साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

गज़ल/गीतिका

गजल

sunny gupta
🌿🌿🌿गजल🌿🌿🌿 कभी दिल करे पास आया करो। अपने नाचीज को आजमाया [...]

गजल : ओ बहना मेरी…….👌👌👌

Radhey shyam Pritam
ओ बहना खुश रहना मिले न गम। छू ले ऊँचाई न रहे किसी से [...]

टूट कर शाख से गिरा कैसे

ashok ashq
बात दिल की न कर हज़ारों से ये जहाँ है भरी दिले बीमारों से चाह [...]

तुम हो

Hardeep Bhardwaj
क़ज़ा भी तुम हो हयात भी तुम हो डायरी के पन्नों पर उतरे लफ्ज़ भी [...]

खुशी पल भर नही देखे

ashok ashq
जिगर पर चोट खा कर भी तेरे कूचे में आए है दवा दे या ज़हर दे दे [...]

गजल : जिन्दगी…………👌👌👌

Radhey shyam Pritam
कभी खुशनुमा कभी उदास लगती है जिन्दगी। हरपल एक नया इतिहास [...]

जुल्‍म वाे ढहाती रही जुल्‍फ वो सुलझाती रही

bharat gehlot
जुल्‍म वो ढहाती रही जुल्‍फ वो सुलझाती रही , करके अ‍‍क्षि तीर [...]

*तुम उदास हो चेहरे पे फिर उजास है *

भूरचन्द जयपाल
तुम उदास हो चेहरे पे फिर उजास है ग़म छुपाते हो दिल ये फिर उदास [...]

जिसको पूजता संसार है

सागर यादव 'जख्मी'
जिसको पूजता संसार है बेशक दया का भण्डार है आज फिर आपसे [...]

जब योगी गाय चरायेँगे

सागर यादव 'जख्मी'
बेशक अच्छे दिन आएँगे जब योगी गाय चराएँगे ये पंक्षी जो चुप [...]

💐💐पौधा लगवाते जाएँ💐💐

Santosh Barmaiya
हर जन दूजे तक मेरी बात पहुंचाते जाए। चार पौधे जीवन में लगा [...]

## क्या खोया क्या पाया””

Santosh Barmaiya
क्या खोया क्या पाया हमने इस तकरार में? बिखरे रिश्ते-नाते [...]

“”””””””””””गजल””””””””””

Santosh Barmaiya
तू ही मेरी सुबह, तू ही शाम है। हर धड़कन मिरी अब तेरे नाम [...]

“”””अधिकार””””””

Santosh Barmaiya
कर हिस्सा रत्ती-रत्ती, बिखर रहा परिवार है। यह कैसा हक, कैसा [...]

आत्मबल

प्रदीप तिवारी 'धवल'
जहाँ अनुशासनों से युक्त, व्यक्तित्व होता है वहां ही कर्म [...]

गजल : भैया मेरे………👌👌👌

Radhey shyam Pritam
खुदा की निगाहों तले पले भैया मेरे। गम के अँधेरों से टल चले [...]

भूख मुफलिस की अब मिटानी है

Pritam Rathaur
उम्र भर ----रखनी सावधानी है आंख तुमसे नही --------लड़ानी है जान [...]

झूठी तारीफ मैं नही करता

Pritam Rathaur
बाग में खिलती रात रानी है जिसके दम से फिजां सुहानी है भूख [...]

राब्तो को आजमाना चाहिए

govind sharma
एक गजल.. दर्द में भी मुस्कुराना चाहिए, राब्तो को आजमाना [...]

आग मज़हब की लगाते कहने को इंसान है

ashok ashq
घर किसी के दो निवाले के लिए तूफ़ान है हाल से उसके हुजूरे आला [...]

“नयी सोच”

Prashant Sharma
गीता और कुरान बना लो नयी सोच को, रामायण का गान बना लो नयी सोच [...]

गजल : बेटियाँ चंदा सरीखी हैं……..👌👌👌

Radhey shyam Pritam
बेटियाँ चंदा सरीखी हैं,प्यार दीजिए। शीतलता ही सीखी [...]

गजल : यारी यार की……….👌👌👌

Radhey shyam Pritam
याराना यार का मौसम ये बहार का। फूले-फले दोस्ती मिले सुख [...]

कौमी एकता

दीपक अवस्थी
मज़हबी दांव पेच मत खेलो मुल्क मत सूनसान होने दो। मंदिरों में [...]

कुछ पल मेरे साथ बिताओ तो कभी..(पियुष राज)

पियुष राज
विधा-ग़ज़ल काफिया-ओ रदीफ़-तो कभी ************************* चाहती हो मुझे अगर [...]

सफीना

milan bhatnagar
क्यों ग़मों मे बशर डूबता जा रहा है फासला इंसानों में बढ़ता जा [...]

असलियत

umesh mehra
भरोसा था कि आइना बतायेगा मुझे फितरत उनकी । बड़ा ही शातिर [...]

हाल अब बदतर बहुत इस देश की आवाम का है

संदीप शर्मा
हाल अब बदतर बहुत इस देश की आवाम का है ढंग भी अबकी सियासत का [...]

अंजामे मुहब्बत

Pritam Rathaur
मिलता है है मुफ़लिसी में सहारा कभी-कभी किस्मत का है चमकता [...]

तितली की झुंड मेरे मन को लुभा गई

Pritam Rathaur
मौसम बसंती आया हरियाली छा गई दुलहन बनी जमीं है सिंगार पा गई [...]