साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

Author: vivek saxena

vivek saxena
Posts 8
Total Views 71

विधाएं

गीतगज़ल/गीतिकाकवितामुक्तककुण्डलियाकहानीलघु कथालेखदोहेशेरकव्वालीतेवरीहाइकुअन्य

ग़ज़ल

पेट जब गीत गुन गुनाता है आदमी ज्ञान भूल जाता है मुश्किलों [...]

प्यारे

जिंदगी की किताब में प्यारे क्या क्या आया हिसाब में [...]

दर्दे दिल अपनों से बाँटें

दर्दे दिल अपनों से बाँटें पर अपनों को कैसे छांटें रही [...]

बताओ का करिए

बेजा पर रओ घाम, बताओ का करिए कैसे हूँ हैं काम बताओ का बताओ का [...]

जिंदगी में गलतियों से सीखते चलो

जिंदगी में गलतियों से सीखते चलो जीत की उड़े फुहार भीगते [...]

हिंदी

जन जन की है भाषा हिंदी भारत की अभिलाषा हिंदी विश्व पटल पर कदम [...]

क्षणिकायें

खजाना उसकी तरक्की को दुनिया ने माना है जिसके पास उम्मीद का [...]

विवेक सक्सेना के दोहे

उनसे क्या निभ पायेंगे,प्रेम, प्रीत,संबंध। जिनको भाती ही [...]