साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

दोहे

हल्का फुल्का लीजिए, गर्मी में आहार (दोहे)

RAMESH SHARMA
हल्का फुल्का लीजिए, गर्मी में आहार ! जल्दी से होंगे नहीं, आप [...]

योग

Dr Archana Gupta
1 सुख सुविधाओं का नहीं ,बनना कभी गुलाम तन को देकर कष्ट कुछ, [...]

प्यार भरा अहसास.

Ashok Kumar Raktale
रहे उदासी दूर ही,....जबतक माँ हो पास | माँ की ममता में छुपा, प्यार [...]

वृक्ष लगाओगे अगर , होंगे सब खुशहाल

Dr Archana Gupta
रहे तिरंगे से सजा , अपना भारत देश इसके रंगों में छिपे, सुन्दर [...]

किस्मत के दोहे

Archana Singh
मेरी किस्मत ले चली,अब जाने किस ओर। प्रभु हाथों में सौप दी,यह [...]

दोहे

निर्मला कपिला
सूरत से सीरत भली सब से मीठा बोल कहमे से पहले मगर शब्दों मे रस [...]

दोहे

निर्मला कपिला
कौन बिछाये बाजरा कौन चुगाये चोग देख परिन्दा उड गया [...]

दोहा

Vinod Kumar
लालच की होती नहीं,जग में कोई थाह। जो इसमें जितना गया,उतना हुआ [...]

दोहे

Deepshika Sagar
शब्द शब्द मुखरित हुआ, छंद छंद नव गीत, मन वीणा बजने लगी, [...]

प्रीत पर दोहे

Dr Archana Gupta
दोहे 1 हमने अपनी प्रीत पर ,लिखे यहाँ जो गीत सात सुरों में [...]

भोर

Dr Archana Gupta
बहुत पुराना रात दिन ,का आपस में बैर अपनी अपनी राह पर, करते [...]

कुछ दोहे (माँ)

Dr Archana Gupta
प्यार लिखा हर पृष्ठ पर ,माँ वो खुली किताब माँ के आँचल की महक, [...]