साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

दोहे

राज दोहावली से – ( गुस्ताखी माफी सहित )

पुष्पराज यादव
पांच तारा होटल में, नाचे नग्न दिखाय| कहे दुशासन द्रोपदी, तुझे [...]

राज दोहावली से:-

पुष्पराज यादव
तुकबंदी से तुकबनी, कविता लई बनाय | भाषा के दुश्मन यहां, कविराज [...]

राज दोहावली से –

पुष्पराज यादव
जब अंधियारा था रमां, राम रमाया नाय| विकट अंधेरा पायके , रमा रमा [...]

पारस

Dr Archana Gupta
पारस हैं माता पिता ,दें खुशियों की खान उनसा इस संसार में ,कोई [...]

प्रकृति ने ही हमें दिया , जल जैसा उपहार,

Dr Archana Gupta
प्रकृति ने ही हमें दिया,जल जैसा उपहार, हम हरियाली काट कर,मिटा [...]

*कलियुग*

Dharmender Arora Musafir
गफलत में है सो रहा कलियुग का इंसान पूजा पत्थर की करे मान इसे [...]

भूल गये इस दौर में, शायद हम तहजीब(दोहे)

RAMESH SHARMA
मिले देखने आजकल ,खबरें कई अजीब ! भूल गये इस दौर में, शायद हम [...]

दोहे

निर्मला कपिला
सूरत से सीरत भली सब से मीठा बोल कहमे से पहले मगर शब्दों मे रस [...]

दोहे

Pushp Lata
दोहे " योग " १) योगासन नियमित करे,हर क्षण रहे निरोग। करें दूर [...]

💐ईद मुबारक 💐

Dr Archana Gupta
💐 आप सभी को ईद की ,बहुत मुबारकबाद रहे ज़िन्दगी आपकी, खुशियों [...]

दोहे-

ramesh kumar chauhan
जाति जाति के अंग से, एक कहाये देह । काम करे सब साथ में, देह [...]

रोजाना फिर ईद है (दोहे)

RAMESH SHARMA
रोजाना फिर ईद है, हर महिना रमजान ! हमने अंदर का अगर,मार दिया [...]

भीनी प्रेम फुहार

Ashok Kumar Raktale
ले-लेकर घन दौड़ती, यहाँ-वहाँ दिन रात | वही हवा बरसात की, लाती शुभ [...]

*दोहे*

Dharmender Arora Musafir
मंदिर -मस्जिद का सदा अजब निराला रंग करनी पर इंसान की रब भी अब [...]

आँगन में तुलसी खड़ी,गलियारे में नीम (दोहे)

RAMESH SHARMA
आँगन में तुलसी खड़ी,गलियारे में नीम ! मेरे घर में हीं रहें, दो [...]

जहर खिलाए आदमी तरकारी के नाम (दोहे)

RAMESH SHARMA
करता जाता आदमी, ऐसे भी कुछ काम ! ज़हर खिलाता बेझिझक, तरकारी के [...]

दोहे

निर्मला कपिला
जीवन मे माँ से बडा और नही वरदान माँ चरणों की धूल ले खुश [...]

दोहे/ नैन हुए नमकीन.

Ashok Kumar Raktale
मृगनयनी शरमा गई, छवि अपनी ही देख | अपलक रही निहारती, पैर ठुकी [...]

हल्का फुल्का लीजिए, गर्मी में आहार (दोहे)

RAMESH SHARMA
हल्का फुल्का लीजिए, गर्मी में आहार ! जल्दी से होंगे नहीं, आप [...]

योग

Dr Archana Gupta
आज योग दिवस पर कुछ दोहे 1 सुख सुविधाओं का बनो ,देखो नहीं [...]

प्यार भरा अहसास.

Ashok Kumar Raktale
रहे उदासी दूर ही,....जबतक माँ हो पास | माँ की ममता में छुपा, प्यार [...]

वृक्ष लगाओगे अगर , होंगे सब खुशहाल

Dr Archana Gupta
रहे तिरंगे से सजा , अपना भारत देश इसके रंगों में छिपे, सुन्दर [...]

किस्मत के दोहे

Archana Singh
मेरी किस्मत ले चली,अब जाने किस ओर। प्रभु हाथों में सौप दी,यह [...]

दोहे

निर्मला कपिला
सूरत से सीरत भली सब से मीठा बोल कहमे से पहले मगर शब्दों मे रस [...]

दोहे

निर्मला कपिला
कौन बिछाये बाजरा कौन चुगाये चोग देख परिन्दा उड गया [...]

दोहा

Vinod Kumar
लालच की होती नहीं,जग में कोई थाह। जो इसमें जितना गया,उतना हुआ [...]

दोहे

Deepshika Sagar
शब्द शब्द मुखरित हुआ, छंद छंद नव गीत, मन वीणा बजने लगी, [...]

प्रीत पर दोहे

Dr Archana Gupta
दोहे 1 हमने अपनी प्रीत पर ,लिखे यहाँ जो गीत सात सुरों में [...]

भोर

Dr Archana Gupta
बहुत पुराना रात दिन ,का आपस में बैर अपनी अपनी राह पर, करते [...]

कुछ दोहे (माँ)

Dr Archana Gupta
प्यार लिखा हर पृष्ठ पर ,माँ वो खुली किताब माँ के आँचल की महक, [...]