साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

Sahitya

क्षणिका ** नाकाम कोशिश **

भूरचन्द जयपाल
बड़ी नाकाम कोशिश थी हमारी तुम्हें पत्थर से मोम बनाने की आज [...]

गजल : तुम मिले जो…………..👌👌👌

Radhey shyam Pritam
तेरी मोहब्बत के हम, गुलाम हो गए हैं। दिल के तमाम तुझे, सलाम हो [...]

हिंदी है भारत की बिंदी ( गीत) जितेंद्र कमल आनंद

Jitendra Anand
हिंदी है भारत की बिंदी, इसको लाल चमकने दें हिंदी है गरिमा [...]

ऑगन में भी चहके – महकें ( गीत) जितेंद्र कमल आनंद

Jitendra Anand
ऑगन में भी चहकें- महकें । अमृत भर गागर से छलकें ।। अच्छाई को [...]

मेरे स्वर संगम सँग वीणा अंतरमन ने ( गीत) जितेंद्रकमलआनंद

Jitendra Anand
मेरे स्वर संगम सँग वीणा अन्तर्मन ने आज बजायी । तेरे अंतस के [...]

रंग सारे छोडकर ( गीत) जितेंद्र कमल आनंद

Jitendra Anand
रंग सारे छोडकर , हम हंस हो गये । रंग सारे ग्रहण कर तुम श्याम हो [...]

अलसायी सी सुबह

रीतेश माधव
आज अलसायी सी सुबह है, उचटा सा मन है न लिखने को शब्द हैं न कोई [...]

गुल खिलते हैं पर उनको खिलकर मुरझाना पड़ता है

Dr Archana Gupta
गुल खिलते हैं पर उनको खिलकर मुरझाना पड़ता है काँटों में रहते [...]

जख्म

शिवम राव मणि
क्या बताऊँ क्या हुआ है साथ, बस एक कश्ति-सी चल रही थी बाँट भी ना [...]

अक्षय तृतीया

Dr Anil Kumar Kori
अक्षय तृतीया के दिन गुड्डे गुड़िया का विवाह मेरी बिटिया ने [...]

यादें~३

कमलेश यादव
आज पूछतीं हुँ सपने से आज पूछतीं हुँ तुमसे क्या तुम्हें याद [...]

मुक्तक

MITHILESH RAI
तेरा ख्याल जब भी बार-बार आता है! दिल में बेचैनी का किरदार आता [...]

क्योंकि,मैं जो हूँ स्वतः हूँ..!

रीतेश माधव
क्योंकि,मैं जो हूँ स्वतः हूँ..! स्वयं रचता हूँ स्वयं पढता [...]

खोलो उर के द्वार बंद ऑखों को खोलो ( गीत )

Jitendra Anand
खोलो उर के द्वार, बंद ऑखों को खोलो ! निखिल विश्व का प्यार [...]

कविता : हुआ अपेक्षित है आवश्यक

Jitendra Anand
हुआ अपेक्षित है आवश्यक,सद् मारग पर तुमको चलना। परहितार्थ [...]

सुप्त तरुण, निज मातृभूमि को हीन बनाकर के विभेद दें

Brijesh Nayak
आत्मशुद्धिमय सजग सिपाही, बनकर युवजन लक्ष्य भेद दें| बिना [...]

😂😂 हास्य 😁 गीत 😂😂

Tejvir Singh
😂😂 हास्य 😂 गीत 😂😂 इस *दिले नादान* ने मुझपे कहर बरपा दिया। वो [...]

जिन्दगी

Raj Vig
माया के चक्र मे भ्रमित है हर इक जिन्दगी अधूरी इच्छाओं से [...]

गजल : वो लोग…………..👌👌👌

Radhey shyam Pritam
मेरी शख्सियत की शिनाख्त करते हैं जो लोग। मेरी जिन्दगी की [...]

कहिए, कितने सुखी है आप

सदानन्द कुमार
सम्मुख करू प्रस्तुत, एक प्रश्न मै आज किस माथे है मानव का [...]

दहेज़ एक अभिशाप

नीरज द्विवेदी
मैं करुण वंदना करता हूँ ऐ प्रभु इसे स्वीकार करो सृजनकर्ता [...]

अक्षय तृतीया पर्व

Tejvir Singh
🙏 आज की साधना 🙏 🌹🌻🌺 जलहरण घनाक्षरी 🌺🌻🌹 🌴 शिल्प - 8888 चरणान्त [...]

जरुरत ही क्या जख्मों को कुरेदने की…

शालिनी साहू
जरूरत ही क्या उन जख्मों को फिर से कुरेदने की! जिनका [...]

“मधुशाला”

Dr.rajni Agrawal
"मधुशाला"(माहिया छंद, विधा-२२२२२२ २२२२२ २२२२२२,पहली तीसरी [...]

तब तुम लौट आना पिय।

डॉ. शिव
फूलों से लद जाये उपवन, भ्रमर सब गुन गुनगायें। सुगंध बहकाये [...]

मित्रता का बीज

लक्ष्मी सिंह
🌹🌹🌹🌹 मित्रता का बीज दो क्यारियों में एक ही वेग से उगता है, [...]

रमेशराज की गीतिका छंद में ग़ज़लें

कवि रमेशराज
--------------------------------------------------------- || गीतिका छंद में ग़ज़ल || उर्दू में इसकी [...]

रमेशराज की तीन ग़ज़लें

कवि रमेशराज
|| ग़ज़ल ||--1 घनी उदासी अपने पास बुझी नहीं अधरों की प्यास। भले न [...]

ग़ज़ल

कवि रमेशराज
उधर अगर लब पर मुस्कान इधर बसा अन्दर तूफान। मीत मोम-सा, अजब [...]

रमेशराज की कहमुकरी संरचना में 10 ग़ज़लें

कवि रमेशराज
कहमुकरी संरचना में ग़ज़ल ---1 ------------------------------------------ प्यारा उसे लगे [...]