साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

Author: umesh mehra

umesh mehra
Posts 13
Total Views 238

विधाएं

गीतगज़ल/गीतिकाकवितामुक्तककुण्डलियाकहानीलघु कथालेखदोहेशेरकव्वालीतेवरीहाइकुअन्य

युद्ध गीत

गीदड़ भभकी कब तक देंगे । अब तो शीश धरा पे बिछायेगे ।। पौरूष [...]

बिखरे अरमान

तृण तृण करके नीड़ बनाया,बना है कितना सोना । अरमानो को पंख [...]

असलियत

भरोसा था कि आइना बतायेगा मुझे फितरत उनकी । बड़ा ही शातिर [...]

बहुत उदास है दिल

बहुत उदास है दिल, आप जाने सुकून बन जाओ। [...]

बैसाख महीना

आया गरम बैसाख महीना,धरती तपती आग के जैसे । नदिया सूखी कंठ भी [...]

अलहड़ बेटी

मैं अलबेली अलहड़ बेटी ,हूँ मैं बड़ी सयानी । घर ऑगन की शोभा [...]

मुसाफिर

हम तो है मुसाफिर न घर है न ठिकाना । मुफलिस हैं मगर सब कहते हैं [...]

चिरागे इश्क

जाओ न मुझसे दूर मुलाकात कीजिए ।। आओ क़रीब बैठकर कुछ बात [...]

बदली हुई हवा है

बदल रही है देश की तकदीर धीरे-धीरे । फहरा रहा है हिन्द का [...]

प्रेम रंग मैं

प्रेम रंग में रंगी चुनरिया, दूजा रंग चढे अब कैसे । मैं तो हो [...]

मेरा हमसफ़र

हमसफ़र तू हमनफस तू, दोस्त है तू जिंदगी का । हमराज तू हमराह [...]

अधूरे ख्वाब

कुछ आरज़ू अधूरी है कुछ ख्वाब अभी बाकी है । जिंदगी है थोड़ी और [...]

कलाम ए शूफियाना

हर शै में मेरे पीर का नूर नज़र आता है। जर्रे जर्रे में बस [...]