साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

Author: विजय कुमार सिंह

विजय कुमार सिंह
Posts 9
Total Views 412
नाम : विजय कुमार सिंह पिता : स्वर्गीय राम नारायण प्रसाद माता : स्वर्गीय सीता मणि देवी जन्म वर्ष : १९६७ जन्मस्थान : पटना, बिहार, भारत शिक्षा : स्नातक दिल के भावों को लेखनी का सहारा है, समाज को बेहतर बनाना कर्तव्य हमारा है. आइये आपका स्वागत है हमारे लेखन के दरबार में, पलकें बिछाए बैठे हैं हम आपके इंतज़ार में. vijaykumarsinghblog.wordpress.com

विधाएं

गीतगज़ल/गीतिकाकवितामुक्तककुण्डलियाकहानीलघु कथालेखदोहेशेरकव्वालीतेवरीहाइकुअन्य

बनवारी (मत्तगयंद छंद सवैया)

गोकुल ग्राम सजै जब केशव बाँसुरिया धुन बाजत प्यारी संग सखी सब [...]

स्वच्छ मन

मन के बंधन खोलिये, जगत लीजिये जीत I नहीं किसी से बैर हो, रखिये [...]

चुनावी शतरंज

तू डाल डाल चले तो मैं चलूँ पात पात राजनीति में क्या घात क्या [...]

राम की राजनीति

राजनीति के राम को, मिला बाण का संग I ऊँची सोच से पहले, दोनों ही [...]

ट्रम्प का शपथ

धुन चले स्वदेशी की, थामे मोदी डोर I ट्रम्प का तड़का पाकर, ख़ुशी [...]

नर-नारी

नारी नर जब मिल चलें, जीवन वाहन रूप I सब राह मिल पार करें, कठिन [...]

साइकिल

पिता पुत्र के कोप में, अब आ गया चुनाव I एक एक चक्का पकड़, साइकिल [...]

जननी जन्म से वंचित क्यों ?

दोहा गर्भ में नहीं मारिये, जगजननी का रूप I बिटिया घर को [...]

गुरु गोविन्द सिंह चालीसा

दोहा गुरु को नमन कीजिये, महिमा होय अपार I प्रकाशपर्व कि बेला, [...]