साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

गज़ल/गीतिका

**आज भी तुझको याद करता हूँ**

Neeru Mohan
****गज़ल**** आज भी तुझको याद करता हूँ हर घड़ी इंतजार करता [...]

दिल के अरमा

Abhinav Kumar Yadav
तुमने मेरे अरमानों को समझा ही नहीं, मैने जताया तो बहुत [...]

ग़ज़ल

DrSarojini Tanhaa
ज़िन्दगी की मुस्कराहट खो गयी। दर्द में जीने की आदत हो गयी।। [...]

ग़ज़ल /गीतिका

kalipad prasad
ताज़ा’ कानून लाभकारी है घूस खोरों में’ बेकरारी है | देश में [...]

ग़ज़ल।पर तुम्हारी आँख सा आइना कोई नही।

रकमिश सुल्तानपुरी
@@@@@@@@ग़ज़ल@@@@@@@@ बाद जाने के तेरे आसरा कोई नही । इश्क़ मे [...]

पहले नैन मिलाके नैन -चार उसने किया। रात की नींद गई बेक़रार उसने किया।।

Wasiph Ansary
पहले नैन मिलाके नैन-चार उसने किया।। रात की नींद गई बेक़रार [...]

भाग्य भी जगमगा नहीं सकता

Pritam Rathaur
******** हाले दाल मैं बता नहीं सकता जख़्म भी मैं दिखा नहीं सकता [...]

तब से नहीं है क़ल्बो-जिग़र इख्तियार में

Pritam Rathaur
ग़ज़ल 221 2121 1221 212 🔥🔥🔥🔥🔥🔥 जब से पिलाया जाम मुझे तुमने प्यार [...]

जो मिला बेवफा मिला हमको

Pritam Rathaur
ग़ज़ल ********** जिन्दगी से दगा मिला हमको जो था अपना खफ़ा [...]

ख़्वाबों में दुनिया अपनी, बनाए बैठे है

Bhupendra Rawat
ख़्वाबों में दुनिया अपनी, बनाए बैठे है दिल अपना गैरो से लगाए [...]

याद न होती

arti lohani
इक बस तुमको पाया होता जहां क़दम में सारा होता यादें न होती [...]

लबों को सिना जरूरी है जाम दर्द का पीना जरूरी है

Bhupendra Rawat
लबों को सिना जरूरी है जाम दर्द का पीना जरूरी है क्यों इतना [...]

** *गुरु की महिमा***

साहेबलाल 'सरल'
** *गुरु की महिमा*** *करो गुरु का मान गुरु ने ज्ञान दिया।* *बना [...]

मुस्कुराना आ गया

श्रीकृष्ण शुक्ल
=हार में भी जीत सी खुशियाँ मनाना आ गया दर्द सहकर भी हमें अब [...]

तेरे तेवर की लरजिस से

Anish Shah
तेरी शोखी में कुदरत के ये सारे राज पलते है। अदा तेरी जो बदले [...]

अब नफ़रत की धुंध छँटने लगी। जिन्दगी तुझमें फिर सिमटने लगी।।

Wasiph Ansary
अब नफ़रत की धुंध छँटने लगी। जिन्दगी तुझमें फिर सिमटने [...]

मेरी वाणी को झंकार दे दीजिए

Pritam Rathaur
बंजरों में भी जल धार दे दीजिए निर्बलों को भी कुछ प्यार दे [...]

आदमी बुग़्जो हसद में जी रहा

Pritam Rathaur
ग़ज़ल ******* आ गया है दर्द लेकर फिर फिर दुखों का काफिला खो [...]

खन खनाने की बात आए गी

Pritam Rathaur
ग़ज़ल ****** जब भी शीशे की बात आएगी टूट जाने की बात [...]

तोहमत मार डाले गी

Pritam Rathaur
आज की ग़ज़ल अरे नादान तेरी ये शराफ़त मार डाले नहीं अच्छी [...]

दिलों का आइना बिख़रा हुआ है

Pritam Rathaur
🌷🌷 जिसे देखो वही टूटा हुआ है दिलों का आइना बिख़रा हुआ [...]

और धोखा मैं खा नहीं सकता

Pritam Rathaur
******** मैं हँसी खुद नहीं करा सकता जख़्म दिल का दिखा नहीं सकता [...]

तुम समझते क्यों नही हो-स्वरचित

Mahendra Sahu
🌻तुम समझते क्यों नही हो🌻 मेरी आँखों की हया कर देती है मेरी [...]

**आज भी तुझको याद करता हूँ**

Neeru Mohan
****गज़ल**** आज भी तुझको याद करता हूँ हर घड़ी इंतजार करता [...]

ग़ज़ल।नमक जो देश का खाकर विदेशी पेश आता है ।

रकमिश सुल्तानपुरी
*****************ग़ज़ल**************** शराफ़त छोड़ कर सच की हँसी भरसक उड़ाता है । [...]

वफा के इतने सवाल मत कर

हेमा तिवारी भट्ट
"जमाने भर का ख्याल मत कर। वफ़ा के इतने सवाल मत कर। नहीं [...]

ग़ज़ल (दोस्त अपने आज सब क्यों बेगाने लगतें हैं)

मदन मोहन सक्सेना
जब अपने चेहरे से नकाब हम हटाने लगतें हैं अपने चेहरे को देखकर [...]

ठहर जाता तो अच्छा था

बसंत कुमार शर्मा
मापनी 1222 1222 1222 1222 इधर जाता तो अच्छा था, उधर जाता तो अच्छा था. रहा [...]

ग़ज़ल /गीतिका

kalipad prasad
रक्षा के’ नाम पर सभी’ लोगों में जोश है पर रहनुमा तमाम अभी तक [...]

“सब अपने लिए फ़कत कुर्सी ढूंढते हैं “

ramprasad lilhare
मूफ़लिसी में भी रहबरी ढूंढते हैं। बैवकुफ़ हैं वो जो जिंदगी [...]