साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

गज़ल/गीतिका

गज़ल

निर्मला कपिला
हम तो सुध बुध ही भूल जाते हैं वो नजर से नजर कभी मिलाते [...]

गज़ल

निर्मला कपिला
दर्द ग़ज़लों में गुनगुनाते है चोट खा कर भी मुस्कुराते [...]

गज़ल

निर्मला कपिला
मेरे दिल पे ख्वाबों का पहरा रहा है मुहब्बत को दिल ये तडपता [...]

ग़ज़ल।मेरे एहसास की दुनिया बसाओ तो तुम्हे जाने।

रकमिश सुल्तानपुरी
ग़ज़ल।मेरे एहसास की दुनिया। चलो रश्मे मुहब्बत को निभाओ तो [...]

ग़ज़ल

सर्वोत्तम दत्त पुरोहित
ऐ ख़ुदा हमको तिरी रहमत सुहानी चाहिए हर जगह बस तेरी ही सूरत [...]

आँखो में चाँदनी है चेहरे पे सादगी है

Vinod Kumar
मतला- आँखो में चाँदनी है चहरे पे सादगी है। तितली हवा नदी जैसी [...]

ग़ज़ल :– दुनियाँ बसाओं तो तुम्हें जानें !!

Anuj Tiwari
ग़ज़ल :-- दुनियाँ बसाओ तो तुम्हे जानें !! अनुज तिवारी [...]

झूमकर जो कल उठी थी

Rakesh Dubey
झूमकर जो कल उठी थी एक बदली मनचली थी आँख बन बैठी समंदर हर पलक [...]

ज़िन्दगी बन कर कहानी रह गई

रविन्द्र कुमार श्रीवास्तव
ज़िन्दगी बन कर कहानी रह गई ज्यूँ बुढ़ापे सी जवानी रह गई दर [...]

ग़ज़ल।लगा है दाग़ दामन में दिखाई तो नही देता ।

रकमिश सुल्तानपुरी
गज़ल। लगा है दाग़ दामन में दिखाई तो नही देता ।। यहा इंसान है [...]

कफ्न की कीमत चुकानी रह गयी

sachin vyas
कर्ज वो सारा चुकाकर मर गया कफ्न की कीमत चुकानी रह गयी कर के [...]

प्यार की दुनिया बसानी रह गई

Dr Archana Gupta
बात जो दिल की बतानी रह गई प्यार की दुनिया बसानी रह गई चाँद [...]

ग़ज़ल :– तुझे पाने की चाहत में !

Anuj Tiwari
ग़ज़ल :-- तुझे पाने की चाहत ! गजलकार :– अनुज तिवारी तुझे पाने [...]

मैं खामोश रहती हूँ

Annu Singh
मैं बस खामोश रहती हूँ तुम्हे क्या फर्क पड़ता है ज़बाँ क़ाबू [...]

राज दिल में हमें ये छुपाना पड़ा

Dr Archana Gupta
राज दिल में हमें ये छुपाना पड़ा याद को आशियाना बनाना पड़ा [...]

ग़ज़ल।दिवाने को नही मालुम।

रकमिश सुल्तानपुरी
ग़ज़ल।निगाहें ढूढ़ती बेबस दिवाने को नही मालुम । वफ़ा में जख़्म [...]

ग़ज़ल

Deepshika Sagar
हमसफ़र है न हमनवा अपना, बस सफर में है काफिला अपना। मुख्तलिफ [...]

ग़ज़ल

Deepshika Sagar
दर्द को अब मुँह चिढ़ाना आ गया, आसुंओं में मुस्कुराना आ [...]

जख़्म जब भी जिगर का हरा हो गया

Rakesh Dubey
जख़्म जब भी जिगर का हरा हो गया दर्द हद से बढ़ा और दवा हो [...]

सादी है नून रोटी सांचे हैं मिटटी के

Anand Khatri
ग़ज़लों में सांस लेते अरमान ज़िन्दगी के सादी है नून रोटी सांचे [...]

हमें भी बता दो जहाँ जा रहे हो

Anand Khatri
कभी तो कहो की कहाँ जा रहे हो हमें भी बता दो जहाँ जा रहे हो [...]

आदमी अमीर हूँ

Rakesh Dubey
आदमी अमीर हूँ खो चुका ज़मीर हूँ जो न खुल के रो सकी वो जिगर की [...]

न मुझको घाट का रक्खा न घर का

Rakesh Dubey
ग़ज़ल- न मुझको घाट का रक्खा न घर का अजब अंदाज है उसकी नजर [...]

बात न पूछ

मिलन चौरसिया
मेरे दिल की बात न पूछ, कैसे हैं हालात न पूछ। बिन तेरे गुजरे [...]

ग़ज़ल :– ये नीर नहीं इन आँखों के !!

Anuj Tiwari
ग़ज़ल –: ये नीर नही इन आखों के !! :-- अनुज तिवारी "इन्दवार" हम डूब [...]

चार गज़लें — गज़ल पर

निर्मला कपिला
गज़ल निर्मला कपिला 1------- मेरे दिल की' धड़कन बनी हर गज़ल हां रहती [...]

तुझे इतना बताना चाहता हूँ ! ब्यथा दिल की सुनाना…

Ashish Tiwari
तुझे इतना बताना चाहता हूँ ! ब्यथा दिल की सुनाना चाहता हूँ [...]

ग़ज़ल :– चलो इंसान बन जायें !!

Anuj Tiwari
ग़ज़ल :-- चलो इंसान बन जायें !! गज़लकार :-- अनुज तिवारी [...]

ग़ज़ल :– अपनी जुबां से कह नहीं सकते !!

Anuj Tiwari
ग़ज़ल :--अपनी जुबां से कह नहीं सकते । गज़लकार :-- अनुज तिवारी [...]

” तिरंगे में लिपटी जवानी कहाँ है “

Kavi DrPatel
**************************** दुआ बन्दगी की निशानी कहाँ है । मरा आँख में आज पानी [...]