साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

गज़ल/गीतिका

ग़ज़ल।यही दौलत कमाया कर।

राम केश मिश्र
ग़ज़ल।यही दौलत कमाया कर । ग़ुरूर ऐ गर्व है नफ़रत ,कभी तो सर [...]

कुछ कह ले दिल

Dinesh Dave
कुछ कह ले दिल .... सागर से गहरे दिल ,फिर भी न बहले दिल कभी तो दिल [...]

ग़ज़ल :– दिलों का दर्द है ऐसा !!

Anuj Tiwari
ग़ज़ल :-- दिलों का दर्द है ऐसा !! गजलकार :-- अनुज तिवारी [...]

यही किस्सा हमारा उम्र भर का…

हरीश लोहुमी
यही किस्सा हमारा उम्र भर का .... ******************************* * रहे हिस्सा [...]

ग़ज़ल :– आज़माइश नहीं करते !!

Anuj Tiwari
ग़ज़ल -- आजमाईस नहीँ करते !! अनुज तिवारी "इंदवार" आशिको की कभी [...]

इश्क का किस्सा

Pushpendra Rathore
इश्क का एक किस्सा सुनाएं तुम्हें, अश्क से रूबरू फिर कराएं [...]

ग़ज़ल:– कॉम्पिटिशन प्यार में (व्यंग)!!

Anuj Tiwari
गजल :--व्यंग - काॅम्पटीशन प्यार में !! गज़लकार :-- अनुज तिवारी [...]

ग़ज़ल :– बंदिश ये रंजिश औ नाकाम से डर जाते हैं ॥

Anuj Tiwari
गज़ल :-- बंदिश ये रंजिश औ नाकाम से डर जाते हैं ॥ बहर :-- [...]

ग़ज़ल :- मुस्कान से डर जाते हैं !! पार्ट –2

Anuj Tiwari
ग़ज़ल :-- मुस्कान से डर जाते हैं ! (पार्ट--2) गज़लकार :-- अनुज [...]

तू बता , तू मुझे मिला कब है

रविन्द्र कुमार श्रीवास्तव
तू बता तू मुझे मिला कब है हूँ इन्तज़ार में गिला कब है रात हो [...]

विष दिया प्याले में उसने सामने ही घोलकर

गुरचरन मेहता 'रजत'
============================ दिल दुखाया फिर किसी ने राज़ मेरे खोलकर विष दिया [...]

ग़ज़ल :– मेरे यार का दामन दागी निकला !!

Anuj Tiwari
ग़ज़ल :--मेरे यार का दामन दागी निकला !! गज़लकार :-- अनुज तिवारी [...]

इधर फितरत बदलती जा रही है

Dr Archana Gupta
इधर फितरत बदलती जा रही है उधर उल्फत बिखरती जा रही है इमारत [...]

ग़ज़ल :– आँगन में आत्मसमर्पण देखा !!

Anuj Tiwari
ग़ज़ल --: आँगन में आत्मसमर्पण देखा !! गज़लकार--: अनुज तिवारी [...]

ग़ज़ल :– चाँदनी रात आई है !!

Anuj Tiwari
!!! चांदनी रात आई है !!! गज़लकार :- अनुज तिवारी "इंदवार" शोले इश्क [...]

ग़ज़ल :– सारे शहर में जुल्म है आक्रोश है !!

Anuj Tiwari
गज़ल --: सारे शहर में जुल्म है आक्रोश है !! ग़ज़लकार --: अनुज [...]

ग़ज़ल — ज़माना ढूँढते हैं !!

Anuj Tiwari
ग़ज़ल -- ज़माना ढूँढते हैं !! प्यास लगे तो पैमाना ढूँढते हैं [...]

गीतिका

अंकित शर्मा 'इषुप्रिय'
*गीतिका* शनै: से पुष्प फिर से मुस्कुराया। हवा ने फिर नया [...]

ग़ज़ल।इक आशियाना मिल गया ।

राम केश मिश्र
ग़ज़ल।आशियाना मिल गया । आदमी को खुदा, खुद का ठिकाना मिल गया [...]

ग़ज़ल।मुझको सिफ़ारिश न मिली ।

राम केश मिश्र
आज तक मेरे प्यार को बेसक गुज़ारिश न मिली । हूँ आंसुओ में [...]

बेवजह गीतिका छल रही है मुझे

Pushpendra Rathore
आज फिर से हवा छल रही है मुझे, महक उसकी अभी मिल रही है मुझे, दूर [...]

शायरी तक आ गए

Dr Archana Gupta
हम जो डूबे प्यार में तो शायरी तक आ गए भाव दिल के सब उतर कर [...]

*क्यूं*

Dharmender Arora Musafir
कर रहा क्यूँ आदमी अभिमान है जब ठिकाना आखिरी शमशान है चार दिन [...]

ये मिलन की धुन बजाता कौन है ? (गीतिका)

हरीश लोहुमी
* ये मिलन की धुन बजाता कौन है ? आस फिर दिल में जगाता कौन है [...]

कोयला होता कभी हीरा नहीं

Dr Archana Gupta
सर घमण्डी का रहे ऊँचा नहीं कोयला होता कभी हीरा नहीं खूब जी [...]

खूबसूरत धरा बना देंगे

Dr Archana Gupta
खूबसूरत धरा बना देंगे पेड़ों से हम इसे सजा देंगे प्यार से [...]

प्यारा वतन

Pushpendra Rathore
हर घङी बस चमन में अमन चाहिए, हंसता मुस्कुराता वतन चाहिए। [...]

*मुकद्दर*

Dharmender Arora Musafir
मुकद्दर जहाँ में उसी का हुआ है खुद पे ही जिसने भरोसा किया [...]

न ज़िन्दगी से हम थे हारे

Alok Mittal
मापनी - २२ २२ २२ २२ पदपादाकुलक छंद ~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~ न ज़िन्दगी [...]

ये संसार भी बेटियों से चला है

Dr Archana Gupta
ये संसार भी बेटियों से चला है अगर पास बेटी तो ये इक दुआ है [...]