साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

गज़ल/गीतिका

सब्र कहाँ मुझसे होता है

बसंत कुमार शर्मा
कभी चैन से कब सोता है शूल किसी को जो बोता है लिखी भाग्य [...]

भूल जाओ किसका आना रह गया

चन्‍द्र भूषण मिश्र ‘ग़ाफ़िल’
क्या बताऊँ? क्या बताना रह गया सोचता बस यह, ज़माना रह गया क्या [...]

बेवफ़ा ज़िंदगी से //ग़ज़ल//

दुष्यंत कुमार पटेल
क्यों खफ़ा-खफ़ा सी हो बात क्या है झुकी-झुकी सी नज़रे हैं राज [...]

तुम ग़ज़ल शायरी //ग़ज़ल //

दुष्यंत कुमार पटेल
तुम सुबह शाम की ईबादत हो मेरी पहली,आखिरी मोहब्बत हो कोई [...]

राह चुनने का हमें……..

Ramesh chandra Sharma
राह चुनने का हमें जब बोध होगा, यात्रा में फिर नहीं अवरोध [...]

ग़ज़ल

pran sharma
ग़ज़ल - प्राण शर्मा ------------- बीवी का कभी हाथ बंटाना नहीं आता हर [...]

गुरु घन्टाल

Kapil Kumar
प्रत्यक्ष को पुराने की जरूरत क्या है सच को भी छुपाने की [...]

गजल

डॉ मधु त्रिवेदी
आ गये जब पास मेरे वो हिचकिचाये भी नहीं दर्द दास्तां को सुना [...]

गजल

डॉ मधु त्रिवेदी
मुहब्बत की सियासत और क्या है बिना इसके हकीकत और क्या [...]

बारिश….

Ramesh chandra Sharma
गज़ल ग़मों का बोझ बढ़ाने को आ गई बारिश , हमारी जान जलाने को आ गई [...]

तन्हाई अब कातिल हो गई है

आनंद बिहारी
ये तन्हाई अब कातिल हो गई कि अब मेरे लिए मुश्किल हो गई है तुम [...]

कैसे कहूँ कि तेरे बिना ग़म नहीं हुआ

आनंद बिहारी
कैसे कहूँ कि तेरे बिना, ग़म नहीं हुआ जो भी हुआ, जितना हुआ कम [...]

रात ही जब हुई मुख़्तसर

चन्‍द्र भूषण मिश्र ‘ग़ाफ़िल’
आदाब दोस्तो! आज रात फ़िलबदीह में हुई बहुत ही छोटी बह्र की एक [...]

मकानों के दरम्यान

Lokesh Nashine
मकानों के दरम्यान कोई घर नहीं मिला शहर में तेरे प्यार का [...]

पोशीदा बातों को

Lokesh Nashine
पोशीदा बातों को सुर्खियां बनाते हैं लोग कैसी कैसी ये [...]

धुंधला धुंधला अक्स

Lokesh Nashine
धुंधला धुंधला अक़्स, ख़ुशी कम दिखती है ये आँखे जब आईने में नम [...]

आँखों में

Lokesh Nashine
ख़्वाब तेरा करता है वो जादू आँखों में भर उठती है ख्वाब की हर [...]

वो करेंगे सौ बहाने, देख लेना जी…

सोमनाथ शुक्ल
वो करेंगे सौ बहाने, देख लेना जी आ रहे हैं फिर लुभाने, देख लेना [...]

गगन में टूटता तारा दिखा है

Dr Archana Gupta
गगन में टूटता तारा दिखा है किसी की आस का दीपक जला है महक कर [...]

सताए मुझको

डॉ मधु त्रिवेदी
सताये मुझको आज वो मुलाकात हुई थी तुमसे पहली मुलाकात खड़े थे [...]

आपसे हूँ

डॉ मधु त्रिवेदी
आपसे हूँ अब गुलजार खुदा जाने क्यों हर बुरे वक्त तू आधार खुदा [...]

बाँध लेता प्यार

डॉ मधु त्रिवेदी
बाँध लेता प्यार सबको देश से द्वेष से तो जंग का आसार है [...]

और क्या है

डॉ मधु त्रिवेदी
मुहब्बत की सियासत और क्या है बिना इसके हकीकत और क्या [...]

न फैला हाथ तू अपना ज़रा सम्मान पैदा कर

Mahesh Kumar Kuldeep
न फैला हाथ तू अपना ज़रा सम्मान पैदा कर हमेशा सर उठा के जीने का [...]

बेवफ़ा है ज़िन्दगी और मौत पर इल्ज़ाम है

Mahesh Kumar Kuldeep
बेवफ़ा है ज़िन्दगी और मौत पर इल्ज़ाम है मौत तो इस ज़िन्दगी का [...]

मुझे तुमसे प्यार है बहुत

Devanshu Maurya
जानेमन मुझे तुमसे प्यार है बहुत, तेरे बिन दिल ये बेकरार [...]

कब्र में खाली हाथ जाते हैं

shuchi bhavi
उम्र भर मालो ज़र कमाते हैं क़ब्र में खाली हाथ जाते हैं [...]

छोड़ भवि यूँ इंतज़ार करना

shuchi bhavi
रोज वादे यूँ ही झूठे यार करना आ गया हमको भी दो के चार करना [...]

मिटा ले यार दिल की तश्नगी को

सर्वोत्तम दत्त पुरोहित
मिटा ले यार दिल की तश्नगी को जगा दिल में ज़रा आवारगी [...]

राग अधरों पर सजाना आ गया

Rakesh Dubey
राग अधरों पर सजाना आ गया लो मुझे भी गीत गाना आ गया छटपटाहट आज [...]