साहित्यपीडिया पर अपनी रचनाएं प्रकाशित करने के लिए यहाँ रजिस्टर करें- Register
अगर रजिस्टर कर चुके हैं तो यहाँ लोगिन करें- Login

Author: Rashmi Singh

Rashmi Singh
Posts 6
Total Views 176

विधाएं

गीतगज़ल/गीतिकाकवितामुक्तककुण्डलियाकहानीलघु कथालेखदोहेशेरकव्वालीतेवरीहाइकुअन्य

इंतज़ार

अक्सर तुम कहा करते थे कि तुम सीधे सीधे शब्दों का इस्तेमाल [...]

प्रथम स्पर्श

आसमान के तले जब हम चाँद संग चले ख़्वाबो सा था वो शमाँ जब तेरी [...]

मैं क्यू लिखा करती हूँ

यादों के गुलदस्ते से निकल कर जब खुद से रूबरू होती हूँ अक्सर [...]

तलाक

न उलझी थी न सुलझी थी जब हम प्रेम पाश में बंधे थे की अब कोई [...]

एक कहानी मेरी भी लिखना

#कभी_मौका_मिले_तो मेरी भी एक कहानी लिखना की मैं टुकड़ो टुकड़ो [...]

क्यू तुमने मुँह फेर लिया

सर्द रात जब तुम असहाय पीड़ा में थी मेरी किलकारी ने तुम्हारे [...]