साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

गज़ल/गीतिका

***** मत पूछ सवाल ऐ जमाने *****

भूरचन्द जयपाल
मत पूछ सवाल ऐ जमाने क्या हमारे दिल में है वक्त आने पर बता [...]

ग़ज़ल /गीतिका

kalipad prasad
दुअम्ली पाक सेना हार कर आजरफ़िशां क्यूँ हो हमेशा ही हमारे वीर [...]

बलिदान

saurabh surendra
धुंधली सी आंखें मुरझाया सा चेहरा फटे कपड़े, टूटा चश्मा बदन [...]

गज़ल

Neelam Sharma
हम ख्वाबों की कश्ती बिन जल ही डुबोते अगर तुम न होते,अगर तुम न [...]

बड़ी नफ़रतें है दिलों में आजकल !!

Surya Karan
बड़ी नफ़रतें है दिलों में आजकल !! मग़र दिलचस्प वाकया कुछ और ही है [...]

#नज़राना

Surya Karan
बेमतलब की ये ; सारी दुनियादारी है । तेरे एहसान मुझपे , जिन्दगी [...]

“पाने की तलब है”

Surya Karan
पाने की तलब है, न मुकद्दर में यकीं है मेरे कदम वहीं है ,जहाँ [...]

आ तो सही इक बार मेरे गाँव में

बसंत कुमार शर्मा
आ तो सही इक बार मेरे गाँव में अद्भुत अतिथि सत्कार मेरे गाँव [...]

आतंकवादियों की देश के अंदर से सहायता वाले आस्तीन के सापों के लिए एक रचना

saurabh surendra
देखकर हमारी शहादत जिसको खुशी मिलती है है अपना मगर शक्ल [...]

ये दरिया गम का कम गहरा नहीं था

Dr Archana Gupta
ये दरिया गम का कम गहरा नहीं था हमें फिर भी डुबो पाया नहीं [...]

अँधेरा ही पायेगा

Surya Karan
अमरनाथ यात्रा पर 10-7-2017 को हुवे आतंकी हमले पर जेहादियों को [...]

कभी लेखनी कहती है ।

Vindhya Prakash Mishra
कभी कभी कागज कहता है , कभी लेखनी खुद कहती है आज तुम्हें कुछ [...]

जहाँ भर में

Shivkumar Bilagrami
जहां भर में अमन का ग्राफ़ नीचे जा रहा है जिसे देखो वही तलवार [...]

ग़ज़ल

Sube singh Sujan
तन्हा से छत पे बैठे हो, ठीक ठाक तो हो ? क्या बात?खुद से लड़ते हो [...]

पति गये परदेश

मधुसूदन गौतम
गये पति परदेश सखी री कब तक पन्थ निहारु। मेरे इस मन के आंगन को [...]

बारिश

Abhinav Kumar Yadav
ये बारिश की बूंदे जो भिगो देती हैं, तेरी यादों को दिल में पीरो [...]

ग़ज़ल

Suyash Sahu
हर शय का इस तरह एहतिमाम होता है गूंगों से पूछ कर यहां काम [...]

जिसके जान से ही मेरी पहिचान है

Vindhya Prakash Mishra
जिसके जान से ही मेरी पहिचान है, तुम नही तो दिन मेरा सूनसान [...]

शादी से पहले, शादी के बाद

Shayar Mr-Khan Pathan
1. शादी से पहले तो सुनते हैं प्यार के गीत। शादी के बाद मातम का [...]

मेरी ग़ज़ल के दो शेर

Shri Bhagwan Bawwa
तेरे शहर में रिश्तो का कोई सम्मान नहीं होता , मेरे गांव की तरह [...]

बेटी की पुकार

लक्ष्मी सिंह
🌹🌹🌹🌹 बेटा बेटी एक समान बता क्यूँ नहीं देते? जमाने के आँखों [...]

तुम्हें बादल दिखायेगा

Shivkumar Bilagrami
तुम्हें बादल दिखायेगा तुम्हारे वोट ले लेगा मगर कोई [...]

बता क्यूँ नहीं देते…..

शालिनी साहू
एक बार ही जी भर के सजा क्यूँ नहीं देते इन रूढ़ियों, परम्पराओं [...]

मुश्किलों के दौर को

Shivkumar Bilagrami
मुश्किलों के दौर को हम खुद पे ऐसे सह गए कुछ तो आँसू पी लिए कुछ [...]

अपनों से न गैरों से

Shivkumar Bilagrami
अपनों से न ग़ैरों से कोई भी गिला रखना आँखों को खुला रखना [...]

हमदर्द कैसे कैसे

Shivkumar Bilagrami
हमदर्द कैसे कैसे हमको सता रहे हैं काँटों की नोक से जो मरहम [...]

मेरी सोच

Shivkumar Bilagrami
मेरी सोच मेरी हदों का निशां है मगर इसके आगे भी कोई जहां [...]

गीतिका

डाॅ. बिपिन पाण्डेय
गीतिका - आधारछंद - विधाता समांत -अना, पदांत - आ गया हमको। मापनी [...]

क़हर

Surya Karan
क़हर जब बरपा ग़मों का , लड़खड़ा गया मुद्दत से ख़ुदा ने मुझे ; तुमसे [...]

वो जो मेरे ख्‍वाबो ख्‍यालों में रहने वाली वो जो मुझे अपना जताने वाली

bharat gehlot
वो जो मेरे ख्‍वाबो ख्‍यालों मे रहने वाली, वो जो मुझे अपना [...]