाल
दीवाने हो गये हैं हम दीवाने हो गये हैं हम नहीं हैं हम किसी [...]

मुबारक हो आंसू

कवि कृष्णा बेदर्दी
जन्मदिन-गीत मुबारक मुबारक मुबारक मुबारक, जन्मदिन आपको [...]

चिरसंगिनी बनकर

कवि कृष्णा बेदर्दी
🎇🎇🎇🎇🎇🎇🎇🎇🎇🎇🎇🎇🎇🎇🎇 जब कभी कोई पल खोजती हु चैन की साँस [...]

मेरा सुना आँचल भर दो

कवि कृष्णा बेदर्दी
सुनो पिया मैंने तो बस तुमको ही चाहा अपने दिलो जान मे तुम्ही [...]

रिश्तों की भूल भुलैया

कवि कृष्णा बेदर्दी
तन के दावेदार मिले मन को कोई ना प्यार मिला रिश्तों की भूल [...]

दीप जलाते हो

कवि कृष्णा बेदर्दी
क्यों आस के दिप जलाते हो तुम क्यों सपनो में आते हो? एक बूँद [...]

आओ प्रियतम

कवि कृष्णा बेदर्दी
मन के इस मयूरा पर प्रियतम प्रेम की धुन जगाये हम आओ फिर कुछ [...]

कैसे कहुँ

कवि कृष्णा बेदर्दी
तुमसे मुहब्बत है मेरे सनम , ये कहने की बात नही, जरा नजरो से [...]

रंगों की बौछार पिया

कवि कृष्णा बेदर्दी
फाल्गुन का त्यौहार पिया रंगो की बौछार पिया तुमसे कितना [...]

सनम आंसू

कवि कृष्णा बेदर्दी
तू आयी जहां में सनम जिस दिन, बहारों ने गुल खिलाए थे, हवा ने गीत [...]

वर दे वर दे

कवि कृष्णा बेदर्दी
वर दे वर दे वीणा वादिनी वर दे, भर भर दे माँ मेरी झोली तू भर [...]

माँ तेरा स्वागतम्

कवि कृष्णा बेदर्दी
जय_माता_दी स्वागतम् स्वागतम् माँ तेरा स्वागतम्, आवो मेरे [...]

ओढ़ू तिरंगा का प्यारा कफन

Anish Shah
बहुत शान तेरी है प्यारे वतन। नमन तझको करता है,झुकके [...]

#)) माँ तुम याद आती हो ((#

Ranjana Mathur
जब-जब चमकती है बारिश में बिजलियाँ माँ तुम याद आती हो। जब-जब [...]

सुनो सुनो विनती माँ मेरी

कवि कृष्णा बेदर्दी
सुनो सुनो विनती माँ मेरी, सुनो सुनो विनती माँ मेरी। मुझको [...]

प्रेम अमर अपना कर दूँ

कवि कृष्णा बेदर्दी
आँखों के आंसू सुख गए, तेरी यादो में हम टूट गए मैं तो तुमसे [...]

दुनिया है मेरी दीवानी

कवि कृष्णा बेदर्दी
दिल में हैं दर्द आँखों में पानी, फिर भी ए दुनिया है मेरी [...]

वो लड़कीं थी

कवि कृष्णा बेदर्दी
इक अलबेली सबसे निरीली भोली भाली वो लडकी थी, चाँद के जैसा उसका [...]

महंगी पड़ी ए जुदाई

कवि कृष्णा बेदर्दी
तेरे प्यार में दिल मेरा टुटा कभी अब प्यार न करूंगा, मुहब्बत [...]