साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

दोहे

स्वरचित दोहे

Alka S.Lalit
स्वरचित दोहे ***** छोटे मुँह की बात भी,ऊँची राह सुझाय । सीख [...]

बसंत पर दोहा एकादश

Rajendra jain
बसंत पर देखिए हमारा प्रयास.... दोहे-एकादश शरद विदाई शुभ [...]

आई है ऋतु प्रेम की.(नव बसंत)

RAMESH SHARMA
सरस्वती से हो गया ,तब से रिश्ता खास ! बुरे वक्त में जब [...]

‘ढाई आखर’ की भूल-भुलैया

Acharya Shilak Ram
दैहिक प्रेम करना जरूर, परंतु रखना साक्षीभाव। बेहोशी में यदि [...]

हुआ नहाना ओस में

RAMESH SHARMA
रिश्ता नाजुक प्यार का, ज्यों प्रभात की ओस ! टिके न ज्यादा देर [...]

बेबस था इतिहास

RAMESH SHARMA
वाहियात बातें करें,....रहें उगलते आग ! सुर साधो उनके लिए, जैसा [...]

दुमदार दोहे

Rajendra jain
आज देखिए हमारे कुछ दुमदार दोहे... दुमदार दोहे... १ लोकतंत्र [...]

दोहे …टोपी, नेता और जनता

सत्येंद्र कात्यायन
टोपी का उपयोग अब, नेता की पहचान। कुरता भी अब बन गया, नेता जी की [...]

नए नए नित छंद

RAMESH SHARMA
कलम स्वरूपी पुष्प से ,निकलेगा मकरंद ! यही सोच रचवा रही,..नए नए [...]

दागी नेता बैन

RAMESH SHARMA
होगा नही महान क्यों, दुनिया मे वो देश ! फहराये झंडा जंहा [...]

बढे राष्ट्र का मान

RAMESH SHARMA
राष्ट्र-भक्ति की भावना ,भारत का सम्मान ! करिये ऐसा काम जो, बढे [...]

आतंकवाद पर दोहे

साहेबलाल 'सरल'
आतंकी को मारकर, देना उन्हें जलाय। तब ही मरने से डरे, सबसे सही [...]

बारिश के पर्यावरणीय दोहे

साहेबलाल 'सरल'
बरसो बरखा झूम के, अगन जलन कर दूर। हरीभरी धरती करो, फसल करो [...]

चोरी के दोहे

साहेबलाल 'सरल'
चोरी के दोहे चोरी की सापेक्षता, स्वारथ करती सिद्ध। पल में [...]

पारस कहु ले लान के…. छतीसगढ़ी दोहे

sushil yadav
लोकतंत्र के नाम ले ,पार डरो गोहार कुकुर ओतके भोकही ,जतके चाबी [...]

“जंगलराज”

राजेश शर्मा
आम नागरिक की परेशानियों को प्रतीकों के साथ गूँथ कर कुछ दोहे [...]

कुछ खोया कुछ पा लिया, बीत गया इक साल

लोधी डॉ. आशा 'अदिति'
कुछ खोया कुछ पा लिया, बीत गया इक साल आओ अब चिंतन करें, मिला [...]

कुछ नये दोहे

अमित मौर्य
1-- धन को काला कह रहे, देखो अपना रूप, लाइन वो भी लग रहे, कल तक जो [...]

मेरे 20 सर्वश्रेष्ठ दोहे

महावीर उत्तरांचली
ग़ज़ल कहूँ तो मैं 'असद', मुझमे बसते 'मीर' दोहा जब कहने लगूँ, [...]

सिमटी हैं कलियाँ अगर

RAMESH SHARMA
छोड़ रही हर क्षेत्र में , आज बेटियां छाप ! कहने वाले क्यूं कहें, [...]

ये अपना गणतंत्र

RAMESH SHARMA
कहलाता गणतंत्र का, दिवस राष्ट्रीय पर्व ! होता है इस बात का [...]

बेटियाँ

avadhoot rathore
बेटियाँ ठुमकत अँगना,तुतले-तुतले बोल, छम-छम पायल की छमक,छिन [...]

राजनीति के छल-कपट,

sushil yadav
संग तुम्हारा छोड़ के,कहीं न जाती नाथ गठबन्धन निभती रहे [...]

नशामुक्ति

डॉ.मनोज कुमार
भारत भर में हो सफल, नशामुक्ति अभियान | मानव की श्रृंखला से, [...]

दोहा

Santosh Nema
ईश्वर सबके साथ है,पकडे सच का हाथ वो त्यागता उन्हें जो,खड़े झूठ [...]

” फिर आ गए चुनाव”

RAMESH SHARMA
फिर आयी गति में स्वयं,,आरक्षण की नाव! निश्चित भारत वर्ष [...]

कथा के बैंगन

Gope Kumar
***************** कथा बाँचते एक दिन ** पंडित गोप कुमार बैंगन के अवगुन [...]

गोकुल मे गोपाल

RAMESH SHARMA
राधा से थीं पूछतीं , सखियाँ एक सवाल ! तुम्हे बुलाएं किसलिए, [...]

राजनीति मे भाग

RAMESH SHARMA
सेवा करने को चले,..बनकर सेवादार ! राजनीति का कर रहे,वो देखो [...]

खायी दिल पर चोट

RAMESH SHARMA
भँवर आज गहरा गया,.. ..खायी दिल पर चोट ! गई निकल कर साफ़ जब, इक कागज़ [...]