साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

गज़ल/गीतिका

उधार नही उतरा है—

SUDESH KUMAR MEHAR
किताबो मे कभी करार नही उतरा है। जुनू था सर पे सवार, नही उतरा [...]

ग़ज़ल (मुसीबत यार अच्छी है)

मदन मोहन सक्सेना
मुसीबत यार अच्छी है पता तो यार चलता है कैसे कौन कब कितना, रंग [...]

ग़ज़ल (ये जीबन यार ऐसा ही )

मदन मोहन सक्सेना
ग़ज़ल (ये जीबन यार ऐसा ही ) ये जीबन यार ऐसा ही ,ये [...]

ग़ज़ल (आज के हालात )

मदन मोहन सक्सेना
ग़ज़ल (आज के हालात ) आज के हालात में किस किस से हम शिकवा करें हो [...]

ग़ज़ल (अब समाचार ब्यापार हो गए )

मदन मोहन सक्सेना
ग़ज़ल (अब समाचार ब्यापार हो गए ) किसकी बातें सच्ची जानें अब [...]

ग़ज़ल ( जीबन यार बुलबुला)

मदन मोहन सक्सेना
ग़ज़ल ( जीबन यार बुलबुला) भरोसा है तो रिश्तें हैं ,रिश्तें हैं [...]

गज़ल (ये कैसा परिवार)

मदन मोहन सक्सेना
गज़ल (ये कैसा परिवार) मेरे जिस टुकड़े को दो पल की दूरी बहुत [...]

बयाँ-ए-कश्मीर

रविन्द्र कुमार श्रीवास्तव
मैंने कहा कि धरती की है स्वर्ग ये जगह उसने कहा की अब तुम्हारी [...]

कोई जादू लगे है ख़यालात भी

हिमकर श्याम
खूब होती शरारत मेरे साथ भी सब्र को अब मिले कोई सौगात [...]

गजल

डॉ मधु त्रिवेदी
बाँध लेता प्यार सबको देश से द्वेष से तो जंग का आसार है [...]

*गज़ल*

LOVE PRANAY
जान जाने के हैं' आसार खुदा जाने क्यों आप से हो गया' है प्यार [...]

“गीतिका”

Chhaya Shukla
गीतिका - ------ ये' जीवन विधाता का' उपहार है | ये' माने वही जो [...]

“गीतिका”

Chhaya Shukla
गीतिका - * * * * * साथ तेरा मिला हम सँभलने लगे | ये समय को न भाया [...]

ग़ज़ल(ये किसकी दुआ है )

मदन मोहन सक्सेना
ग़ज़ल(ये किसकी दुआ है ) मैं रोता भला था , हँसाया मुझे [...]

गज़ल (कुदरत)

मदन मोहन सक्सेना
गज़ल (कुदरत) क्या सच्चा है क्या है झूठा अंतर करना नामुमकिन [...]

ग़ज़ल (मेरे मालिक मेरे मौला )

मदन मोहन सक्सेना
ग़ज़ल (मेरे मालिक मेरे मौला ) मेरे मालिक मेरे मौला ये क्या [...]

ग़ज़ल (चार पल)

मदन मोहन सक्सेना
ग़ज़ल (चार पल) प्यार की हर बात से महरूम हो गए आज हम दर्द की [...]

गज़ल (बात करते हैं )

मदन मोहन सक्सेना
गज़ल (बात करते हैं ) सजाए मौत का तोहफा हमने पा लिया जिनसे ना [...]

गज़ल (ख्बाब)

मदन मोहन सक्सेना
गज़ल (ख्बाब) ख्बाब था मेहनत के बल पर , हम बदल डालेंगे [...]

ग़ज़ल (मौका )

मदन मोहन सक्सेना
ग़ज़ल (मौका ) मिली दौलत ,मिली शोहरत,मिला है मान उसको क्यों मौका [...]

गज़ल ( बात अपने दिल की )

मदन मोहन सक्सेना
गज़ल ( बात अपने दिल की ) सोचकर हैरान हैं हम , क्या हमें अब हो गया [...]

ग़ज़ल (इनायत)

मदन मोहन सक्सेना
ग़ज़ल (इनायत) दुनिया बालों की हम पर जब से इनायत हो गयी उस रोज [...]

गज़ल (मेरे हमसफ़र )

मदन मोहन सक्सेना
गज़ल (मेरे हमसफ़र ) मेरे हमनसी मेरे हमसफ़र ,तुझे खोजती है मेरी [...]

गज़ल ( आगमन नए दौर )

मदन मोहन सक्सेना
गज़ल ( आगमन नए दौर ) आगमन नए दौर का आप जिसको कह रहे बह सेक्स की [...]

ग़ज़ल (हार-जीत)

मदन मोहन सक्सेना
ग़ज़ल (हार-जीत) पाने को आतुर रहतें हैं खोने को तैयार नहीं [...]

ग़ज़ल( ये कल की बात है )

मदन मोहन सक्सेना
ग़ज़ल( ये कल की बात है ) उनको तो हमसे प्यार है ये कल की बात [...]

मुझे तुमसे या दुनियां से गिला क्या —- गज़ल -निर्मला कपिला

निर्मला कपिला
मुझे तुमसे या दुनियां से गिला क्या मिली तकदीर से हम्को सजा [...]

गज़ल—– निर्मला कपिला उलझनो को साथ ले कर चल रहे हैं

निर्मला कपिला
गज़ल----- निर्मला कपिला उलझनो को साथ ले कर चल रहे हैं वक्त की [...]

रूठ कर यूँ हमें मत सताया करो

Dr Archana Gupta
रूठ कर यूँ हमें मत सताया करो प्यार हैं हम हमें तुम मनाया [...]

ग़ज़ल

sanjeev kuralia
ग़ज़ल रंजिशें यार जरा , दिल से भुला कर देखो ! हाथ दुश्मन से भी , [...]