साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

Author: Shubha Mehta

Shubha Mehta
Posts 15
Total Views 687

विधाएं

गीतगज़ल/गीतिकाकवितामुक्तककुण्डलियाकहानीलघु कथालेखदोहेशेरकव्वालीतेवरीहाइकुअन्य

उड़ता पंछी

मैं , उड़ता पंछी दूर -दूर उन्मुक्त गगन तक फैलाकर अपनी [...]

सवेरा

उठो ,जागो मन हुआ नया सवेरा आ गए आदित्य लिए आशा किरन नई [...]

जिंदगी

जिंदगी क्या है ? समझ न पाई कभी लगती है कभी अबूझ पहूली सी [...]

दीपावली

लो आई फिर दीपावली चलो ,इस बार मन के किसी कोने में दीप [...]

मेरा बचपन

वो बस्ता लेकर भागना सखी सहेलियों से कानाफूसियाँ भागदौड [...]

पिंजरे की मैना

पिंजरे की मैना ये किसे सुनाये दास्ताँ दिल की कितनी खुश थी [...]

दूसरा पहलू

देखा पलट के पीछे की ओर था नज़ारा वहाँ कुछ और होठों पे थी [...]

मन

उड़ चल रे मन कर ले अपने सपनों को पूरा देखे थे जो तूने कभी मत [...]

फर्क

बंगले में रहने वाली मेमसाब से पूछा महाराज ने आज क्या [...]

संज्ञा

जी हाँ, संज्ञा हूँ मैं। व्यक्ति या वस्तु? कभी-कभी ये बात [...]

रिश्ते

बडे़ अजीब होते हैं रिश्ते कुछ बने बनाए मिलते हैं तो कुछ [...]

लोग

बंद किवाड़ो की दरारों से झाँकते लोग दीवारों से कान [...]

बंधन

रक्षा का बंधन बंधन अनोखा शहद में भीगा मीठा-मीठा [...]

झूला

एक वृक्ष कटा साथ ही कट गई कई आशाएँ कितने घोंसले [...]

वक्त

ये तो वक्त -वक्त की बात है कभी मिलता है ,तो कभी मिलाता है [...]