साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

Author: त्रिलोक सिंह ठकुरेला

त्रिलोक सिंह ठकुरेला
Posts 10
Total Views 322
त्रिलोक सिंह ठकुरेला कुण्डलिया छंद के सुपरिचित हस्ताक्षर हैं.कुण्डलिया छंद को नये आयाम देने में इनका अप्रतिम योगदान है.

विधाएं

गीतगज़ल/गीतिकाकवितामुक्तककुण्डलियाकहानीलघु कथालेखदोहेशेरकव्वालीतेवरीहाइकुअन्य

गांव तरसते हैं…

सुविधाओं के लिए अभी भी गांव तरसते हैं। सब कहते इस [...]

आशाओं की कस्तूरी…

1. कोसते रहे समूची सभ्यता को बेचारे भ्रूण 2. दौड़ाती [...]

कुछ दोहे…

फँसी भंवर में जिंदगी, हुए ठहाके मौन । दरवाजों पर बेबशी, टांग [...]

कब आओगे

अनगिनत दुःशासन चीरहरण करते वसुधा का, आँचल रोज सिमटता [...]

देश हमारा

सुखद, मनोरम, सबका प्यारा। हरा, भरा यह देश हमारा॥ नई सुबह ले [...]

कुण्डलिया कैसे लिखें…

त्रिलोक सिंह ठकुरेला जी द्वारा -- "कुण्डलिया कैसे [...]

प्रिये ! मैं गाता रहूंगा…

यदि इशारे हों तुम्हारे, प्रिये ! मैं गाता रहूंगा. प्रेम-पथ का [...]

समय की पगडंडियों पर

समय की पगडंडियों पर चल रहा हूँ मैं निरंतर कभी दाएँ , कभी [...]

पिता

पिता ! आप विस्तृत नभ जैसे, मैं निःशब्द भला क्या बोलूं. देख [...]

कुण्डलियाँ

अपनी अपनी अहमियत, सूई या तलवार । उपयोगी हैं भूख में, केवल [...]