साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

दोहे

अखिलेश राहुल वार्ता

बसंत कुमार शर्मा
यू पी चुनाव में हार के बाद प्रश्न अखिलेश का किस मत ने किस्मत [...]

गाता राजस्थान

RAMESH SHARMA
कला क्षेत्र यह देश का,वीरों की है खान! मीरा के पावन भजन,..गाता [...]

साहब जी हैं व्यस्त

बसंत कुमार शर्मा
होते हैं सब भाग्य से, राजा रंक फ़क़ीर हरे परायी पीर जो, कहलाता [...]

भारतीय नव वर्ष की शुभकामनाएँ

कमलेश यादव
(१) नया वर्ष, नया हर्ष नयी उम्मीद, नयी सीख नयी ख़्वाहिशें, नयी [...]

भारत का नव वर्ष

RAMESH SHARMA
चैत्र शुक्ल की प्रतिपदा,करे सतत उत्कर्ष ! आता है इस रोज [...]

सात दोहे

Santosh Barmaiya
**************************************** जीवन पथ पर जो मिले , "जय" जीवन हो जाय। साथ-साथ, [...]

मानवता नीचे दबी

RAMESH SHARMA
नही बढेगा शर्तियां,वहां अधिक फिर क्लेश ! झगडा घरका रह गया,घर [...]

मेरी खामोशी उनको लगे गुरूर

RAMESH SHARMA
दूँ किसको अब दोष मैं,किसका कहूँ कसूर ! मेरी खामोशी उन्हें, [...]

चार दोहे

सोनू हंस
मेरे जीवन में नहीं, कोई भी इक आस। स्वाति बूँद मिले नहिं फिर, [...]

उमड पडे जज्बात

RAMESH SHARMA
दिल के मेरे आप ही,उमड पडें जज्बात! आती है जब भी कभी, यादों की [...]

***बेटी के दोहे***

Dr Meenaxi Kaushik
**बेटी के दोहे***** 1) बांटें खुशी जहान को,बोले मीठे बोल कन्या [...]

सुसंगति – दोहे

डी. के. निवातिया
दोहे मोल तोलकर बोलिये, वचन के न हो पाँव ! कोइ कथन बने औषधि, कोइ [...]

कविता दिवस

RAMESH SHARMA
कथ्य शिल्प रस के बिना,किये छंद कुछ पेश। खूब मनाया [...]

“पानी की महत्ता “(दोहा छंद)

ramprasad lilhare
"पानी की महत्ता"(दोहा छंद) 1. पानी की हर एक बूंद, हैं जीवन आधार। [...]

दोहा

मंजूषा मन
दोहा खेवनहारा आप ही, छोड़े जब मझधार। कैसे हो पाए कहो, जीवन [...]

चले राह पर धर्म की

RAMESH SHARMA
चले राह पर धर्म की,करे निरन्तर काम ! सूरज की तकदीर मे,कहाँ [...]

छू लेता हूँ होंठ से

RAMESH SHARMA
फागुन बीता भी नही,,लगा अखरने घाम! आगे आगे देखिए,....क्या होगा [...]

“ग्रामीण युवा (दोहा छंद)

ramprasad lilhare
"ग्रामीण युवा"(दोहा " 1. तुम ही उजल भविष्य हो, तुम ही गाँव कि [...]

मापदंड दुहरे हुए, ….राजनीति के आज

RAMESH SHARMA
हक़ तो वह होगी नहीं , और न होगी भीख ! छोटों से पायी हुई ,.... कोई [...]

प्रजातंत्र की मेज पर , उठने लगे सवाल !

RAMESH SHARMA
शिक्षा को सौदा समझ, करना मत व्यापार ! हर कन्या को दीजिये, [...]

आईना सा हो गया, उनका भी किरदार

RAMESH SHARMA
आईना सा हो गया, उनका भी किरदार ! आया जो भी सामने,हुआ उसी का यार [...]

इच्छाओं का काफिला, कब होता है शांत !!

RAMESH SHARMA
चाहे भारी भीड़ हो, ..या गुमसुम एकांत ! इच्छाओं का काफिला, कब होता [...]

इस होली रंग लो मुझे, साजन अपने रंग

लोधी डॉ. आशा 'अदिति'
खुशियाँ लेकर आ गया, होली का त्यौहार गाल रंगे गुलाल से, रंगों [...]

होली के दोहे

Dr.rajni Agrawal
होली पर दोहे [...]

रंगो का त्योंहार

RAMESH SHARMA
दिखे नहीं वो चाव अब, .रहा नहीं उत्साह ! तकते थे मिलकर सभी,जब [...]

होली हैं (दोहे)

ramprasad lilhare
" होली है"(दोहे) 1. खेलों सभी जन मिल के, होली का त्योहार। भेदभाव [...]

भू-जल संग्रह दोहावली

AWADHESH NEMA
धरती माँ की कोख में, जल के हैं भंडार । बूंद-बूंद को तड़प रहे, फिर [...]

उर का कान्हा…..

सतीश तिवारी 'सरस'
*चंद दोहे* कठिन स्वयं को जानना,सचमुच मेरे मीत. बिनु जाने ख़ुद [...]

नारी का सम्मान

RAMESH SHARMA
पेंडिंग हों जहँ रेप के, . केस करोड़ों यार ! तहँ रमेश महिला दिवस, [...]

फिर सात दोहे ।

राम केश मिश्र
बुधवार स्वतन्त्र दोहे --- ----------------फिर सात दोहे--------------- फूक फूक [...]