साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

दोहे

तुलसी महिमा

लक्ष्मी सिंह
🌹🌹🌹🌹 तुलसी भारत देश में, पूजनीय कहलाय। युग-युग से तुलसी [...]

गर्व नहीं करना

Rita Yadav
गर्व नहीं करना कभी, धन पर ऐ इंसान l कर जाता पल में प्रलय , [...]

दोहे

Pritam Rathaur
रक्षा बंधन के पर्व पर कुछ दोहे-- 1- बहुत मुबारक आपको, राखी का [...]

पूजन

Neelam Sharma
आज उठी उर पीर अति,नयन सजल मम होय। बीता जीवन बस तुम्हीं,बिलख [...]

पापा जैसा दूसरा, ..मिला नहीं धनवान

RAMESH SHARMA
माँगा जो भी आजतक,मिला वही सामान ! पापा जैसा दूसरा, ..मिला नहीं [...]

बिरले ही बनते यहाँ , तुलसी सूर कबीर

Dr Archana Gupta
1 घिस घिस कर पाषाण पर, हिना बिखेरे रंग तभी चमकते हम यहाँ,सहें [...]

विधा दोहे रक्षाबंधन

Sajoo Chaturvedi
भाई पिता समान है ,कहती भारतभूमि। प्यार भरे रिश्ते है ,हिन्द [...]

राखी का त्योहार

RAMESH SHARMA
उत्साहित है हर नगर ,शहर गली बाजार ! रक्षा बंधन का पुनित, आया है [...]

खोजूं सत्य चरित्त

RAMESH SHARMA
हुआ सुदामा सा कभी,,कब किसका सत्कार! कान्हा जैसा दूसरा,.....हुआ [...]

ये बंधन अनमोल

RAMESH SHARMA
रिश्तों के इतिहास मे, शोभित है भूगोल ! भ्राता भगिनी नेह के,,ये [...]

गये विरोधी काँप

RAMESH SHARMA
मंजर देख बिहार का,गये विरोधी काँप ! छाती पर ऐसे लगा,.लोट गया हो [...]

वक्त

लक्ष्मी सिंह
🌹🌹🌹🌹🌹 वक्त एक ऐसा गुरू, बिना कहे दे ज्ञान। जीवन में जीता [...]

सावन

Neelam Sharma
सावन दोहे हरित चुनर वसुधा सजे, कर सोलह श्रृंगार। छाती सावन [...]

राख

लक्ष्मी सिंह
🌹🌹🌹🌹🌹🌹 राख तन पे लगाय के, बसहा बैल सवार। शिव के दम पे है [...]

“अहंकार”दोहे

Dr.rajni Agrawal
"अहंकार" दोहे *********** अहंकार को त्याग दो, सर्प भाँति [...]

हरियाली तीज

RAMESH SHARMA
शुक्ल पक्ष की तीज यह , लाया सावन मास ! सखियाँ झूला झूलतीं,. ..मन [...]

“अहंकार” दोहे

Dr.rajni Agrawal
"अहंकार" दोहे *********** अहंकार को त्याग दो, सर्प भाँति [...]

झूठ बिके झटपट 🌹

Rita Yadav
पथ पर चलना सत्य के, कभी नहीं आसान l झूठ बिके झटपट यहां, सच की [...]

माँ

राजकिशोर मिश्र 'राज' प्रतापगढ़ी
बिनु माँ के सूनी धरा, सूना है संसार । ममता माता से सिखो, कहे [...]

शिव परिवार

Rita Yadav
बाधा डाले भक्ति में ,जो कोई इंसान l नष्ट उसे भी एक दिन, कर देते [...]

*आतंकवादी* दोहे

Dr.rajni Agrawal
"आतंकवादी" दोहे ********** (१) आतंकी सैलाब में,दैत्य चलाते नाव। [...]

“वाणी का महत्त्व” दोहे

Dr.rajni Agrawal
"वाणी का महत्त्व" दोहे *************** मुख चंदा तन चाँदनी,रूप सजा [...]

नीति के दोहे

अंकित शर्मा 'इषुप्रिय'
*दोहे* पचा रहे कल्मष कठिन, कलि के भोजन भट्ट। धर्म चीखता रह [...]

गुरुवर का सम्मान

RAMESH SHARMA
गुरु दिखलाये राह जब ,मिले नसीहत ज्ञान ! खिले उन्ही की सीख से, [...]

जान सके तो जान

RAMESH SHARMA
साप्ताहिक आयोजन 172 शनि-रवि ( 08-09 जुलाई ) समस्यापूर्ति चरण- "जान [...]

“गुरु की महिमा” दोहे

Dr.rajni Agrawal
"गुरु की महिमा" दोहे गुरु महिमा गुणगान कर,गुरु को दो [...]

प्रेम

Neelam Sharma
प्यार -प्रीत मत कीजिए ,प्रीत में दिल है रोय वो जाने दुख [...]

कभी दिखाएँ आँख

RAMESH SHARMA
कभी दिखाएँ आँख वो, कभी फुलाएँ गाल ! सच ने उनसे कर लिया, जब भी [...]

कब बदले तकदीर

RAMESH SHARMA
इंसानों की क्या पता, कब बदले तकदीर ! कौन ऋतू निर्धन करे, कर दे [...]

कुदरत की तासीर

RAMESH SHARMA
धँसती है धरती कहीं, कहीं बाढ की पीर ! समझेगा कब आदमी, कुदरत की [...]